image_print

सौ. सुजाता काळे

(सौ. सुजाता काळे जी  मराठी एवं हिन्दी की काव्य एवं गद्य विधा की सशक्त हस्ताक्षर हैं। वे महाराष्ट्र के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कोहरे के आँचल – पंचगनी से ताल्लुक रखती हैं।  उनके साहित्य में मानवीय संवेदनाओं के साथ प्रकृतिक सौन्दर्य की छवि स्पष्ट दिखाई देती है। आज प्रस्तुत है  सौ. सुजाता काळे जी  द्वारा  प्रकृति के आँचल में लिखी हुई एक अतिसुन्दर भावप्रवण  कविता  “अमलतास ”। )

☆ साप्ताहिक स्तम्भ ☆ कोहरे के आँचल से # 38 ☆

  ☆ अमलतास 

 

पीतांबर है या

पहनी अंशुमालाएँ?

या किरणों का

उत्सर्ग हुआ ।

 

गदराया है,

सोना पेड़ पर

या मौसम ही

सोने सा हुआ।

 

कोई कहे

जादु हुआ है,

या कोई कहे

यह गजब हुआ ।

 

© सुजाता काळे

पंचगनी, महाराष्ट्र, मोबाईल 9975577684

sujata.kale23@gmail.com

image_print
0 0 vote
Article Rating

Please share your Post !

0Shares
0
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments