image_print

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ सुश्री नीलम सक्सेना चंद्रा जी का काव्य संसार # 33 ☆ कोरोना ☆ सुश्री नीलम सक्सेना चंद्रा

सुश्री नीलम सक्सेना चंद्रा (सुश्री नीलम सक्सेना चंद्रा जीसुप्रसिद्ध हिन्दी एवं अङ्ग्रेज़ी की  साहित्यकार हैं। आप अंतरराष्ट्रीय / राष्ट्रीय /प्रादेशिक स्तर  के कई पुरस्कारों /अलंकरणों से पुरस्कृत /अलंकृत हैं । हम आपकी रचनाओं को अपने पाठकों से साझा करते हुए अत्यंत गौरवान्वित अनुभव कर रहे हैं। सुश्री नीलम सक्सेना चंद्रा जी का काव्य संसार शीर्षक से प्रत्येक मंगलवार को हम उनकी एक कविता आपसे साझा करने का प्रयास करेंगे। आप वर्तमान में  एडिशनल डिविजनल रेलवे मैनेजर, पुणे हैं। आपका कार्यालय, जीवन एवं साहित्य में अद्भुत सामंजस्य अनुकरणीय है।आपकी प्रिय विधा कवितायें हैं। आज प्रस्तुत है आपकी  कविता “ कोरोना ”। ) ☆ साप्ताहिक स्तम्भ ☆ सुश्री नीलम सक्सेना चंद्रा जी का काव्य संसार # 33☆ ☆  कोरोना ☆ यह जो बढे ही जा रही थीं इंसान से इंसान के बीच की दूरियाँ, उसे और बढ़ा रहा है अब यह कोरोना का आतंक!   यूँ ही आदमी अब किसी और से हाथ मिलाने में कतराता था, उसे अब रखना ही होगा एक मीटर का फ़ासला, अपने मूंह पर नकाब लगाए चोरों सा चलना होगा, और एक दूसरे के घर जाना तो बंद ही हो जाएगा!   किसी की तबियत...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य ☆ कलजुग है सांतिबाबू, कोरोना फिर तो आयेगाई ☆ श्री शांतिलाल जैन

श्री शांतिलाल जैन  (आदरणीय अग्रज एवं वरिष्ठ व्यंग्यकार श्री शांतिलाल जैन जी विगत दो  दशक से भी अधिक समय से व्यंग्य विधा के सशक्त हस्ताक्षर हैं। आपकी पुस्तक  ‘न जाना इस देश’ को साहित्य अकादमी के राजेंद्र अनुरागी पुरस्कार से नवाजा गया है। इसके अतिरिक्त आप कई ख्यातिनाम पुरस्कारों से अलंकृत किए गए हैं। इनमें हरिकृष्ण तेलंग स्मृति सम्मान एवं डॉ ज्ञान चतुर्वेदी पुरस्कार प्रमुख हैं। आज  प्रस्तुत है श्री शांतिलाल जैन जी का एक सटीक  व्यंग्य   “कलजुग है सांतिबाबू, कोरोना फिर तो आयेगाई”।  इस व्यंग्य को पढ़कर निःशब्द हूँ।  श्री शांतिलाल जी की तीक्ष्ण व्यंग्य दृष्टि  से कोई भी ऐसा पात्र नहीं बच सकता ,जिस  पात्र के चरित्र को वे अत्यंत सहजता से  अपनी  मौलिक शैली में  रच डालते हैं। हम और आप  उस पात्र को  मात्र परिहास का पात्र समझ कर भूल जाते  हैं। फिर मालवी भाषा की मिठास को तो श्री शांतिलाल जी  की कलम से पढ़ने का  आनंद ही कुछ और है। श्री शांतिलाल जैन जी के प्रत्येक व्यंग्य पर टिप्पणी करने के जिम्मेवारी पाठकों पर है ।...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ संजय उवाच – #44 ☆ रंगमंच और मुखौटे (कोरोनावायरस और हम – 5) ☆ श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज  (“साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच “ के  लेखक  श्री संजय भारद्वाज जी – एक गंभीर व्यक्तित्व । जितना गहन अध्ययन उतना ही  गंभीर लेखन।  शब्दशिल्प इतना अद्भुत कि उनका पठन ही शब्दों – वाक्यों का आत्मसात हो जाना है।साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं। श्री संजय जी के ही शब्दों में ” ‘संजय उवाच’ विभिन्न विषयों पर चिंतनात्मक (दार्शनिक शब्द बहुत ऊँचा हो जाएगा) टिप्पणियाँ  हैं। ईश्वर की अनुकम्पा से इन्हें पाठकों का  आशातीत  प्रतिसाद मिला है।” हम  प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक पहुंचाते रहेंगे। आज प्रस्तुत है  इस शृंखला की अगली  कड़ी । ऐसे ही साप्ताहिक स्तंभों  के माध्यम से  हम आप तक उत्कृष्ट साहित्य पहुंचाने का प्रयास करते रहेंगे।) ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच # 44 – रंगमंच और मुखौटे  ☆ 'कोरोनावायरस और हम'  शृंखला का भाग-5 'ऑल...
Read More

English Literature ☆ Weekly Column – Abhivyakti # 12 ☆ The Market of Life! ☆ Hemant Bawankar

Hemant Bawankar (All of the literature written by me was for self satisfaction. Now I started sharing them with you all. Every person has two characters. One is visible and another is invisible. This poem shows us mirror.  Today, I present my poem ‘The Market of Life! ’. This poem has been cited from my book “The Variegated Life of Emotional Hearts”.)) My introduction is available on following links. परिचय  Amazon Author Central  – Hemant Bawankar  ☆ Weekly Column – Abhivyakti # 12 ☆ ☆ The Market of Life! ☆ The world is a market of life!   New lives born to sell. Old lives destroyed and thrown away from the throne.   None knows the mentality of ones.   Some say old is gold some say new to sold.   Requirement of new was too much so they purchased me fully when I was new.   Now, I am feeling I have nothing of mine. Body and soul; thoughts and mind; pulse and heart; each and everything is of customer My Master! My Lord! My God! and... his highness!   I’m sold thus I’m soldier ... of LIFE!   © Hemant Bawankar, Pune 26th August 1977...
Read More

हिन्दी साहित्य – ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक साहित्य # 40 ☆ परदेश में कोरोना पर दौहित्र को एक नाना की खुली चिट्ठी ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’  (प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ जी के साप्ताहिक स्तम्भ – “विवेक साहित्य ”  में हम श्री विवेक जी की चुनिन्दा रचनाएँ आप तक पहुंचाने का प्रयास करते हैं। श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र जी, अतिरिक्त मुख्यअभियंता सिविल  (म प्र पूर्व क्षेत्र विद्युत् वितरण कंपनी , जबलपुर ) में कार्यरत हैं। तकनीकी पृष्ठभूमि के साथ ही उन्हें साहित्यिक अभिरुचि विरासत में मिली है।  उनका कार्यालय, जीवन एवं साहित्य में अद्भुत सामंजस्य अनुकरणीय है। आज प्रस्तुत है श्री विवेक जी का  एक भावनात्मक पत्र    “परदेश में कोरोना पर दौहित्र को एक नाना की खुली चिट्ठी”।  मानवता के अदृश्य शत्रु  से युद्ध में  हम सभी  परिवार के सदस्य / मित्र गण तकनीकी रूप  (ऑडियो / वीडियो )  से पहले से ही नजदीक  थे किन्तु भौतिक रूप से ये दूरियां बढ़ गई हैं । हम अपने घर /देश में कैद हो गए हैं।  आशा है कोई न कोई वैज्ञानिक हल शीघ्र  ही निकलेगा और हम फिर से पहले  जैसा जीवन जी...
Read More

मराठी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ श्री अशोक भांबुरे जी यांची कविता अभिव्यक्ती # 44 ☆ चंद्रकोर ☆ श्री अशोक श्रीपाद भांबुरे

श्री अशोक श्रीपाद भांबुरे (वरिष्ठ मराठी साहित्यकार श्री अशोक श्रीपाद भांबुरे जी का अपना  एक काव्य  संसार है । आप  मराठी एवं  हिन्दी दोनों भाषाओं की विभिन्न साहित्यिक विधाओं के सशक्त हस्ताक्षर हैं। आज साप्ताहिक स्तम्भ  –अशोक भांबुरे जी यांची कविता अभिव्यक्ती  शृंखला  की अगली  कड़ी में प्रस्तुत है असमय भयावह वर्षा पर आधारित रचना  “चंद्रकोर”।) ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – अशोक भांबुरे जी यांची कविता अभिव्यक्ती # 44 ☆ ☆ चंद्रकोर ☆   पाणी पाणी ओरडत राती उठलं शिवार कसा अंधाऱ्या रातीला आला पावसाला जोर   वीज कडाडली त्यात आणि विझली ही वात धडधडते ही छाती भीती दाटलेली आत झोप उडाली घराची जागी रातभर पोरं कसा अंधाऱ्या रातीला...   मेघ रडवेला झाला कुणी डिवचल त्याला गडगड हा लोळला ओला चिंब केला पाला त्याला शांतवण्यासाठी बघा नाचला हा मोर कसा अंधाऱ्या रातीला...   चंद्र होता साक्ष देत शुभ्र होतं हे आकाश क्षणभरात अंधार कुठं गेला हा प्रकाश काळ्या ढगानं झाकली कशी होती चंद्रकोर कसा अंधाऱ्या रातीला...   डोळ्यांसमोर तरळे जसा कापसाचा धागा एका दिसात टाचल्या त्यानं धरतीच्या भेगा इंद्र देवाने सोडला वाटे जादूचा हा दोर कसा अंधाऱ्या रातीला...   जाऊ पावसाच्या गावा सोडू कागदाच्या नावा नावेमधे हा संदेश ठेवा लक्ष...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ श्रीमति सिद्धेश्वरी जी का साहित्य # 41 – लघुकथा – गणगौर ☆ श्रीमति सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’

श्रीमती  सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’ (संस्कारधानी जबलपुर की श्रीमति सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’ जी की लघुकथाओं, कविता /गीत का अपना संसार है। । साप्ताहिक स्तम्भ – श्रीमति सिद्धेश्वरी जी का साहित्य  शृंखला में आज प्रस्तुत हैं उनकी एक समसामयिक लघुकथा  “गणगौर”।  अभी हाल ही में गणगौर पूजा संपन्न हुई है और ऐसे अवसर पर  श्रीमती सिद्धेश्वरी जी की यह  एक  सार्थक एवं  शिक्षाप्रद कथा है  जो हमें सिखाता है कि कितना भी कठिन समय हो धैर्य रखना चाहिए। ईश्वर उचित समय  पर उचित अवसर अवश्य देता है । इस सर्वोत्कृष्ट समसामयिक लघुकथा के लिए श्रीमती सिद्धेश्वरी जी को हार्दिक बधाई।)  ☆ श्रीमति सिद्धेश्वरी जी  का साहित्य # 41☆ ☆ लघुकथा  – गणगौर ☆ नवरात्रि के तीसरे दिन गणगौर माता की पूजा होती है। कहते हैं  कि सौभाग्य की देवी को, जितना अधिक सौभाग्य की वस्तुएं चढ़ाकर बांट दिया जाता है। उतना ही अधिक पतिदेव की सुख समृद्धि बढ़ती है। गांव में एक ऐसा घर जहां पर सासु मां का बोलबाला था। अपने इकलौते बेटे की शादी के बाद, बहू को अपने तरीके से...
Read More

हिन्दी साहित्य- कविता / दोहे ☆ आचार्य सत्य नारायण गोयनका जी के दोहे #34 ☆ प्रस्तुति – श्री जगत सिंह बिष्ट

आचार्य सत्य नारायण गोयनका (हम इस आलेख के लिए श्री जगत सिंह बिष्ट जी, योगाचार्य एवं प्रेरक वक्ता योग साधना / LifeSkills  इंदौर के हृदय से आभारी हैं, जिन्होंने हमारे प्रबुद्ध पाठकों के लिए ध्यान विधि विपश्यना के महान साधक – आचार्य सत्य नारायण गोयनका जी के महान कार्यों से अवगत करने में  सहायता की है। आप  आचार्य सत्य नारायण गोयनका जी के कार्यों के बारे में निम्न लिंक पर सविस्तार पढ़ सकते हैं।) आलेख का  लिंक  ->>>>>>  ध्यान विधि विपश्यना के महान साधक – आचार्य सत्य नारायण गोयनका जी  Shri Jagat Singh Bisht (Master Teacher: Happiness & Well-Being, Laughter Yoga Master Trainer, Author, Blogger, Educator, and Speaker.) ☆  कविता / दोहे ☆ आचार्य सत्य नारायण गोयनका जी के दोहे # 34 ☆ प्रस्तुति – श्री जगत सिंह बिष्ट ☆  (हम  प्रतिदिन आचार्य सत्य नारायण गोयनका  जी के एक दोहे को अपने प्रबुद्ध पाठकों के साथ साझा करने का प्रयास करेंगे, ताकि आप उस दोहे के गूढ़ अर्थ को गंभीरता पूर्वक आत्मसात कर सकें। ) आचार्य सत्य नारायण गोयनका जी के दोहे बुद्ध वाणी...
Read More

आध्यत्म/Spiritual ☆ श्रीमद् भगवत गीता – पद्यानुवाद – एकादश अध्याय (26-27) ☆ प्रो चित्र भूषण श्रीवास्तव ‘विदग्ध’

श्रीमद् भगवत गीता हिंदी पद्यानुवाद – प्रो चित्र भूषण श्रीवास्तव ‘विदग्ध’ एकादश अध्याय (अर्जुन द्वारा भगवान के विश्वरूप का देखा जाना और उनकी स्तुति करना )   मी च त्वां धृतराष्ट्रस्य पुत्राः सर्वे सहैवावनिपालसंघैः । भीष्मो द्रोणः सूतपुत्रस्तथासौ सहास्मदीयैरपि योधमुख्यैः ।।26।। वक्त्राणि ते त्वरमाणा विशन्ति दंष्ट्राकरालानि भयानकानि । केचिद्विलग्ना दशनान्तरेषु सन्दृश्यन्ते चूर्णितैरुत्तमाङ्‍गै ।।27 ।। सभी पुत्र धृतराष्ट्र के , नृपति जो रत संग्राम भीष्म द्रोण सह कर्ण सम योद्धा कई अनाम ।। 26 ।। दिखते घुसते मुखों में जिनमें दाँत कराल कुछ पिस गये , कुछ अधचबे , बड़ा बुरा है हाल ।।27 ।।   भावार्थ :  वे सभी धृतराष्ट्र के पुत्र राजाओं के समुदाय सहित आप में प्रवेश कर रहे हैं और भीष्म पितामह, द्रोणाचार्य तथा वह कर्ण और हमारे पक्ष के भी प्रधान योद्धाओं के सहित सबके सब आपके दाढ़ों के कारण विकराल भयानक मुखों में बड़े वेग से दौड़ते हुए प्रवेश कर रहे हैं और कई एक चूर्ण हुए सिरों सहित आपके दाँतों के बीच में लगे हुए दिख रहे हैं।। 26-27 ।।   All the sons of Dhritarashtra with the hosts of...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ सामाजिक चेतना – #42 ☆ न करो कैद पिंजरे में ☆ सुश्री निशा नंदिनी भारतीय

सुश्री निशा नंदिनी भारतीय  (सुदूर उत्तर -पूर्व  भारत की प्रख्यात  लेखिका/कवियित्री सुश्री निशा नंदिनी जी  के साप्ताहिक स्तम्भ – सामाजिक चेतना की अगली कड़ी में  प्रस्तुत है  पिंजरे में कैद एक पंछी की व्यथा  जिसे हम आज महसूस कर सकते हैं  अपने घरों में कैद उसी पंछी की तरह । एक अतिसुन्दर  समसामयिक कविता  “न करो कैद पिंजरे में ”। आप प्रत्येक सोमवार सुश्री  निशा नंदिनी  जी के साहित्य से रूबरू हो सकते हैं।) ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – सामाजिक चेतना  #42 ☆ ☆  न करो कैद पिंजरे में ☆   बहुत समझाया था न करो कैद पिंजरे में पर तुम्हें तो मुझे पिंजरे में बंद देख आनंद लेना था। मेरे रंग-बिरंगे पंखों को कतर- कतर कर अपनी जागीर बनाना था। प्रकृति से खिलवाड़ करके अपनी सुख सुविधाएं जुटा मगन होना था। अपनी शक्ति का दुरुपयोग करके मनुष्यत्व को आजमाना था।   मेरे खुले वृक्षों का बसेरा छीन क्या पाया तुमने ? तुम बैठे महलों में अपने तरस रहे प्राण वायु को। और मैं तड़प रही आजादी को हम दोनों ही घुट-घुट कर जी रहे हैं। पर तुमने- पिंजरे की सलाखों के अंदर की बेचैनी को नहीं महसूसा। समय...
Read More
image_print