1

संस्थाएं – “LifeSkills”, Indore

(LifeSkills is a mission of Bisht couple (Shri Jagat Singh Bisht and Smt. Radhika Jagat Bisht) that creates a pathway to authentic happiness, well-being and a fulfilling life with objective to provide skills that make life happier, meaningful and worth living.  LifeSkills equips us with sustainable scientific tools to cultivate a happy and fulfilling life with a greater sense of well-being.)

LifeSkills

(A Pathway to Authentic Happiness, Well-being and a Fulfilling Life)

 Do you want to be happier? Would you like to increase your well-being and flourish? We help you do that!

 Let us begin with a quick overview by watching this short video:

 

What is LifeSkills?

LifeSkills is a pathway to authentic happiness, well-being and a fulfilling life.

Our objective is to provide skills that make life happier, meaningful and worth living.

LifeSkills equips you with sustainable scientific tools to cultivate a happy and fulfilling life with a greater sense of well-being.

What do you do?

We conduct:

  • Retreats
  • Workshops
  • Seminars
  • Talks
  • Trainings
  • One-On-One Coaching

For Individuals, Institutions, Communities, Workplaces & Organisations.

What are the foundations of your programmes?

The foundations of our programmes are:

  • Positive Psychology
  • Meditation
  • Yoga
  • Laughter Yoga
  • Spirituality

What is your vision and mission?

  • We help you to flourish by enabling you to discover your signature strengths and virtues and deploy them in three great arenas of life: work, love and parenting.
  • Our mission is to propagate positive life skills to help people flourish.
  • Our guiding spirit is “bhavatusabbamangalam” which means: May all beings be happy!

What is the content of your programmes?

Our programmes include:

Yoga: Asanas, Pranayama, Meditation.

Positive Psychology: The Science of Happiness.

Laughter Yoga: Group Laughter & Laughing Alone.

Spirituality: Ancient wisdom of the sages.

We lay special emphasis on Positive Education, Positive Ageing, Positive Health, Yoga Nidra, Surya Namaskara, Anapanasati and Vipassana.

Our programmes blend the modern science of well-being with the ancient wisdom of the sages.

We feel indebted to the teachings and wisdom of Masters including Martin Seligman, Mihaly Csikszentmihalyi, Abraham Maslow, Swami Satyananda Saraswati, B K S Iyengar, Madan Kataria, Matthieu Ricard, S N Goenka, Thich Nhat Hanh and Buddha.

On what basis have your programmes been created and designed?

Taking care of body, mind and spirit is of utmost importance. It’s like a tripod. All limbs must be equally strong for balance and harmony. Hence, we have taken a holistic approach blending carefully the best of positive psychology, meditation, yoga, laughter yoga and spirituality.

Our programmes are built upon eclectic philosophy: We have selected doctrines from various schools of thought and we are using what are considered the best elements of all systems.

With years of deep research and practical sessions, we have developed a unique and complete programme for health, happiness and harmony of the body, mind and spirit. It transforms the entire experience of life by taking care of all the relevant dimensions – physiological, psychological and spiritual.

All our teachings are non-sectarian, non-religious and non- political. We do not preach any rites and rituals.

What are the benefits derived from the various components of your programmes?

Benefits in brief of various components:

Positive Psychology:Authentic, scientific understanding of happiness and well-being; dispelling myths and wrong notions about happiness.

Yoga:Stimulation of endocrinal systems, taking care of neuro-muscular systems, suitable for modern day lifestyle diseases, body-mind union.

Meditation:Calming, concentration and purification of the mind. Clears clouds and lets you seek wisdom.

Laughter Yoga:Oxygenation of the body, strengthening immune system, stress relief.

Spirituality: Provides right view and right understanding of life. Gives spiritual insight into right speech, right action and right livelihood.

All components put together: Complete transformation of the entire experience of life.

What are the benefits of your programmes?

Benefits for individuals, workplaces, communities and institution:

Individuals: Health, happiness and peace.

Workplaces: Stress relief, team building, higher productivity, leadership and positivity.

Communities: Health, bonding and integration.

Schools/Colleges: Creativity, better concentration, EQ & SQ, all round personality development and strong immune system.

What programmes are available with you?

We have several programmes:

‘The Wheel of Happiness and Well-Being’ is our flagship programme. It is a multi dimensional, activity based programme covering the HOW of happiness.

‘Healthy Happy Harmonious’ is a special programme designed for women.

‘Meditate like Buddha’ is a workshop for happy and stress free life.

Here is a list of some of our programmes:

  • The Wheel of Happiness & Well-being
  • Happiness Boot Camp
  • Meditate Like Buddha
  • Antaranga
  • Bahiranga
  • Healthy Happy Harmonious
  • East Meets West
  • Positive Education
  • Happy@Work
  • Recipe for Happiness
  • Laughter Yoga
  • The Pursuit of Happiness
  • The Quest of Happiness
  • Pathway to Happiness
  • Corporate Stress Management

Who conducts the programmes?

LifeSkills has been founded by Radhika Bisht and Jagat Singh Bisht. They are on a mission: MISSION HAPPINESS! Happiness for all!

They conduct and facilitate our programmes.

About the Founders:

  • Both are qualified Laughter Yoga Master Trainers of international repute having rich experience with corporates, institutions and individuals of more than a hundred nationalities.
  • They have learned yoga and meditation from gurus in ashrams in Rishikesh and Dharamshala.
  • Both of them were laughter professors at the Laughter Yoga University and worked closely with Dr Madan Kataria, Founder of Laughter Yoga.
  • Radhika is a Yoga Teacher and has a long experience of teaching Yoga and Laughter Yoga to women and children.
  • Jagat is an author, blogger, and a qualified Behavioural Science Trainer and Master Trainer Happiness & Well-being,with a long experience as a Corporate Trainer with a Fortune 500 Company.

 

Where do you conduct your programmes and for whom have you conducted programmes so far?

We conduct programmes right at your doorstep – your workplace, corporate office, school, college, university, club, park, anywhere. Retreats may be conducted in resorts.

We have conducted programmes for Nestle, Abercrombie & Kent, State Bank of India, Airports Authority of India, Hewlett Packard, HCL, schools, colleges, clubs and old age homes.

Please watch this video to get answers to all your unanswered questions about us:

How can we contact you for conducting programmes at our workplace/ institution?

We may be reached at the email address: lifeskills.happiness@gmail.com

Are you there on the social media?

Yes. Here are the links:

Facebook: https://www.facebook.com/LifeSkillsIndore/

YouTube: https://www.youtube.com/c/JagatSinghBisht

Twitter:https://twitter.com/CoolBisht

Instagram:https://www.instagram.com/jagatsingh.bisht/

Google+:https://plus.google.com/u/0/+JagatSinghBisht

Can I join Team LifeSkills?

You are warmly invited to join us in this noble mission of health, happiness, harmony, well-being and peace.

The areas in which you may contribute/ collaborate include:

  • Marketing
  • Event management
  • Academic support
  • Administrative support
  • Teaching support
  • Social media
  • Legal advice
  • Copy writing
  • Research & Innovation
  • Multi-media & presentations
  • Public relations
  • Database management
  • Facilitating international participants
  • Liaison with HR of Workplaces
  • Organizing audience & programs
  • Guest faculty
  • Special presentations
  • Collaboration from like-minded & like-hearted
  • Logistics

© Shri Jagat Singh Bisht and Smt. Radhika Jagat Bisht




संस्थाएं – “हैल्पिंग हेण्ड्स – फॉरएवर वेल्फेयर सोसायटी” 

“हैल्पिंग हेण्ड्स – फॉरएवर वेल्फेयर सोसायटी” 

Helping Hands – Forever Welfare Society

आज के संवेदनहीन एवं संवादविहीन होते समाज में भी कुछ संवेदनशील व्यक्ति हैं, जिन पर समाज का वह हिस्सा निर्भर है जो स्वयं को असहाय महसूस करता है। ऐसे ही संवेदनशील व्यक्तियों की संवेदनशील अभिव्यक्ति का परिणाम है “हैल्पिंग हेण्ड्स – फॉरएवर वेल्फेयर सोसायटी” जैसी संस्थाओं का गठन। इस संस्था की नींव रखने वाले समाज-सेवा को समर्पित आदरणीय श्री देवेंद्र सिंह अरोरा  (अरोरा फुटवेयर, जबलपुर के संचालक) एक अत्यंत संवेदनशील व्यक्तित्व के धनी हैं, जो यह स्वीकार करने से स्पष्ट इंकार करते हैं कि- वे इस संस्था की नींव के पत्थर हैं। उनका मानना है कि प्रत्येक व्यक्ति जो इस संस्था से जुड़ा है वह इस संस्था की नींव का पत्थर है। यह श्री अरोरा जी का बड़प्पन है एवं उनकी यही भावना संस्था के सदस्यों को मजबूती प्रदान करती है। प्रत्येक संस्था में कई अवयव होते हैं किन्तु कोई भी संस्था मात्र एक अवयव पर खड़ी रहती है जिसे हम उस संस्था की रीढ़ कहते हैं। इस संदर्भ में मुझे लगभग 25 वर्ष पूर्व पढ़ी हुई लियो ऐकमेन के अटलांटा संविधान की निम्न पंक्तियाँ याद आती हैं:

Leo Aikman – Atlanta Constitution
The body of every organization is structured from four kinds of bones. There are the wishbones, who spend all the time wishing someone would do the work. Then there are the jawbones, who do all the talking, but little else. The knuckle bones knock everything anybody else tries to do. Fortunately, in every organization there are also the backbones, who get under the load and do most of the work.

(Courtesy :  Free Inspirational Quotes 66-7 http://www.career-success-for-newbies.com/free-inspirational-quotes.html)

इस संदर्भ में मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि-  “हैल्पिंग हेण्ड्स – फॉरएवर वेल्फेयर सोसायटी” एक ऐसी संस्था है जिसके प्रत्येक सदस्य जमीन से जुड़े हैं एवं संस्था की रीढ़ (Backbone) की तरह कार्य कर रहे हैं। यदि एक वाक्य में कहना चाहूँ तो –

एक अनुकरणीय संस्था जो पूर्ण रूप से समाज के उत्थान के प्रति समर्पित है।

श्री अरोरा जी ने लगभग 20 सदस्यों को प्रोत्साहित करते हुए इस संस्था की नींव 1 जून 2015 को रखी। आधिकारिक तौर पर इस संस्था को 22 सितंबर 2015 को लगभग 50-60 सदस्यों के सहयोग से मूर्त रूप दिया।। आज इस संस्था से लगभग 270 सदस्य जुड़े हुए हैं जो कि प्रत्यक्ष अथवा अप्रयक्ष रूप से आर्थिक, मानसिक अथवा शारीरिक रूप से संस्था को सहयोग प्रदान कर रहे हैं।

मैं अचंभित हूँ संस्था द्वारा सोशल साइट्स जैसे फेसबुक एवं व्हाट्सएप के सकारात्मक प्रयोग को देखते हुए। कहीं किसी का भी एस.ओ.एस. कॉल / मेसेज आता है और कुछ ही समय में उस समस्या का स्वैच्छिक समाधान भी हो जाता है।

जब श्री अरोरा जी से इस संस्था की जीवन यात्रा के बारे में जानना चाहा तो उन्होने अत्यंत सादगी से जो उल्लिखित किया वह प्रस्तुत है उन्हीं के शब्दों में –

 

हैल्पिंग हैंड्स

एक अनंत अनवरत यात्रा

हैल्पिंग हैंड्स की स्थापना के पूर्व आम भारतीय की तरह हम सभी की भी यही मान्यता थी कि भारत में जन्मे हर इंसान की सभी तरह कि बुनियादी आवश्यक्ताओं की ज़िम्मेदारी सरकारों की ही होती है। किन्तु, फिर कुछ ऐसी बातें हुई कि जिसने हैल्पिंग हैंड्स की कल्पना को मूर्त रूप में लाने के लिए प्रेरित किया।

मेरे निवास स्थान हरी सिंह कॉलोनी जबलपुर के पास एक कन्या शाला स्थित है। इस शाला की छात्रा की फीस माफ कराने हेतु किसी पालक का आवेदन प्राप्त हुआ। इस संदर्भ में प्रिंसिपल से मिलने गया तो उन्होने कहा कि हम तो इस बच्चे की फीस माफ कर देते हैं, परंतु ऐसे सैकड़ों बच्चे हैं, जो फीस या धन के अभाव में शिक्षा ग्रहण नहीं कर पाते उनका क्या होगा?

ऐसे बच्चों का क्या होगा? यह प्रश्न बार-बार मेरे हृदय को कचोट रहा था।

इसी दौरान एक दूसरा वाकया हुआ।

हमारी कॉलोनी के हम चार मित्र सुबह के समय चाय पी रहे थे तभी पास बैठे एक बुजुर्ग भिक्षुक को मिर्गी के दौरे आने लगे। जैसे-तैसे यह व्यक्ति सामान्य हुआ तो हमने उससे पूछा कि आपको मिर्गी के दौरे आते हैं तो आप दवाई पास क्यों नहीं रखते। उसने कहा साहब पिछले तीन दिन से एक बार खाना खाया है तो दवा के पैसे कहाँ से लाऊँ?

बस यही शब्द हमारे दिमाग में गूंजने लगे –

  • उन बच्चों का क्या होगा?
  • दवा के पैसे कहाँ से आएंगे?

बस इन दो प्रश्नों ने हमें अपना सामाजिक दायित्व का बोध कराया तथा हमने अपने अन्य मित्रों के साथ संस्था को  प्रारम्भ करने का प्रयास प्रारम्भ किया। संस्था ने अपने कार्यक्षेत्र में शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी मूलभूत आवश्यकताओं को अपनी प्राथमिकता में रखा।

संस्था ने अपने कार्य को प्रारम्भ करने के पहले ऐसी प्रक्रिया सुनिश्चित की जिससे संस्था के द्वारा की जाने वाली मदद पूर्णतया पारदर्शी तरीके से वास्तव में जरूरतमंद व्यक्ति तक पहुंचे। साथ ही संस्था द्वारा जरूरतमन्द व्यक्ति द्वारा चाहिए गई मदद को नगद के रूप में न देकर चाही गई सामाग्री, फीस या दवा के रूप में दी जाती है।

संस्था का मानना है कि स्वस्थ शरीर से स्वस्थ समाज, शहर तथा देश का निर्माण संभव है। साथ ही शिक्षित व्यक्ति अपने परिवार के साथ राष्ट्र निर्माण में भी अपनी भागीदारी कर सकता है। अतः संस्था द्वारा जरूरतमन्द निर्धन विद्यार्थियों को पुस्तकें, स्टेशनरी, फीस, स्कालरशिप के साथ-साथ फ्री कोचिंग का भी प्रावधान रखा गया है। कन्या शिक्षा को प्रोत्साहन देने क उद्येश्य से कन्या शालाओं से संपर्क किया गया साथ ही संस्था द्वारा पूर्णतया निःशुल्क मेडिकल उपकरण बैंक का गठन किया गया जिसमें व्हीलचेयर, एयर बेड, मेडिकल बेड, वॉटर बेड, वाकर, सक्शन मशीन आदि उपकरण जरूरतमंदों को सीमित समय के उपयोग हेतु निःशुल्क दिये जाते हैं।

हैल्पिंग हैंड्स द्वारा अपनी स्थापना के तीन वर्षों में लगभग 270 सदस्यों के विश्वास के फलस्वरूप शिक्षा, स्वास्थ्य, दिव्याङ्गता तथा अन्य क्षेत्रों हेतु 10 अनवरत क्रियाशील प्रोजेक्ट चलाये जा रहे हैं।

संस्था का यह प्रयास है कि जरूरतमन्द/निर्धन विद्यार्थियों हेतु शिक्षा संबंधी हर आवश्यकता तथा कोचिंग इत्यादि से उनका उत्कृष्ट परिणाम लाने में सहायक सिद्ध हो ताकि ये विद्यार्थी स्वावलंबी बनकर अपने परिवार का भरण पोषण करें तथा अच्छे नागरिक होने का कर्तव्य पूरा करें।

इस संस्था के सदस्यों के निःस्वार्थ समर्पण की भावना को देखते हुए हमें यह संदेश प्रचारित करना चाहिए कि व्यर्थ खर्चों पर नियंत्रण कर भिक्षावृत्ति को  हतोत्साहित करते हुए ऐसी संस्था को तन-मन-धन से  सहयोग करना चाहिए जो ‘अर्थ ‘की अपेक्षा समाज को विभिन्न रूप से सेवाएँ प्रदान कर रही है 

मैं आप सबकी ओर से श्री अरोरा जी एवं  संस्था के सभी सदस्यों का हृदय से सम्मान करता हूँ जो अपने परिवार  एवं  व्यापार/रोजगार/शिक्षा (छात्र  सदस्य)  आदि दायित्वों  के साथ मानव धर्म को निभाते हुए  समाज  के असहाय सदस्यों की सहायता करने हेतु तत्पर हैं।  

मैं ऐसी अन्य सामाजिक एवं हितार्थ संस्थाओं की जानकारी अभिव्यक्त करने हेतु कटिबद्ध हूँ।  यदि आपके पास ऐसी किसी संस्था की जानकारी हो तो उसे शेयर करने में मुझे अत्यंत प्रसन्नता होगी।

(अधिक जानकारी  एवं हैल्पिंग  से जुडने के लिए आप श्री देवेंद्र सिंह अरोरा जी से मोबाइल 9827007231 पर अथवा फेसबुक पेज https://www.facebook.com/Helping-Hands-FWS-Jabalpur-216595285348516/?ref=br_tf पर विजिट कर सकते हैं।)

#e-abhivyakti