1

सूचनाएँ/Information – ☆ वर्तिका वार्षिकोत्सव ☆ – प्रस्तुति – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव‘विनम्र’ 

सूचनाएँ/Information

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ 

(हम प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ जी के  ह्रदय से आभारी हैं जिन्होने  ई-अभिव्यक्ति के लिए वर्तिका वार्षिकोत्सव की विशेष प्रस्तुति प्रेषित दी  है। यह  ई-अभिव्यक्ति के  लिए गर्व का विषय है कि  ई-अभिव्यक्ति के साप्ताहिक स्तम्भ – इंद्रधनुष के स्तम्भकारश्री संतोष नेमा ‘संतोष ‘ जी को इस कार्यक्रम में ‘वर्तिका राष्ट्रीय साहित्य चेतना अलंकरण से अलंकृत किया गया। )

ई-अभिव्यक्ति द्वारा सभी साहित्य मनीषियों को उनकी महत्वपूर्ण उपलब्धि के लिए हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।

 ☆ वर्तिका वार्षिकोत्सव ☆

वर्तिका, संस्कारधानी जबलपुर की एक पंजीकृत एवं सक्रिय साहित्यिक-सामाजिक-सांस्कृतिक संस्था है. संस्था प्रतिवर्ष अपने वार्षिकोत्सव में देश के विभिन्न अंचलो से अनेक रचना धर्मियो को आमंत्रित कर सम्मानित करती है. वर्तिका से सम्मानित विद्वानो में श्री चंद्रसेन विराट ,प्रो चित्र भूषण श्रीवास्तव विदग्ध, श्री हरेराम समीप, आचार्य भगवत दुबे,  डॉ त्रिभुवन नाथ शुक्ल, भोपाल, इंजी विवेक रंजन श्रीवास्तव, श्री संजीव सलिल, दिल्ली के श्री जाली अंकल, हैदराबाद के श्री विजय सत्पथी, श्री हेमन्त बावनकर, श्री अनवर इस्लाम, श्री कुंवर प्रेमिल जैसे विद्वान शामिल हैं.

संस्था ने जबलपुर में विगत कई वर्षो से प्रति माह अंतिम रविवार को मासिक काव्य गोष्ठी आयोजित कर एक रचनात्मक वातावरण बनाया है. इस अवसर पर जिन साहित्यकारो का जन्म दिवस उस माह में होता है, उनकी रचनाओ पर आधारित काव्य पटल का विमोचन शहर की साहित्यिक गतिविधियो के केंद्र शहीद स्मारक में किया जाता है. वहाँ यह काव्य पटल पूरे माह आम जनता के लिये पठन मनन हेतु प्रदर्शित रहता है. वर्तिका ने समय समय पर युवा रचनाकारो के मार्गदर्शन हेतु गजल कैसे लिखें?  दोहा कैसे लिखें?  जैसे विषयों पर विद्वानो की कार्यशालायें आयोजित कर एक अलग पहचान बनाई है.

वर्तिका के वार्षिकोत्सव में इस बार १७ नवम्बर २०१९ को स्थानीय समन्वय केंद्र के भव्य सभागार में साहित्य मनीषियो की उपस्थिति तथा जबलपुर विश्वविद्यालय के यशस्वी कुलपति डा कपिल देव मिश्र जी के मुख्य आतिथ्य एवं श्री उमेश पिल्लई आयकर आयुक्त जी की विशिष्ट उपस्थिति में श्री भगवत दुबे जी की अध्यक्षता में एक गरिमामय समारोह में विभिन्न क्षेत्रो के विद्वत मनीषियो को सम्मानित किया.

कार्यक्रम का शुभारंभ श्वेता मिश्रा द्वारा सरस्वती वंदना के गायन से हुआ. अपनी कोकिल कंठी आवाज में कु अदिति नेमा ने भजन प्रस्तुत कर सभा को सम्मोहित कर दिया. इस मौके पर संस्था के संयोजक श्री विजय नेमा अनुज की सद्य प्रकाशित पुस्तक पतवार तुम्हें दे जाउंगा का विमोचन किया गया. प्रति वर्ष वर्तिका अपनी एक स्मारिका प्रकाशित करती है, इस वर्ष की स्मारिका वर्तिकायन का भी विमोचन समारोह में संपन्न हुआ. संस्था के अध्यक्ष श्री सोहन सलिल तथा सुश्री दिव्या सेठ ने  वरिष्ठ रचनाधर्मी प्रो चित्र भूषण श्रीवास्तव रचित नर्मदा स्तुति शांति दे माँ नर्मदे को संगीत बद्ध कर यू ट्यूब पर प्रस्तत करने का अनूठा काम किया है,  इस गीत का लोकार्पण भी समारोह में किया गया तथा गायक द्वय को वर्तिका स्मृति चिन्हो से सम्मानित किया गया. अध्यक्ष श्री सोहन सलिल ने अपने स्वागत उद्बोधन में विभिन्नता में एकता तथा निरंतरता के सूत्र को वर्तिका की ताकत कहा.  संस्था की गतिविधियो का संयोजक  प्रतिवेदन श्री विजय नेमा अनुज ने प्रस्तुत किया.  श्री उमेश पिल्लई जी को संस्था का संरक्षक मनोनीत किया गया.

इस अवसर पर साहित्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान हेतु  शिक्षाविद् श्रीमती दयावती श्रीवास्तव स्मृति  वर्तिका साहित्य अलंकरण मण्डला से आये हुये श्री कपिल वर्मा को प्रदान किया गया. उक्त अलंकरण श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव के सौजन्य से प्रदान किया जाता है.  पान उमरिया से पधारे हुये डा आर सी मिश्रा को एवं  इसी क्रम में मुम्बई के श्री संतोष सिंह को श्री सलिल तिवारी के सौजन्य से उनके पिता स्व श्री परमेश्वर प्रसाद तिवारी स्मृति अलंकरण से सम्मानित किया गया. श्री के के नायकर स्टेंड अप कामेडी के शिखर पुरुष हैं, उन्होने हास्य के क्षेत्र में  जबलपुर  को देश में स्थापित किया है. श्री नायकर को श्रीमती ममता जबलपुरी के सौजन्य से श्रीमती अमर कौर स्व हरदेव सिंह हास्य शिखर अलंकरण प्रदान किया गया. व्यंग्यकार श्री अभिमन्यू जैन को स्व सरन दुलारी श्रीवास्तव की स्मृति में व्यंग्य शिरोमणी अलंकरण दिया गया. इसी तरह श्री मदन श्रीवास्तव को स्व डा बी एन श्रीवास्तव स्मृति अलंकरण से सम्मानित किया गया. श्री सुशील श्रीवास्तव द्वारा अपने माता पिता स्व सावित्री परमानंद श्रीवास्तव की स्मृति में स्थापित अलंकरण प्रभा विश्वकर्मा शील को दिया गया. श्रीमती विजयश्री मिश्रा को स्व रामबाबूलाल उपाध्याय स्मृति अलंकरण दिया गया जो श्रीमती नीतू सत्यनारायण उपाध्याय द्वारा प्रायोजित है. श्री अशोक श्रीवास्तव सिफर द्वारा स्व राजकुमरी श्रीवास्तव स्मृति अलंकरण श्री संतोष नेमा को उनकी राष्ट्रीय साहित्य चेतना के लिये दिया गया. सुश्री देवयानी ठाकुर के सौजन्य से स्व ओंकार ठाकुर स्मृति कला अलंकरण से श्री सतीश श्रीवास्तव को सम्मानित किया गया. गाडरवाड़ा से पधारे हुये श्री विजय नामदेव बेशर्म को श्री सतीश श्रीवास्तव के सौजन्य से स्व भृगुनाथ सहाय स्मृति सम्मान से अलंकृत किया गया. वर्तिका प्रति वर्ष किसी सक्रिय साथी को संस्था के संस्थापक साज जी की स्मृति में लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित करती है, इस वर्ष यह प्रतिष्ठा पूर्ण सम्मान श्री सुशील श्रीवास्तव को  श्री अशोक झरिया शफक की ओर से प्रदान किया गया. इसके अतिरिक्त श्रीमती निर्मला तिवारी जी को कथा लेखन तथा युवा फिल्मकार आर्य वर्मा को युवा अलंकार से वर्तिका अलंकरण दिये गये.

वर्तिका ने सक्रिय संस्थाओ को भी सम्मानित करने की पहल की है, इस वर्ष नगर की साहित्य के लिये समर्पित संस्थाओ में पाथेय तथा प्रसंग को सम्मानित किया गया. कार्यक्रम का संचालन श्री दीपक तिवारी तथा श्री राजेश पाठक प्रवीण द्वारा किया गया. आभार प्रदर्शन सहभोज के साथ कार्यक्रम संपन्न हुआ.

आयोजन की साहित्यिक जगत में गहन प्रशंसापूर्ण चर्चा है.

प्रस्तुति – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव

संयोजक , वर्तिका , ए १ , विद्युत मण्डल कालोनी , रामपुर जबलपुर vivekranjan.vinamra@gmail.com




सूचना – हिन्दी साहित्य – ☆ ई-अभिव्यक्ति -गांधी स्मृति विशेषांक ☆ – (विशेषांक की रचनाएँ >>महत्वपूर्ण लिंक्स)

☆ ई-अभिव्यक्ति – गांधी स्मृति विशेषांक ☆

 

हम  2  अक्टूबर  2019 को  ई-अभिव्यक्ति  (www.e-abhivyakti.com ) द्वारा महात्मा गाँधी जी की 150वीं  जयंती पर प्रकाशित ई-अभिव्यक्ति -गांधी स्मृति विशेषांक  विशेषांक की रचनाओं के  महत्वपूर्ण लिंक्स उपलब्ध कर रहे हैं जिन्हें आप भविष्य में पढ़ सकते हैं।

ई-अभिव्यक्ति -गांधी स्मृति विशेषांक  में ई-अभिव्यक्ति की प्रस्तुति :-

  1. हिन्दी साहित्य – ई-अभिव्यक्ति संवाद – ☆ अतिथि संपादक की कलम से ……. महात्मा गांधी प्रसंग ☆ – श्री जय प्रकाश पाण्डेय – http://bit.ly/2oiSiae
  1. ई-अभिव्यक्ति: संवाद- 41 – ☆ ई-अभिव्यक्ति – गांधी स्मृति विशेषांक☆ – हेमन्त बावनकर – http://bit.ly/2n09wc7
  1. हिन्दी साहित्य – आलेख – ☆ दक्षिण अफ्रीका : मिस्टर बैरिस्टर एम. के. गांधी से गांधी बनाने की ओर ☆ श्री मनोज मीता, गांधीवादी चिंतक एवं समाजसेवी – http://bit.ly/2nuCAsA
  1. हिन्दी साहित्य – आलेख – ☆ गांधी विचार की वर्तमान प्रासंगिकता ☆ श्री राकेश कुमार पालीवाल, महानिदेशक (आयकर) हैदराबाद (प्रसिद्ध गांधीवादी चिंतक  ) – http://bit.ly/2nER7le
  1. हिन्दी साहित्य – आलेख – ☆ गांधी जी के मुख्य सरोकार ☆ डॉ.  मुक्ता (राष्ट्रपति पुरस्कार से पुरस्कृत) एवं पूर्व निदेशक हरियाणा साहित्य अकादमी – http://bit.ly/2oq2sFK
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ सपने में बापू ☆ डॉ कुन्दन सिंह परिहार, वरिष्ठ साहित्यकार – http://bit.ly/2mRKpbq
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ घोडा, न कि …. ☆ डॉ सुरेश कान्त, संपादक हिन्द पॉकेट बुक्स – http://bit.ly/2mKLKR6
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ तेरा गांधी, मेरा गांधी; इसका गांधी, किसका गांधी! ☆ श्री प्रेम जनमेजय, व्यंग्य शिल्पी एवं संपादक – http://bit.ly/2mIfXjI
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ राजघाट का मूल्य ☆ श्री संजीव निगम, वरिष्ठ साहित्यकार – http://bit.ly/2ok5wDC
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ गांधी जिन्दा हैं और रहेंगे ☆ श्रीमती सुसंस्कृति परिहार – http://bit.ly/2mKFfOc
  1. हिन्दी साहित्य – आलेख – ☆ चंपारण सत्याग्रह: एक शिकायत की जाँच ☆ श्री अरुण कुमार डनायक, गांधीवादी चिंतक – http://bit.ly/2mO5eED
  1. हिन्दी साहित्य – कविता – ☆ अहिंसा का दूत ☆ सुश्री निशा नंदिनी भारतीय – http://bit.ly/2paYPEi
  1. हिन्दी साहित्य – संस्मरण – ☆ पकुआ के घर गाँधी जी ! ☆ श्री जय प्रकाश पाण्डेय – http://bit.ly/2mI78q6
  1. मराठी साहित्य – कविता – ☆ बापू ☆ श्री सुजित कदम, मराठी युवा साहित्यकार – http://bit.ly/2olLJn9
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ क्योंकि मैं राष्ट्र मां नहीं ☆ श्रीमती समीक्षा तैलंग – http://bit.ly/2nDSYXD
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ चौराहे पर गांधी! ☆ श्री प्रेम जनमेजय, व्यंग्य शिल्पी एवं संपादक – http://bit.ly/2nQ2VBn
  1. हिन्दी साहित्य – आलेख – ☆ महात्मा गांधी के सपनों का भारत ☆ डॉ भावना शुक्ल – http://bit.ly/2otaeiv
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ बापू कभी इस जेब में कभी उस जेब में ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ – http://bit.ly/2oz1Bmg
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ हे राम ! ☆ डॉ गंगाप्रसाद शर्मा ‘गुणशेखर’ – http://bit.ly/2nS9GCz
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ कहाँ चल दिए बापू ☆ श्री विनोद कुमार ‘विक्की’ – http://bit.ly/2piJ9ic
  1. हिन्दी साहित्य – कविता – ☆ प्रश्नचिन्ह ☆ श्री रमेश सैनी – http://bit.ly/2nGgUtD
  1. हिन्दी साहित्य – लघुकथा – ☆ मानव ☆ श्री सदानंद आंबेकर – http://bit.ly/2nPuieQ
  1. हिन्दी साहित्य – आलेख – ☆ गांधी की खादी आज भी प्रासंगिक ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ – http://bit.ly/2mQoSji
  1. मराठी साहित्य – कविता – ☆ महात्मा गांधी……! ☆ – कविराज विजय यशवंत सातपुते, मराठी साहित्यकार – http://bit.ly/2mSkCj8
  1. हिन्दी साहित्य – लघुकथा – ☆ पूछ रहे बैकुंठ से बापू ☆ श्री मनोज जैन “मित्र” – http://bit.ly/2nG4L7Z
  1. हिन्दी साहित्य – लघुकथा – ☆ दृष्टि ☆ श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश” – http://bit.ly/2pn1smx
  1. हिन्दी साहित्य – व्यंग्य लघुकथा – ☆ महात्मा गाँधी की जय ☆ श्री घनश्याम अग्रवाल – http://bit.ly/2osqznA
  1. हिन्दी साहित्य – संस्मरण – ☆ बा और बापू ☆ श्रीमति हेमलता मिश्र “मानवी “ – http://bit.ly/2nST8KT

धन्यवाद.




महत्वपूर्ण सूचना – ☆ महात्मा गांधी जी के150वीं जयंती पर विशेष – ☆ ई-अभिव्यक्ति – गांधी स्मृति विशेषांक ☆

 ☆ महत्वपूर्ण सूचना ☆

 ☆ ई-अभिव्यक्ति -गांधी स्मृति विशेषांक ☆

महात्मा गांधी जी के 150वीं जयंती पर ई-अभिव्यक्ति की विशेष प्रस्तुति “ई-अभिव्यक्ति -गांधी स्मृति विशेषांक”

 

इस विशेषांक में आप पढ़ सकेंगे अंतरराष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय स्तर के वरिष्ठ एवं साहित्य की विभिन्न विधाओं के सशक्त हस्ताक्षरों की रचनाएँ, जिनमें प्रमुख हैं :-

श्री राकेश कुमार पालीवाल, महानिदेशक (आयकर) हैदराबाद एवं प्रसिद्ध गांधीवादी चिंतक, डॉ मुक्ता, पूर्व निदेशक हरियाणा साहित्य अकादमी एवं राष्ट्रपति पुरस्कार से पुरस्कृत, वरिष्ठ साहित्यकार डॉ कुन्दन सिंह परिहार, डॉ सुरेश कान्त, श्री प्रेम जनमेजय, श्री संजीव निगम, श्रीमति सुसंस्कृति परिहार, श्री अरुण कुमार डनायक, सुश्री निशा नंदिनी भारतीय, श्री जय प्रकाश पाण्डेय, डॉ गुणशेखर शर्मा, श्री विनोद कुमार विक्की, श्री रमेश सैनी, श्री सदानंद आंबेकार, श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’, श्रीमती समीक्षा तैलंग, श्री मनोज जैन “मित्र”, श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”, मराठी साहित्यकार कवीराज विजय यशवंत सातपुते, श्री सुजित कदम एवं अन्य सुप्रसिद्ध साहित्य की विभिन्न विधाओं के सशक्त हस्ताक्षर।

आशा है आपको निश्चित ही इस अंक की प्रतीक्षा रहेगी ।

 




सूचनाएं /Information – ☆ महाराष्ट्र हिंदी साहित्य अकादमी द्वारा “चार पीढ़ी के कवि” प्रकाशित ☆

 ☆ सूचनाएं /Information ☆

 ☆ महाराष्ट्र हिंदी साहित्य अकादमी द्वारा “चार पीढ़ी के कवि” प्रकाशित ☆

सौ. सुजाता काळे

हिंदी भाषा के विकास के लिए ‘महाराष्ट्र हिंदी साहित्य अकादमी’ एवं ‘ सेंट पीटर्स विद्यालय, पंचगनी ‘ की ओर से 28 सितम्बर, 2019 को एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया था।

 

  • प्रथम सत्र में  डाॅ जीतेंद्र पांडेय जी द्वारा  सम्पादित पुस्तक ‘ चार पीढ़ी के कवि’ एवं उनकी लिखी हुई पुस्तक ‘कविता की स्वाधीन चेतना’ का लोकार्पण समारोह का आयोजन किया गया।
  • द्वितीय सत्र में  विद्यार्थियों के लिए ‘ अपने प्रिय गीतकार से मिलिए ‘ कार्यक्रम का आयोजन किया गया था।
  • तृतीय सत्र  में भाषायी संगम कार्यक्रम  का आयोजन किया गया था ।

 

सौ. सुजाता काळे जी  की कवितायें  ‘चार पीढ़ी के कवि  में सम्मिलित की गई है इसके लिए उन्हें  ई-अभिव्यक्ति की ओर से  हार्दिक बधाई. 

 

सौ. सुजाता काळे जी  मराठी एवं हिन्दी की काव्य एवं गद्य  विधा की सशक्त हस्ताक्षर हैं ।  वे महाराष्ट्र के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कोहरे के आँचल – पंचगनी से ताल्लुक रखती हैं।  उनके साहित्य में मानवीय संवेदनाओं के साथ प्रकृतिक सौन्दर्य की छवि स्पष्ट दिखाई देती है। 

 

डॉ जीतेन्द्र पांडेय जी   को उनके संकलन  चार पीढ़ी के कवि एवं पुस्तक कविता की स्वाधीन चेतना  के लिए हार्दिक बधाई. साथ ही चार पीढ़ी के कवि में सम्मिलित सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं. 

 




सूचनाएँ/Information – श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”  जी द्वारा इतिहास रचित

सूचनाएं /Information

 

श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”  जी  की कहानी “गांव का एक दिन” बनी सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली 

श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”

सुप्रसिद्ध साहित्यकार एवं वरिष्ठ शिक्षक श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”  जी द्वारा इतिहास रचित. 

ऑनलाइन मंच स्टोरी वीवर के चार वर्ष पूर्ण होने पर आकलन किया गया कीओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’ की कहानी की पुस्तक — गांव में एक दिन को सर्वाधिक 11,594 पाठकों द्वारा पढ़ी गई जो अपने आप में एक इतिहास है. यह साल भर की गतिविधि के आधार पर दी गई प्रगति की सूचना है। स्मरणीय है कि स्टोरीविवर प्रथम बुक्स का औनलाइन मंच है जहां पर विश्व की सर्वाधिक 200 भाषाओं में कहानी की चित्रकथा पुस्तकें प्रसारित होती है।

ई-अभिव्यक्ति द्वारा श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”  जी को इस उपलब्धि के लिए हार्दिक बधाई.



सूचनाएं (Informations) – ☆ शिक्षक दिवस विशेषांक ☆ महत्वपूर्ण लिंक्स

☆ शिक्षक दिवस विशेषांक ☆

 

शिक्षक दिवस विशेषांक में आज प्रस्तुत है:-

  1. हिंदी साहित्य ☆ शिक्षक दिवस विशेष ☆ विमर्श – शिक्षक कल आज और कल ☆ ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’, श्रीमति समीक्षा तैलंग, श्रीमति उर्मिला उद्धवराव इंगळे एवं सुश्री स्मिता रविशंकर – http://bit.ly/32tShif
  1. मराठी साहित्य – ☆ शिक्षक दिवस विशेष ☆शिक्षक आजचा व कालचा ☆ – श्रीमति उर्मिला उद्धवराव इंगळे  – http://bit.ly/32tIuIZ
  1. English Literature – Teacher’s Day Special – The Last Day – Shri Suraj Kumar सिंह – http://bit.ly/32tskzp
  1. हिन्दी साहित्य – शिक्षक दिवस विशेष – ☆ वर्तमान शिक्षा का आधार प्राचीन शिक्षा व्यवस्था हो ☆ – डॉ ज्योत्सना सिंह राजावत – http://bit.ly/32vo4zm
  1. हिन्दी साहित्य – शिक्षक दिवस विशेष – ☆ इससे श्रेष्ठ शिक्षक नहीं देखे ☆ श्रीमति समीक्षा तैलंग – http://bit.ly/32rqiji
  1. हिन्दी साहित्य – शिक्षक दिवस विशेष – ☆ पाठशाला के आँगन में ☆ – श्री मच्छिंद्र बापू भिसे – http://bit.ly/2HMlVrf
  1. हिन्दी साहित्य – शिक्षक दिवस विशेष – कविता – ☆ शिक्षक के अधिकार व कर्तव्य ☆ – सुश्री मालती मिश्रा ‘मयंती’ – http://bit.ly/2HM77sE
  1. हिन्दी साहित्य – शिक्षक दिवस विशेष – कविता – ☆ आशीष ☆ – श्रीमति विशाखा मुलमुले – http://bit.ly/32ATQv7

 

कृपया उपरोक्त रचनाओं को पढ़कर अपने महत्वपूर्ण विचार कमेंट बॉक्स में अवश्य दें.




सूचना – हिन्दी साहित्य – ☆ परसाई स्मृति अंक ☆ – (विशेषांक की रचनाएँ >>महत्वपूर्ण लिंक्स)

? परसाई स्मृति अंक ?

हम 22 अगस्त 2019 को www.e-abhivyakti.com द्वारा स्व. परसाई जी  के जन्मदिवस पर प्रकाशित विशेषांक की रचनाओं के  महत्वपूर्ण लिंक्स उपलब्ध कर रहे हैं जिन्हें आप भविष्य में पढ़ सकते हैं।

 

परसाई स्मृति अंक में e-abhivyakti  की प्रस्तुति :-

  1. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – संस्मरण ☆ पारदर्शी परसाई ☆ – डॉ.राजकुमार “सुमित्र” ☆>>http://bit.ly/30jWqop
  2. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक ☆ अतिथि संपादक की कलम से ……. परसाई प्रसंग ☆ – श्री जय प्रकाश पाण्डेय ☆>> – http://bit.ly/30sNg9a
  3. ई-अभिव्यक्ति: संवाद- 38 – हेमन्त बावनकर ☆>>http://bit.ly/30priE3
  4. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ इस तरह गुजरा जन्मदिन ☆ – स्व. हरिशंकर परसाई ☆>> – http://bit.ly/2Zty5Q1
  5. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – संस्मरण ☆ परसाई जी – अमिट स्मृति ☆ – आचार्य भागवत दुबे ☆>> – http://bit.ly/2ZiwNHn
  6. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ परसाई जी – एक आम आदमी और खास लेखक ☆ – श्री हिमांशु राय ☆>> – http://bit.ly/30qG39u
  7. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ परसाई का मूल्यांकन क्यों नहीं? ☆ – श्री एम.एम. चन्द्रा ☆>> – http://bit.ly/2ZmdrRy
  8. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ स्वतंत्र विचार ☆ – श्री जय प्रकाश पाण्डेय ☆>> – http://bit.ly/30yGhM9
  9. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – संस्मरण ☆ परसाई के रूपराम ☆ – श्री जय प्रकाश पाण्डेय ☆>> – http://bit.ly/2ZkaIbh
  10. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ हरिशंकर परसाई… व्यंग्य से करते ठुकाई…!! ☆ – सुश्री इंदु सिंह ‘इन्दुश्री’ ☆>> –  http://bit.ly/30jE7zH
  11. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ सच्चे मानव परसाई जी ☆ – डॉ महेश दत्त मिश्र ☆>> – http://bit.ly/2ZigCcT
  12. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – संस्मरण ☆ व्यंग्यकार स्व. श्रीबाल पांडे ☆ – श्री जय प्रकाश पाण्डेय ☆>> – http://bit.ly/30rJvku
  13. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ परसाई को जानने के ख़तरे ☆ – डॉ कुन्दन सिंह परिहार ☆>> – http://bit.ly/2ZirWGe
  14. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ वर्तमान परिदृश्य में परसाई की प्रासंगिकता ☆ – सुश्री अलका अग्रवाल सिग्तिया ☆>> http://bit.ly/2Ze7I0f
  15. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ युग पुरुष परसाई ☆ – श्री जय प्रकाश पाण्डेय ☆>> – http://bit.ly/30kAqK2
  16. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – संस्मरण ☆ परसाई का गाँव ☆ – श्री जय प्रकाश पाण्डेय ☆>> – http://bit.ly/2ZirFDc
  17. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ कबीर के ध्वज वाहक हरिशंकर परसाई ☆ – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆>>http://bit.ly/30pl5rD
  18. हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – नाटक ☆ सदाचार का तावीज ☆ – श्री वसंत काशीकर ☆ –>>http://bit.ly/30pmgYa

 

 

 

? ? ? ? ?




सूचना – वर्जिन साहित्यपीठ: लघुकथा मंजूषा – 4 हेतु लघुकथाएं आमंत्रित

वर्जिन साहित्यपीठ: लघुकथा मंजूषा – 4 हेतु लघुकथाएं आमंत्रित

 

(पुस्तक पेपरबैक और ईबुक, दोनों रूपों में प्रकाशित की जाएगी।)

रॉयल्टी: 50% लेखकगण + 30% संपादन मंडल + 20% साहित्यपीठ (पहली 10 प्रति की बिक्री साहित्यपीठ के पास रहेगी)। रॉयल्टी 11वीं प्रति की बिक्री से प्रारंभ होगी।

पारदर्शिता हेतु गूगल, पोथी और अमेज़न की सेल रिपोर्ट यहीं प्रति माह के प्रथम सप्ताह में शेयर की जाएगी।

नमस्कार मित्रों। सार्थक लेखन हेतु सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।

लघुकथा मंजूषा  – 1, 2 एवं 3 की सफलता के पश्चात वर्जिन साहित्यपीठ लघुकथाकारों  से लघुकथा मंजूषा – 4 हेतु लघुकथाएं आमंत्रित करता है। आप अपनी प्रकाशित/अप्रकाशित 2 बेहतरीन लघुकथाएं virginsahityapeeth@gmail.com पर भेज दें।  सब्जेक्ट में “लघुकथा मंजूषा – 4, 2019 हेतु” अवश्य लिखें।

प्लेटफॉर्म: ईबुक अमेज़न, गूगल प्ले स्टोर, और गूगल बुक्स के साथ सभी प्रमुख अंतरराष्ट्रीय डिजिटल लाइब्रेरी में उपलब्ध होगी जबकि पेपरबैक पोथी की वेबसाइट से अथवा हमसे मँगवा सकेंगे।

समय सीमा: लघुकथाएं भेजने की अंतिम तिथि है – 15 अगस्त, 2019।  31 अगस्त, 2019 तक संकलन प्रकाशित कर दिया जाएगा।

पाण्डुलिपि भेजने से पूर्व निम्नलिखित महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर अवश्य ध्यान दें:

  • लघुकथाएं मंगल/यूनिकोड फॉण्ट में भेजें
  • साथ में फोटो और संक्षिप्त परिचय भी अवश्य भेजें
  • भेजने से पूर्व अशुद्धि अवश्य जाँच लें। अधिक अशुद्धियाँ होने पर रचना अस्वीकृत की जा सकती है।
  • ईमेल में इसकी उद्घोषणा करें कि उनकी रचना मौलिक है और किसी भी तरह के कॉपीराइट विवाद के लिए वे जिम्मेवार होंगे।

सूची: चयनित लघुकथाकारों की सूची और अन्य सभी अपडेट 20 अगस्त को साहित्यपीठ के फेसबुक ग्रुप और पेज पर जारी की जाएगी। अतः पेज को फॉलो करें और ग्रुप जॉइन करें।

किसी भी तरह की जिज्ञासा अथवा शंका समाधान हेतु 9971275250 पर सम्पर्क करें।

धन्यवाद

वर्जिन साहित्यपीठ

9971275250

 

(टीप : www.e-abhivyakti.com  में  प्रकाशित उपरोक्त  सूचना  कोई  विज्ञापन नहीं  है। अपितु,  आपको एक  जानकारी उपलब्ध कराने का प्रयास है।)




सूचनाएँ/Information – डायनामिक संवाद टी वी यूट्यूब चैनल) के लोगो  की लांचिंग

☆ सूचना ☆ 

 

 ☆ ✒ डायनामिक संवाद टी वी(यूट्यूब चैनल) के लोगो  की लांचिंग ✒ ☆

 

आज  दिनांक 7 जुलाई 2019 को जबलपुर शहर की साहित्यिक ,सामाजिक चेतना का  सूत्रपात  करने डायनामिक संवाद टी वी के लोगो की  लांचिग सुप्रसिद्ध साहित्य शिरोमणी  डॉ राजकुमार तिवारी  सुमित्र, जी के द्वारा  शरद चन्द्र  उपाध्याय , पंकज स्वामी,डॉ अरुण  दवे ,डॉ ललित पाण्डेय    वरिष्ठ पत्रकार राकेश मिश्र ,डॉ प्रवीण मिश्र ,राकेश श्रीवास,,राजेन्द्र तिवारी , आराध्या तिवारी प्रियम, मेहेर  प्रकाश उपाध्याय,व् अन्य गणमान्य अतिथियों की  उपस्थिति में आज सुपर मार्किट कॉफ़ी हाउस,जबलपुर  में  सम्पन्न हुई।
संस्काधानी नाम से  सुशोभित गोंड राजाओं की सशक्त कर्मभूमि के साहित्य,संगीत, संस्कृति  के क्षेत्र में  विश्वपटल पर अपने हस्ताक्षर से शहर जबलपुर की कीर्ति गाथा लिखने वाले  उदीयमान साधकों व् साहित्य शिल्पियों की  महिमा को सुनहरे चित्रपट पर उकेरने के उद्देश्य से एवम् विभिन्न समस्याओं को उनके  समाधान तक पहुचाने हेतु   इस  यूट्यूब चैनल को प्रस्तुत किया   जा रहा है।
इस अवसर पर चैनल डायरेक्टर डॉ हर्ष तिवारी जी द्वारा चैनल के  मालिक सुमित्र जी का आभार व्यक्त किया गया।
*डायनामिक संवाद टी वी अब शीघ्र ही जबलपुर से*
संस्कारों के शहर,
रानी दुर्गावती के बलिदानी नगर,
साहित्य, धर्म व पुरातत्व स्थली,
ओशो, महर्षि महेश और परसाई की कर्मभूमि,
समग्र साहित्यिक गतिविधियों व साहित्यकारों के सृजन को जन जन तक पहुँचाने
एवं
जबलपुर के सरोकारों को
हर दृष्टि से आपके समक्ष प्रस्तुत करने,
हर वर्ग, हर विषय, हर समस्याओं की आवाज उठाने,
हर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने अपने शहर में
 हमारे अपने ही ला रहे हैं बेहद प्रभावी और अत्याधुनिक तकनीक से युक्त
 “डायनामिक संवाद टी वी”
 जो जबलपुर को
नई पहचान दिलाएगा।
बस कुछ ही दिनों में आपकी पहुँच में होगा।
– डॉ विजय तिवारी ‘किसलय’
(आज डायनामिक संवाद टी वी ने मेरी कुछ कविताएँ रिकॉर्ड की, जिन्हें भी आप जल्दी ही देख पाएँगे)



सूचना / INFORMATION (मराठी) ✒ ☆ मराठबोली पुणे,आणि अनुरव साहित्य कला क्रीडा अकादमी,पुणे आयोजित राज्यस्तरीय निबंध स्पर्धा ☆

☆ सूचना ☆ 

 ☆ ✒मराठबोली पुणे,आणि अनुरव साहित्य कला क्रीडा अकादमी,पुणे आयोजित राज्यस्तरीय निबंध स्पर्धा ✒ ☆

 

*विषय*

१) वाढणारी जनसंख्या अन घटणारी माणुसकी:एक चिंतन

२) धर्माचे राजकारण की राजकारणाचा धर्म

३) मोबाईल :मनोरंजन की व्यसन

४) वृद्धाश्रम: गरज की अपरिहार्यता

 

*नियम*

? वरील पैकी कोणत्याही एका विषयावर लिहिणे

? एक स्पर्धक एकाच विषयावर लिहू शकतो

? शब्दमर्यादा *700* शब्द

? अंतिम मुदत *20 जुलै, २०१९*

? परीक्षकांचा निर्णय अंतिम राहील

?  *प्रथम, द्वितीय, तृतीय व तीन उत्तेजनार्थ विजेते काढण्यात येतील.*

?  *निकाल २७जुलै, 2019* च्या होणाऱ्या कार्यक्रमात जाहीर करून विजेत्यांना मान्यवरांच्या हस्ते *सन्मानचिन्ह, सन्मानपत्र,व उपयुक्त भेटवस्तू दिली जाईल*

?  *सहभागी स्पर्धकांना प्रमाणपत्र देण्यात येईल*

? आपला निबंध खालील पत्यावर 20 जुलै, २०१९पर्यत पोहचेल अशा बेताने पाठवावा.

 

*पत्ता*

अनुरव बंगला, वर्षानंद सोसायटी, प्लॉट नं३९, संतोष हॉल लेन, आनंदनगर, पुणे ५१

 

?अधिक माहितीसाठी संपर्क

9284817132, 9325509450, 9225794658