हिन्दी साहित्य ☆ धारावाहिक उपन्यासिका ☆ पगली माई – दमयंती – भाग 18 ☆ श्री सूबेदार पाण्डेय “आत्मानंद”

श्री सूबेदार पाण्डेय “आत्मानंद”

(प्रत्येक रविवार हम प्रस्तुत कर रहे हैं  श्री सूबेदार पाण्डेय “आत्मानंद” जी द्वारा रचित ग्राम्य परिवेश पर आधारित  एक धारावाहिक उपन्यासिका  “पगली  माई – दमयंती ”।   

इस सन्दर्भ में  प्रस्तुत है लेखकीय निवेदन श्री सूबेदार पाण्डेय जी  के ही शब्दों में  -“पगली माई कहानी है, भारत वर्ष के ग्रामीण अंचल में पैदा हुई एक ऐसी कन्या की, जिसने अपने जीवन में पग-पग पर परिस्थितिजन्य दुख और पीड़ा झेली है।  किन्तु, उसने कभी भी हार नहीं मानी।  हर बार परिस्थितियों से संघर्ष करती रही और अपने अंत समय में उसने क्या किया यह तो आप पढ़ कर ही जान पाएंगे। पगली माई नामक रचना के  माध्यम से लेखक ने समाज के उन बहू बेटियों की पीड़ा का चित्रांकन करने का प्रयास किया है, जिन्होंने अपने जीवन में नशाखोरी का अभिशाप भोगा है। आतंकी हिंसा की पीड़ा सही है, जो आज भी  हमारे इसी समाज का हिस्सा है, जिनकी संख्या असंख्य है। वे दुख और पीड़ा झेलते हुए जीवनयापन तो करती हैं, किन्तु, समाज के  सामने अपनी व्यथा नहीं प्रकट कर पाती। यह कहानी निश्चित ही आपके संवेदनशील हृदय में करूणा जगायेगी और एक बार फिर मुंशी प्रेमचंद के कथा काल का दर्शन करायेगी।”)

इस उपन्यासिका के पश्चात हम आपके लिए ला रहे हैं श्री सूबेदार पाण्डेय जी भावपूर्ण कथा -श्रृंखला – “पथराई  आँखों के सपने”

☆ धारावाहिक उपन्यासिका – पगली माई – दमयंती –  भाग 18 – महाप्रयाण ☆

(अब  तक आपने पढ़ा  —- कब पगली ससुराल आई, सुहाग रात को उस पर  क्या बीती? कैसे निगोड़ी नशे की तलब ने दुर्भाग्य बन  घर में दरिद्रता का तांडव रचा? इतना ही नहीं नशे ने उसके पति को मौत के मुख में ढ़केल दिया।  दुर्भाग्य ने उससे जीवन का आखिरी सहारा पुत्र भी छीन लिया।  पगली वह सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाई। मां बाप का प्यार में दिया नाम सार्थकता में बदल गया था। वह सच में ही पगला गई थी। उसका व्यक्तित्व कांच के टुकड़ों की तरह बिखर गया था। लेकिन उन परिस्थितियों में भी उसका हृदय मातृत्व से रिक्त नहीं था।  आकस्मिक घटी घटना ने उसके हृदय में ऐसी भावनात्मक चोट पहुचाई कि उसका हृदय कराह उठा।  ऐसे में उसके जीवन में एक नये कथा पात्र का अभ्युदय हुआ, जिसने उसे अपनेपन का एहसास तो दिलाया ही बहुत हद तक  गौतम की कमी भी पूरी कर दी। लेकिन उसका  दिल अपने ही देश के नौजवानों का बहता खून नहीं देख सका था और अपने कर्मों से मां भारती का प्रतिबिंब बन उभरी थी। अब आगे पढ़ें इस कथा की अगली कड़ी——)

दंगे में घायल हुए पगली को काफी अर्सा गुजर गया था।  पगली अपने चोट से उबर चुकी थी  शरीर से काफी रक्त बहनें से वह बहुत कमजोर हो गई थी।  उसकी बुढ़ापे युक्त जर्जर काया अब उसे अधिक मेहनत करने की इजाजत नहीं दे रही थी।

इन परिस्थितियों में पगली बरगद की घनी छांव में पड़ी पडी़ हांथो में तुलसी की माला जपते किसी सिद्ध योगिनी सी दिखती।  एक दिन सवेरे की भोर में पेड़ की छांव तले आत्मचिंतन में डूबी हुई थी कि सहसा किसी अलमस्त फकीर द्वारा प्रभात फेरी के समय गाया जाने वाला गीत उसके कानों से टकराया था।  वह अपनी ही मस्ती की धुन मे गाये जा रहा था।

“रामनाम रस भीनी चदरिया, झीनी रे झीनी।
ध्रुव प्रह्लाद सुदामा ने ओढ़ी,
जस की तस धरि दीनी चदरिया।
झीनी रे झीनी।।

उस अलमस्तता के आलम मे फकीर द्वारा गाये भजन ने पगली को कुछ सोचने पर मजबूर कर दिया।  आज उसे बचपन में भैरव बाबा के कहे शब्द याद आ रहे थे, और वह आत्मचिंतन में डूबी उन शब्दो के निहितार्थ तलाश रही थी। जीवन के निस्सारता का ज्ञान उसे हो गया था।  भैरव बाबा की आवाज में गीता के सूत्र वाक्य उसके मानसपटल पर तैर उठे थे।

तुम क्यों चिंता करते हो, तुम्हारा क्या खो गया?
जो लिया यही से लिया, जो दिया यहीं पर दिया।

तुम्हारा अपना क्या था? जो हुआ अच्छा हुआ, जो हो रहा है अच्छा है, जो होगा वह भी अच्छा ही होगा।  फिर जीवन में चिंता कैसी?

गीता के ज्ञान की समझ पगली के हृदय में उतरती चली गई और उसका सांसारिक जीवन से मोह भंग हो गया था और बैराग्य के भाव प्रबल हो उठे थे।

उन क्षणों में उसने जीवन का अंतिम लक्ष्य निर्धारित कर लिया था, अब उसे पास आती अपनी मौत की पदचाप सुनाई देने लगी थी।

उसने मृत्यु के पश्चात अपना शरीर मानवता की सेवा में शोध कार्य हेतु दान करने का संकल्प ले लिया था। इस प्रकार एक रात वह सोइ तो फिर कभी नहीं उठी।

यद्यपि पगली काल के करालगाल से बच तो नहीं सकी, लेकिन मरते मरते भी अपने सत्कर्मों के बलबूते महाकाल के कठोर कपाल पर एक सशक्त हस्ताक्षर तो कर ही गई, जो काल के भी मृत्यु पर्यंत तक अमिट बन शिलालेख की भांति चमकता रहेगा, तथा लोगों को सत्कर्म के लिए प्रेरित करता रहेगा।

मृत्यु के पश्चात पगलीमाई के चेहरे पर असीम शांति के भाव थे कहीं कोई विकृति तनाव भय  आदि नहीं था।
ऐसा लगा जैसे कोई शान्ति का मसीहा चिर निद्रा में विलीन हो गया हो।

उस चबूतरे से जब अर्थी उठी और एनाटॉमी विभाग की तरफ चली तो पीछे चलने वाले जनसमुदाय की संख्या लाखों में थी, लेकिन हर शख्स की आंखों में आँसू थे, हर आंख नम थी, और वहीं बगल के मंदिर प्रांगण में गूंजने वाली कबीर वाणी लोगों को जीवन  जीने का अर्थ समझा रही थी।

कबीरा जब हम पैदा हुए, जग हँसे हम रोये।

ऐसी करनी कर चलो, हम हँसे जग रोये।।

इस प्रकार अपार जनसैलाब बढता ही जा रहा था लेकिन आज जनमानस में घृणा नफरत के लिए कोई जगह नहीं बची थी बल्कि उसकी जगह करूणा प्रेम का सागर ठाटें मार रहा था।

क्रमशः  –—  अगले अंक में पढ़ें  – पगली माई – दमयंती  – (अंतिम  भाग ) भाग – 19  – श्रद्धांजलि  

-सुबेदार पांडेय “आत्मानंद”

संपर्क – ग्राम जमसार, सिंधोरा बाज़ार, वाराणसी – 221208

मोबा—6387407266




हिन्दी साहित्य- कथा-कहानी ☆  लघुकथा – प्रश्नोत्तर ☆  डॉ. कुंवर प्रेमिल

डॉ कुंवर प्रेमिल

(डॉ कुंवर प्रेमिल जी  जी को  विगत 50 वर्षों  से लघुकथा, कहानी, व्यंग्य में लगातार लेखन का अनुभव हैं। अब तक दस पुस्तकें प्रकाशित। 2009 से प्रतिनिधि लघुकथाएं (वार्षिक) का सम्पादन एवं ककुभ पत्रिका का प्रकाशन और सम्पादन। वरिष्ठतम नागरिकों ने उम्र के इस पड़ाव पर आने तक कई महामारियों से स्वयं की पीढ़ी  एवं आने वाली पीढ़ियों को बचाकर वर्तमान तक का लम्बा सफर तय किया है। स्वयं से प्रश्नोत्तर स्वरुप आपकी  समसामयिक विषय पर आधारित एक मौलिक लघुकथा  “प्रश्नोत्तर”। )

☆ प्रश्नोत्तर ☆  

प्रश्न- आज का दुखद सपना और अकाट्य सत्य क्या है?

उत्तर- आज का दुखद सपना और  अकाट्य सत्य कौरोना वायरस  है! इसे कोई सपने में भी नहीं देखना चाहते हैं ओर सत्या सत्य यह है कि इसे रोका नहीं गया तो एक भीषण तबाही पीढ़ियों को नेस्त नाबूत करने एक दम सामने खडी़ है, इससे बचने की कोई गुंजाईश सतर्कता के अतिरिक्त  दूर दूर तक नजर नहीं आ रही हैं।

लाल बुखार, पीला बुखार, प्लेग, हैजा से बचते बचाते यहां तक तो आ गए अब इस महामारी से कैसे बचेंगे रे भैया? जीवन पर मृत्यु भारी पड़ रही है, आज की यह विकट लाचारी है।  खुदा ही मालिक है, उसके रहमोकरम पर दुनिया सारी है।

 

© डॉ कुँवर प्रेमिल
एम आई जी -8, विजय नगर, जबलपुर – 482 002 मोबाइल 9301822782




हिन्दी साहित्य – ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – संवाद # 23 ☆ लघुकथा – आ अब लौट चलें ☆ डॉ. ऋचा शर्मा

डॉ. ऋचा शर्मा

(डॉ. ऋचा शर्मा जी को लघुकथा रचना की विधा विरासत में  अवश्य मिली है  किन्तु ,उन्होंने इस विधा को पल्लवित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी । उनकी लघुकथाएं और उनके पात्र हमारे आस पास से ही लिए गए होते हैं , जिन्हें वे वास्तविकता के धरातल पर उतार देने की क्षमता रखती हैं।  आप  ई-अभिव्यक्ति में  प्रत्येक गुरुवार को उनकी उत्कृष्ट रचनाएँ पढ़ सकेंगे। आज प्रस्तुत है उनकी एक समसामयिक लघुकथा  “आ अब लौट चलें”।  यह लघुकथा हमें जीवन  के उस कटु सत्य से रूबरू कराती है जिसे हम  जीवन की आपाधापी में मशगूल होकर भूल जाते हैं।  फिर महामारी के प्रकोप से बच कर जो दुनिया दिखाई देती है वह इतनी बेहद खूबसूरत क्यों दिखाई देती है ?  वैसे तो इसका उत्तर भी हमारे ही पास है। बस पहल भी हमें ही करनी होगी। डॉ ऋचा शर्मा जी की लेखनी को इस बेहद खूबसूरत रचना रचने के लिए सादर नमन।)

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – संवाद – # 23 ☆

☆ लघुकथा – आ अब लौट चलें

वही धरती, वही आसमान, वही सूरज, वही  चाँद, हवा वही,  इधर- उडते  पक्षी भी  वही, फिर क्यों लग रहा है कि कुछ  तो अलग है ?  आसमान  कुछ ज़्यादा ही  साफ दिख  रहा है, सूरज देखो कैसे  धीरे- धीरे  आसमान  में  उग  रहा  है, नन्हें अंकुर सा,  पक्षियों  की आवाज कितनी मीठी है ?  अरे ! ये  कहाँ  थे अब तक ? अहा ! कहाँ  से आ  गईं   इतनी रंग – बिरंगी  प्यारी चिडियाँ  ? वह मन ही मन हँस पडा.

उत्तर भी खुद से ही  मिला   –   सब यहीं  था,   मैं  ही शायद   आज  देख रहा हूँ   ये सब  !  प्रकृति हमसे दूर होती  है भला  कभी ? पेड – पौधों   पर   रंग- बिरंगे    सुंदर फूल  रोज खिलते हैं,   हम ही इनसे दूर  रहते हैं ?  जीवन  की  भाग – दौड में हम जीवन का आनंद उठाते कहाँ  हैं ? बस  भागम -भाग  में  लगे रहते हैं,कभी पैसे कमाने और  कभी  किसी पद को पाने की  दौड, जिसका कोई अंत नहीं ? रुककर   क्यों  नहीं  देखते धरती पर   बिखरी  अनोखी सुंदरता को  ?  वह सोच  रहा था —–

-अरे हाँ, खुद को ही तो समझाना है, हंसते हुए एक चपत खुद को लगाई और फिर मानों मन के सारे धागे सुलझ गये. कोरोना के कारण  21 दिन घर में रहना  अब उसे समस्या नहीं समाधान लग रहा था. बहुत कुछ  पा  लिया  जीवन में, अब मौका मिला है धरती की सुंदरता देखने का, उसे जीने का —–

अगली अलसुबह वह चाय की चुस्कियों  के साथ  छत  पर  खडा पक्षियों  से घिरा  उन्हें दाना खिला रहा था. सूरज  लुकाछिपी कर आकाश में लालिमा बिखेरने लगा था. उसके  चेहरे पर ऐसी मुस्कान पहले कभी ना आई  थी.

© डॉ. ऋचा शर्मा

अध्यक्ष – हिंदी विभाग, अहमदनगर कॉलेज, अहमदनगर.

122/1 अ, सुखकर्ता कॉलोनी, (रेलवे ब्रिज के पास) कायनेटिक चौक, अहमदनगर (महा.) – 414005

e-mail – richasharma1168@gmail.com  मोबाईल – 09370288414.




हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ श्री ओमप्रकाश जी की लघुकथाएं # 41 – उन्माद ☆ श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’

श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”

 

(सुप्रसिद्ध साहित्यकार श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश” जी का  हिन्दी बाल -साहित्य  एवं  हिन्दी साहित्य  की अन्य विधाओं में विशिष्ट योगदान हैं। साप्ताहिक स्तम्भ “श्री ओमप्रकाश जी की लघुकथाएं ”  के अंतर्गत उनकी मानवीय दृष्टिकोण से परिपूर्ण लघुकथाएं आप प्रत्येक गुरुवार को पढ़ सकते हैं।  आज प्रस्तुत है उनकी  एक व्यावहारिक लघुकथा  “उन्माद । )

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – श्री ओमप्रकाश जी की लघुकथाएं  # 41 ☆

☆ लघुकथा-  उन्माद  ☆

“हे माँ ! तूने सही कहा था. ये एक लाख रुपए तेरी बेटी की शादी के लिए रखे हैं. इसे खर्च मत कर. मगर मैं नहीं माना, माँ. मैंने तुझ से कहा था, “माँ ! मैं इस एक लाख रुपए से ऑटोरिक्शा खरीदूंगा. फिर देखना माँ. मैं शहर में इसे चला कर खूब पैसे कमाऊंगा.”

“तब माँ तूने कहा था, “शहर में जिस रफतार से पैसा आता है उसी रफ्तार से चला जाता है. बेटा तू यही रह. इस पूंजी से खेत खरीद कर खेती कर. हम जल्दी ही अपनी बिटिया की शादी कर देंगे. तब तू शहर चला जाना.”

“मगर माँ , मैं पागल था. तेरी बात नहीं मानी. ये देख ! उसी का नतीजा है”, कह कर वह फूट-फूट कर रोने लगा. लोग उसे पागल समझ कर उस से दूर भागने लगे.

वह अपने जलते हुए ऑटोरिक्शा की और देख कर चिल्लाया, “देख माँ ! यह ऑटोरिक्शा, उस की डिक्की में रखा ‘बैंक-बैलेंस’ और शादी के अरमान, एक शराबी की गलती की वजह से खाक हो गए.”

 

© ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”

पोस्ट ऑफिस के पास, रतनगढ़-४५८२२६ (नीमच) मप्र

ईमेल  – opkshatriya@gmail.com

मोबाइल – 9424079675




हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ श्रीमति सिद्धेश्वरी जी का साहित्य # 40 – लघुकथा – मुआवजा ☆ श्रीमति सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’

श्रीमती  सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’

(संस्कारधानी जबलपुर की श्रीमति सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’ जी की लघुकथाओं, कविता /गीत का अपना संसार है। । साप्ताहिक स्तम्भ – श्रीमति सिद्धेश्वरी जी का साहित्य  शृंखला में आज प्रस्तुत हैं उनकी एक समसामयिक लघुकथा  “मुआवजा।  श्रीमती सिद्धेश्वरी जी की यह  सर्वोत्कृष्ट लघुकथा है जो अत्यंत कम शब्दों में वह सब कह देती है जिसके लिए कई पंक्तियाँ लिखी जा सकती थीं।  मात्र चार पंक्तियों में प्रत्येक पात्र का चरित्र और चित्र अपने आप ही मस्तिष्क में उभर  आता है। इस सर्वोत्कृष्ट समसामयिक लघुकथा के लिए श्रीमती सिद्धेश्वरी जी को हार्दिक बधाई।

☆ श्रीमति सिद्धेश्वरी जी  का साहित्य # 40☆

☆ लघुकथा  – मुआवजा

कोरोना से गांव में बुधनी की मौत।

अस्सी साल की बुधनी बेटा बहू के साथ टपरे पर रहती थी। गरीबी की मार और उस पर कोरोना का द्वंद। बुधनी अभी दो-तीन दिन से उल्टा पुल्टा चीज खाने को मांग रही थी और रह-रहकर खट्टी दही अचार खा रही थी।  उसे सांस लेने में तकलीफ की बीमारी थी। बेटे ने मना किया पर मान ही नहीं रही थी। अचानक बहुत तबीयत खराब हो गई सांस लेने में तकलीफ और खांसी बुखार । बेटा समझ नहीं पाया अम्मा को क्या हो गया बुधनी अस्पताल पहुंचकर शांत हो गई।  कोरोना से मरने वालों के परिवार को मुआवजा मिलता है। बुधनी ने  पडोस में बातें करते सुन लिया था। शांत होकर भी बुधनी मुस्करा रही थी। अब बेटे के टपरे घर पर खपरैल लग जायेगा।

© श्रीमति सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’

जबलपुर, मध्य प्रदेश




हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ परिहार जी का साहित्यिक संसार # 42 ☆ लघुकथा – कुशलचन्द्र और आचार्यजी ☆ डॉ कुंदन सिंह परिहार

डॉ कुन्दन सिंह परिहार

(आपसे यह  साझा करते हुए हमें अत्यंत प्रसन्नता है कि  वरिष्ठतम साहित्यकार आदरणीय  डॉ  कुन्दन सिंह परिहार जी  का साहित्य विशेषकर व्यंग्य  एवं  लघुकथाएं  ई-अभिव्यक्ति  के माध्यम से काफी  पढ़ी  एवं  सराही जाती रही हैं।   हम  प्रति रविवार  उनके साप्ताहिक स्तम्भ – “परिहार जी का साहित्यिक संसार” शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक पहुंचाते  रहते हैं।  डॉ कुंदन सिंह परिहार जी  की रचनाओं के पात्र  हमें हमारे आसपास ही दिख जाते हैं। कुछ पात्र तो अक्सर हमारे  आसपास या गली मोहल्ले में ही नज़र आ जाते हैं।  उन पात्रों की वाक्पटुता और उनके हावभाव को डॉ परिहार जी उन्हीं की बोलचाल  की भाषा का प्रयोग करते हुए अपना साहित्यिक संसार रच डालते हैं। आज  की लघुकथा  ‘कुशलचन्द्र और आचार्यजी ’  में  डॉ परिहार जी ने उस शिष्य की पीड़ा का सजीव वर्णन किया है जो अपनी पढ़ाई कर उसी महाविद्यालय में व्याख्याता हो जाता है । फिर किस प्रकार उसके भूतपूर्व आचार्य कैसे उसका दोहन करते हैं।  इसी प्रकार का दोहन शोधार्थियों का भी होता है जिस विषय पर डॉ परिहार जी ने  विस्तार से एक व्यंग्य  में चर्चा भी की है। डॉ परिहार जी ने एक ज्वलंत विषय चुना है। शिक्षण के  क्षेत्र में इतने गहन अनुभव में उन्होंने निश्चित ही ऐसी कई घटनाएं  देखी होंगी । ऐसी अतिसुन्दर लघुकथा के  लिए डॉ परिहार जी की  लेखनी को नमन। )
☆ साप्ताहिक स्तम्भ – परिहार जी का साहित्यिक संसार  # 42 ☆

☆ लघुकथा  – कुशलचन्द्र और आचार्यजी   ☆

 कुशलचन्द्र नामक युवक एक महाविद्यालय में अध्ययन करने के बाद उसी महाविद्यालय में व्याख्याता हो गया था। उसी महाविद्यालय में अध्ययन करने के कारण उसके अनेक सहयोगी उसके भूतपूर्व गुरू भी थे।

उनमें से अनेक गुरू उसे उसके भूतपूर्व शिष्यत्व का स्मरण दिलाकर नाना प्रकार से उसकी सेवाएं प्राप्त करते थे। शिष्यत्व के भाव से दबा और नौकरी कच्ची होने से चिन्तित कुशलचन्द्र अपने गुरुओं से शोषित होकर भी कोई मुक्ति का मार्ग नहीं खोज पाता था।

प्रोफेसर लाल इस मामले में सिद्ध थे और शिष्यों के दोहन के किसी अवसर को वे अपने हाथ से नहीं जाने देते थे।

वे अक्सर अध्यापन कार्य से मुक्त होकर कुशलचन्द्र के स्कूटर पर लद जाते और आदेश देते, ‘वत्स, मुझे ज़रा घर छोड़ दो और उससे पूर्व थोड़ा स्टेशन भी पाँच मिनट के लिए चलो।’

कुशलचन्द्र कंठ तक उठे विरोध को घोंटकर गुरूजी की सेवा करता।

एक दिन ऐसे ही आचार्य लाल कुशलचन्द्र के स्कूटर पर बैठे, बोले, ‘पुत्र, ज़रा विश्वविद्यालय चलना है। घंटे भर में मुक्त कर दूँगा।’

कुशलचन्द्र दीनभाव से बोला, ‘गुरूजी, मुझे स्कूटर पिताजी को तुरन्त देना है। वे ऑफिस जाने के लिए स्कूटर की प्रतीक्षा कर रहे होंगे। उनका स्कूटर आज ठीक नहीं है।’

आचार्यजी हँसे, बोले, ‘वत्स, जिस प्रकार मैं तुम्हारी सेवाओं का उपयोग कर रहा हूँ उसी प्रकार तुम्हारे पिताजी भी अपने कार्यालय के किसी कनिष्ठ सहयोगी की सेवाओं का उपयोग करके ऑफिस पहुँच सकते हैं। अतः चिन्ता छोड़ो और वाहन को विश्वविद्यालय की दिशा में मोड़ो।’

कुशलचन्द्र चिन्तित होकर बोला, ‘गुरूजी, हमारे घर के पास ऑफिस का कोई कर्मचारी नहीं रहता।’

आचार्यजी पुनः हँसकर बोले, ‘हरे कुशलचन्द्र! तुम्हारे पिताजी बुद्धिमान और साधन-संपन्न हैं। वे इस नगर में कई वर्षों से रह रहे हैं। और फिर स्कूटर न भी हो तो नगर में किराये के वाहन प्रचुर मात्रा में हैं।’

कुशलचन्द्र बोला, ‘लेकिन रिक्शे से जाने में देर हो सकती है। मेरे पिताजी ऑफिस में कभी लेट नहीं होते।’

आचार्यजी बोले, ‘हरे कुशलचन्द्र, यह समय की पाबन्दी बड़ा बंधन है। अब मुझे देखो। मैं तो अक्सर ही महाविद्यालय विलम्ब से आता हूँ, किन्तु उसके बाद भी मुझे तुम जैसे छात्रों का निर्माण करने का गौरव प्राप्त है। अतः चिन्ता छोड़ो और अपने वाहन को गति प्रदान करो।’

कुशलचन्द्र बोला, ‘गुरूजी, आज तो मुझे क्षमा ही कर दें तो कृपा हो।’

अब आचार्यजी की भृकुटि वक्र हो गयी। वे तनिक कठोर स्वर में बोले, ‘सोच लो, कुशलचन्द्र। अभी तुम्हारी परिवीक्षा अर्थात प्रोबेशन की अवधि चल रही है और परिवीक्षा की अवधि व्याख्याता के परीक्षण की अवधि होती है। तुम जानते हो कि मैं प्राचार्य जी की दाहिनी भुजा हूँ। ऐसा न हो कि तुम अपनी नादानी के कारण हानि उठा जाओ।’

कुशलचन्द्र के मस्तक पर पसीने के बिन्दु झिलमिला आये। बोला, ‘भूल हुई। आइए गुरूजी, बिराजिए।’

इसी प्रकार कुशलचन्द्र ने लगभग छः माह तक अपने गुरुओं की तन, मन और धन से सेवा करके परिवीक्षा की वैतरणी पार की।

अन्ततः उसकी साधना सफल हुई और एक दिन उसे अपनी सेवाएं पक्की होने का आदेश प्राप्त हो गया।

दूसरे दिन अध्यापन समाप्त होने के बाद कुशलचन्द्र चलने के लिए तैयार हुआ कि आचार्य लाल प्रकट हुए। उसे बधाई देने के बाद बोले, ‘वत्स! कुछ वस्तुएं क्रय करने के लिए थोड़ा बाज़ार तक चलना है। तुम निश्चिंत रहो, भुगतान मैं ही करूँगा।’

कुशलचन्द्र बोला, ‘भुगतान तो अब आप करेंगे ही गुरूजी,किन्तु अब कुशलचन्द्र पूर्व की भाँति आपकी सेवा करने के लिए तैयार नहीं है। अब बाजी आपके हाथ से निकल चुकी है।’

आचार्यजी बोले, ‘वत्स, गुरू के प्रति सेवाभाव तो होना ही चाहिए। ‘

कुशलचन्द्र ने उत्तर दिया, ‘सेवाभाव तो बहुत था गुरूजी, लेकिन आपने दो वर्ष की अवधि में उसे जड़ तक सोख लिया। अब वहाँ कुछ नहीं रहा। अब आप अपने इतने दिन के बचाये धन का कुछ भाग गरीब रिक्शे और ऑटो वालों को देने की कृपा करें।’

आचार्यजी ने लम्बी साँस ली,बोले, ‘ठीक है वत्स, मैं पैदल ही चला जाऊँगा।’

फिर वे किसी दूसरे शिष्य की तलाश में चल दिये।

 

© डॉ कुंदन सिंह परिहार

जबलपुर, मध्य प्रदेश




हिन्दी साहित्य ☆ धारावाहिक उपन्यासिका ☆ पगली माई – दमयंती – भाग 16 ☆ श्री सूबेदार पाण्डेय “आत्मानंद”

श्री सूबेदार पाण्डेय “आत्मानंद”

(प्रत्येक रविवार हम प्रस्तुत कर रहे हैं  श्री सूबेदार पाण्डेय “आत्मानंद” जी द्वारा रचित ग्राम्य परिवेश पर आधारित  एक धारावाहिक उपन्यासिका  “पगली  माई – दमयंती ”।   

इस सन्दर्भ में  प्रस्तुत है लेखकीय निवेदन श्री सूबेदार पाण्डेय जी  के ही शब्दों में  -“पगली माई कहानी है, भारत वर्ष के ग्रामीण अंचल में पैदा हुई एक ऐसी कन्या की, जिसने अपने जीवन में पग-पग पर परिस्थितिजन्य दुख और पीड़ा झेली है।  किन्तु, उसने कभी भी हार नहीं मानी।  हर बार परिस्थितियों से संघर्ष करती रही और अपने अंत समय में उसने क्या किया यह तो आप पढ़ कर ही जान पाएंगे। पगली माई नामक रचना के  माध्यम से लेखक ने समाज के उन बहू बेटियों की पीड़ा का चित्रांकन करने का प्रयास किया है, जिन्होंने अपने जीवन में नशाखोरी का अभिशाप भोगा है। आतंकी हिंसा की पीड़ा सही है, जो आज भी  हमारे इसी समाज का हिस्सा है, जिनकी संख्या असंख्य है। वे दुख और पीड़ा झेलते हुए जीवनयापन तो करती हैं, किन्तु, समाज के  सामने अपनी व्यथा नहीं प्रकट कर पाती। यह कहानी निश्चित ही आपके संवेदनशील हृदय में करूणा जगायेगी और एक बार फिर मुंशी प्रेमचंद के कथा काल का दर्शन करायेगी।”)

इस उपन्यासिका के पश्चात हम आपके लिए ला रहे हैं श्री सूबेदार पाण्डेय जी भावपूर्ण कथा -श्रृंखला – “पथराई  आँखों के सपने”

☆ धारावाहिक उपन्यासिका – पगली माई – दमयंती –  भाग 16 – उन्माद ☆

(अब  तक आपने पढ़ा  —- अब तक आप पढ़ चुके हैं कि पगली दवा ईलाज से ठीक हो अपना सामान्य जीवन जी रही थी, उसनें सेवा धर्म अपना लिया था। निस्वार्थ सेवा ही उसके जीवन का अंतिम लक्ष्य बन गया था। उसकी दिनचर्या अच्छी भली चल रही थी। अब आगे पढ़े—- )

पूर्वावलोकन–पगली माई जब लोगों की सेवा करते करते थक कर निढाल हो जाती, तो कुछ पल आराम करने के लिए वटवृक्ष की छांव में आकर लेट जाती। आज पगली माई का दिल बहुत घबरा रहा था।

आज वह ठीक से सो भीनहीं पाई थी, उसे देश और समाज की चिंता सता रही थी। एक तरफ पडोसी देश ईस्लाम के रक्षा के नाम पर विषवमन कर आतंकवादी कार्यवाही में सहयोग तथा समर्थन दे देश में अपने समुदाय के नवयुवा पीढ़ी को भड़का रहा था, तो दूसरी तरफ अपने देश के तथा कथित राजनेता अपना राष्ट्र धर्म भूल वोटों की खेती में छद्म राष्ट्रभक्ति का स्वांग रच कोरी लफ्फाजी करने में ही मस्त थे।  सभी देश हित का परित्याग कर सत्ता के लिए वोटों का समीकरण अपने पक्ष में करने के चक्कर में थे और जनता बेचारी चक्कर-घिन्नी बन खाली खेल देख रही थी। उसे तो कुछ समझ ही नहीं आ रहा था।  चुनाव सर पर था और सत्ता प्राप्ति की चाह उन्हें घिनौनी राजनीतिक चालें चलनें पर मजबूर कर रही थी।

जनता के बीच धार्मिक उन्माद के बीज बो घृणा और नफरत का उन्माद फैला दिया गया था।  कोई खुद को इस्लाम का रक्षक झंडाबरदार बताता तो कोई खुद को हिंदुत्व का पैरोकार और कोई दलित हितों की बात कर अपने स्वार्थ की विषबेल सींच रहा था, कुछ लोग इंसानियत को टुकड़े टुकड़े कर धर्म रक्षा का नाटक कर रहे थे, सभी पार्टियों के नेता धर्म तथा इंसानियत का वास्ता दे आम इंसान का कत्ल करवा रहे थे, क्योंकि उनकी चिता की आग पर राजनीति की रोटी जो उन्हें सेंकनी थी।

वो उन देशवासियों के हत्यारे थे जिनका धर्म, संप्रदाय जातिवाद से कभी कोई रिश्ता भी न था। वे अपनी राह भटक चुके थे।  इन्ही बेकसूरों की चिंता पगली माई को खाये जा रही थी।  कुछ सोचो, जब हमारा राष्ट्र ही नही होगा, तो कहाँ होगा हिन्दू और कहाँ होगा मुसलमान?  आज देश की सारी फिजां में जहर घुला था, लोग अकारण एक दूसरे के खून के प्यासे हो रहे थे, और पगली माई बरगद की छांव में सोई किसी अज्ञात भय आशंका से थर थर कांप रही थी।  उसका आशंकित मन बारबार किसी अनहोनी की आशंका से दहल रहा था।

आज भारत बंद का आह्वान था, जुलूस निकलने वाला था जिसका उद्देश्य विपक्ष का अपना शक्ति परीक्षण तथा पक्ष का उद्देश्य उसे रोकना था।  टकराव की स्थिति उत्पन्न
हो गई थी।  भीड़ जुट गई थी, जोर जोर से नारेबाजी हो रही थी – “जो हमसे टकरायेगा, मिट्टी में मिल जायेगा”, “जिन्दाबाद मुर्दाबाद” के नारों के बीच प्रशासनिक अमला पूरी तरह चाक चौबंद दिख रहा था।

इसी बीच किसी नें भीड़ के बीच पत्थर उछाल दिया था। पत्थर उछलना था कि, मानों कयामत आकर खड़ी हो मुस्कुरा उठी हो। उन्मादी भीड़ हिंसक हो उठी थी और राष्ट्रद्रोहीयों की बांछें खिल गई थी। लगातार ईंट पत्थर हवा में उछल उछल कर जमीन पर गिर रहें थे,। लोगों के घायल शरीरों से निरंतर रक्त के फौव्वरे फूट रहे थे। जहाँ शैतान के  चेहरे पर शैतानी की कुटिल मुस्कान थी, वहीं इंसानियत की आंखों में अपनी बेबसी पर दुख और पीड़ा।

इन्ही दृश्यों को पगलीमाई अस्पताल के गलियारे से देख रही थी। जब उससे हिंसा का नग्न तांडव नहीं देखा गया तो वह दौड़ पड़ी माँ भारती का प्रति रूप बन कर लोगों को हिंसा की ज्वाला से बचाने।

वह लगातार दोनों हाथों को उपर उठाये  समझाने वाले अंदाज में चीखती जा रही थी कि अचानक भीड़ से एक पत्थर उछला और सनसनाता हुआ पगली माई के सिर से टकराया तथा उसके जमींदोज होते होते अनेक पत्थर गिरे थे उसके उपर, उसे देख ऐसा लगा कि शक्ति का अवतार बन दुष्टो का संहार करने वाली नारीशक्ति ने आज अचानक अहिंसा का हथियार उठा लिया हो।

वह हिंसा का जबाब प्रतिहिंसा से नहीं अहिंसा से दे रही थी और पत्थरों की मार सहते सहते वहीं गिर गई।  ऐसा लगा जैसे पगली माई और पत्थरों का जनम जनम का पुराना नाता रहा हो। पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को तितर बितर कर दिया था। जब तथा कथित देशभक्तों की भीड़ छंटी तो वहां का दृश्य हृदय विदारक था। बिखरे ईंट पत्थर तथा जूते चप्पलों के ढेर के बीच घायल पगली दर्द और पीड़ा से जल बिन मछली की तरह पड़ी हुई छटपटा रही थी।  जहाँ प्रशासनिक अमला कानूनी कार्रवाई में व्यस्त थे, वहीं दूसरी तरफ मीडिया कर्मी दंगे फसाद की जड़ तक पहुँच अपना सामाजिक दायित्व निभाते हुये सच्चाई उजागर करने के के प्रयास में प्राणपण से जुटे हुए थे। उन पत्थर दिलों के बीच पड़ी पगली दर्द और पीड़ा को पीने का प्रयास कर रही थी। ऐसा लगा जैसे पत्थरों और पगली का चोली दामन का साथ हो।  उसकी आंखों के आंसू उसकी पीड़ा बयां कर रहे थे, और अब राजनैतिक अंतर विरोध के स्वर मुखरित हो उठे थे।  आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी हो चला था जैसा कि हर घटना के बाद होता है।  और पगली माई आज फिर उसी अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती थी, जहाँ से पहले भी उसने नवजीवन पाया था। सड़क पर निरपराधों का खून देख फफक फफक कर रो पडी़ थी पगली की आत्मा।

अगले दिन अलसुबह के अखबारों में पगली के घायल होने का समाचार छपा तो लगा कि जैसे उसे देखने सारा शहर उमड़ पड़ा हो, क्योंकि तब तक उसके निस्वार्थ सेवा प्रेम की खबर सारे शहर में चर्चा का विषय बन चुकी थी।  आज क्या हिन्दू क्या मुस्लिम सारे लोग अपना मतभेद भुला पश्चाताप की मुद्रा में खड़े थे।  सबके सिर झुके थे, शर्म से, उन्हें अपनी करनी पर अफ़सोस था। और वह बिस्तर पर पड़ी पड़ी सबको मानों अपने ममता के दामन में समेट लेना चाहती हो। उसे किसी से कोई गिला शिक़वा नहीं, उसने सबको क्षमादान दे दिया था। और उसके भीतर मूर्तिमान हो उठी थी साक्षात माँ भारती।

क्रमशः  –—  अगले अंक में7पढ़ें  – पगली माई – दमयंती  – भाग – 17  – महाप्रयाण 

© सूबेदार पांडेय “आत्मानंद”

संपर्क – ग्राम जमसार, सिंधोरा बाज़ार, वाराणसी – 221208

मोबा—6387407266




हिन्दी साहित्य – कथा-कहानी ☆ समय है एक होकर लड़ने का ………  ☆ श्रीमती समीक्षा तैलंग

श्रीमती समीक्षा तैलंग 

 

( कोरोना वायरस की महामारी की त्रासदी  से जूझते विश्व में मानवीय संवेदनाएं जीवित हैं जो हमें जाति, धर्म , भेद भाव से परे जोड़ती है और यह रिश्ता है मानवता का । पढ़िए श्रीमती समीक्षा तैलंग जी की एक सच्ची संवेदनशील कहानी  “समय है एक होकर लड़ने का ……… “।  )

☆ समय है एक होकर लड़ने का ………   ☆

[आज कोई व्यंग्य नहीं है मेरे पास। लेकिन एक हकीकत है, सच्ची कहानी है। पोस्ट कर रही हूं। आग्रह है कि जरूर पढिये। मैं और मेरी मावशी (काम वाली बाई) के बीच हुई बातचीत, एक कहानी के रूप में।  कृपया अवश्य पढिए एक मेड की सच्चाई उसकी जुबानी – समीक्षा तैलंग ]

 

आज सुबह मेरी मावशी (मेड) का फोन आया। मैं भी सोच ही रही थी कि पहल उसी ने कर दी।

जानते हो क्यों… हालचाल लेने, हम सब के…।

वो अब अमरावती में स्थित किसी गांव में है। जो उसका अपना है।

बहुत अच्छा लगता है जब कोई दूसरा आपके लिए फिक्रमंद होता है।

मुझसे इतनी आत्मीयता से पूछा- “कैसे हो ताई आप सब?”

फिर हिदायत के साथ- “बिल्कुल भी बाहर मत निकलना।

थोड़ा बहुत बनाकर, कम बर्तन में ही एकाध महीना काम चला लेना। बच्चों को भी बोल देना थोड़ा थोड़ा काम करवाए आपके साथ।

अब तो दीदी की परीक्षाएं भी आगे बढ़ गई हैं। वो भी थोड़ा आपका हाथ बंटा सकती है।

सब कुछ ऑनलाइन मंगवाना…।”

फिर बोली, “कहीं पर भी मत जाना ताई। भाऊ से भी कहना, संभलकर रहे। वो बड़े साहब हैं। उनको तो ऑफिस जाना पड़ेगा।”

बोली- “ताई कल मोदीजी का भाषण सुना था।”

मैंने कहा, “हां पूरा सुना था।”

बोली- “कितना अच्छा बोले न वो…।

हम लोगों को अपने अपने घर तो भेज दिया क्योंकि शायद कुछ बहुत बड़ा होने वाला है इसलिए। लेकिन वो हम रोजंदारों की कितनी फिकर करते हैं न…।

आपको मालूम है…, वो जब कल बोले न… उसके पहले ही हम लोगों के लिए अनाज दिया जा रहा है, वो भी मुफ्त में।

वो लोग, हम सबसे यही कह रहे हैं, कि बस घर के अंदर रहो। कहीं मत निकलो। हम तुम सबको घर बैठे खिलाएंगे, जब तक ये कोरोना नहीं चला जाता…।

उसकी ये बात मेरे मन को छू गई…।”

शायद यही भावनात्मक डोर है जिसकी वजह से क्या गरीब, क्या अमीर सब अपने प्रधानमंत्री से जुड़ा हुआ महसूस करते हैं।

फिर उसने एक और बात बताई…। “ताज्जुब भी हुआ और लगा कि हमारे गांवों के लोग कितने जागरूक हो चुके हैं।”

बोली- “ताई! हम सब 70 लोग पुणे से बस से अपने गांव पहुंचे। बस स्टैंड पर ही गांव वालों ने हमें रोक दिया।

उन्होंने कहा, जो भी पुणे से आए हैं, सबसे पहले अस्पताल चलो। टेस्ट करने के बाद ही घर आने देंगे।“

बोली- “हम सबको तो पता था कि हमें कुछ नहीं है। फिर भी उनकी तसल्ली के लिए हम सब लोगों ने टेस्ट कराए। और फिर घर गए।

सामान दो दिन तक बाहर धूप में रखा रहा। और अब हम लोग भी घर के अंदर काम नहीं कर रहे।

बस धूप में रहने के लिए, खेतों में काम कर रहे हैं। रात में ही घर को जा रहे। पंद्रह दिन ऐसे ही करेंगे।”

मैंने कहा- “अच्छा कर रहे हो। तुम सब जानते हो अच्छा, बुरा…। अपने घर में सबकी देखभाल करो अच्छे से…। फिर जब सब ठीक हो जाए तभी आना लौटकर।”

बोली- “हां ताई, ऐसा ही करेंगे हम लोग। आप भी सब लोग ठीक से रहो वहां। बहुत चिंता लगी है हम लोगों को।

बीच बीच में फोन करके अपने हालचाल देते रहना और बाहर बिल्कुल मत निकलना क्योंकि वहां ज्यादा फैला हुआ है।”

मैंने कहा- “करूंगी फोन तुम्हें…।” और फिर फोन कट कर दिया।

बस एक ही खयाल आता रहा, यही अपनापन होता है। जो हम सब एक दूसरे से भावनात्मक रूप से जुड़ते चले जाते हैं। अनगिनत लोगों से, कभी भी… कहीं भी…। अपने ही क्या, पराए भी अपने होते चले जाते हैं…।

 

©समीक्षा तैलंग,  पुणे

 




हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ श्री ओमप्रकाश जी की लघुकथाएं # 40 – बेनाम रिश्ता ☆ श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’

श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”

 

(सुप्रसिद्ध साहित्यकार श्री ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश” जी का  हिन्दी बाल -साहित्य  एवं  हिन्दी साहित्य  की अन्य विधाओं में विशिष्ट योगदान हैं। साप्ताहिक स्तम्भ “श्री ओमप्रकाश जी की लघुकथाएं ”  के अंतर्गत उनकी मानवीय दृष्टिकोण से परिपूर्ण लघुकथाएं आप प्रत्येक गुरुवार को पढ़ सकते हैं।  आज प्रस्तुत है उनकी  एक व्यावहारिक लघुकथा  “बेनाम रिश्ता। )

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – श्री ओमप्रकाश जी की लघुकथाएं  # 40 ☆

☆ लघुकथा – बेनाम रिश्ता ☆

 

ट्रेन में चढ़ते ही रवि ने कहा, “ले बेटा ! मूंगफली खा.”

“नहीं पापाजी ! मुझे समोसा चाहिए” कहते हुए उस ने समोसा बेच रहे व्यक्ति की और इशारा किया.

“ठीक है” कहते हुए रवि ने जेब में हाथ डाला.  “ये क्या ?” तभी दिमाग में झटका लगा. किसी ने बटुआ मार लिया था.

“क्या हुआ जी ?”

घबराए पति ने सब बता दिया.

“अब ?”

“उस में टिकिट और एटीएम कार्ड भी था ?” कहते हुए रवि की जान सूख गई .

सामने सीट पर बैठे सज्जन उन की बात सुन रहे थे. कुछ देर बाद उन्हों ने कहा “आप लोगों का वहां जाने और खाने का कितना खर्च होगा ?”

“यही कोई १५०० रूपए .”

” लीजिए” उन सज्जन ने कहा,” वहां जा कर इस पते पर वापस कर दीजिएगा.”

“धन्यवाद” कहते ही रवि की आँखे में आंसू आ गए.

 

© ओमप्रकाश क्षत्रिय “प्रकाश”

पोस्ट ऑफिस के पास, रतनगढ़-४५८२२६ (नीमच) मप्र

ईमेल  – opkshatriya@gmail.com

मोबाइल – 9424079675




हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ श्रीमति सिद्धेश्वरी जी का साहित्य # 39 – लघुकथा – होली का रंग ☆ श्रीमति सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’

श्रीमती  सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’

(संस्कारधानी जबलपुर की श्रीमति सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’ जी की लघुकथाओं, कविता /गीत का अपना संसार है। । साप्ताहिक स्तम्भ – श्रीमति सिद्धेश्वरी जी का साहित्य  शृंखला में आज प्रस्तुत हैं  उनकी एक शिक्षाप्रद लघुकथा  “होली का रंग।  श्रीमती सिद्धेश्वरी जी की यह लघुकथा यह दर्शाने में सफल हो गई है कि गॉंव में अब भी भेदभाव से दूर भाईचारे  से  रहते हैं। फिर आज समाज में ऐसे कौन से तत्व हैं जो इस प्रेम और स्नेह के बंधन को तोड़ने के लिए आमादा है  और आने वाली पीढ़ी के मन में और समाज /गांव की फ़िज़ा में जहर घोलने का काम कर रहे हैं।    सब का कर्तव्य है सब सजग रहें और ऐसे तत्वों से समाज की रक्षा करें। इस अतिसुन्दर  शिक्षाप्रद लघुकथा के लिए श्रीमती सिद्धेश्वरी जी को हार्दिक बधाई।

☆ श्रीमति सिद्धेश्वरी जी  का साहित्य # 39☆

☆ लघुकथा  – होली का रंग

छोटा सा गांव। गांव की सुंदरता भी इतनी की सभी परस्पर भाईचारा से रहते। दुख-सुख सभी वहीं गिनती के घरों पर मिलजुलकर होता था। तीज त्यौहार भी इकट्ठे ही मनाया जाता था। गांव में कहीं से समझ नहीं आता  की हिंदू कौन और मुस्लिम कौन है? सभी अल्लाह के बंदे और सभी ईश्वर के भक्त थे।

माता के जगराता के समय आरती मुल्ला-काजी भी करते और ईद की सेवइयां हिंदू भी बड़े प्यार से अपने-अपने घरों पर बनाते थे। इसी गांव में दो दोस्त-एक मुस्लिम परिवार से और एक हिंदू परिवार से। अतीक और अमन इतनी दोस्ती की साथ में स्कूल आना-जाना, कपड़े भी एक जैसा ही पहनना। रक्षाबंधन का त्यौहार अमन के यहां से ज्यादा अतीक के घर मिलकर मनाया जाता था।

धीरे-धीरे बड़े होने लगे। शहर की हवा गांव तक पहुंचने लगी। पहले बात और फिर सबकुछ अलग हुआ। फिर मन की सांझा होने वाली बातें शायद मन में गठान बनने लगी। दोनों दोस्त एक-दूसरे को मिलते परंतु पहले जैसे दोस्ती नहीं रही।

अतीक आईआईटी कर रहा था। और अमन अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई दूसरे शहर जाकर कर रहे थे। दूरियां दोनों में बढ़ती गई। एक शहर में रहने के बाद भी दोनों कभी नहीं मिलते थे। दोनों के मन में राजनीति का असर और हिंदू-मुसलमान की भावना पनपने लगी थी। अतीक की दोस्ती कुछ खराब लड़कों के साथ हो गई जोकि सभी प्रकार के कामों में आगे रहते थे। दंगा फसाद, तोड़फोड़ और गुप्त रूप से गांव समाज की बातों को बाहर करने का जिम्मा ले रखे थे।

दोनों शहर से गांव कम आने लगे। आते भी तो अलग-अलग। घर वालों को पता नहीं लग रहा था। और साथ आ भी जाते तो पढ़ाई या कुछ काम है कहकर एक-दूसरे के घर आना जाना नहीं कर रहे थे। उनके घरवाले समझ रहे थे की जिम्मेदारी उठाने के लिए दोनों अब समझदार हो रहे हैं। परंतु अमन की मां को सब समझ में आ गया था। क्योंकि अमन ने एक दिन अतीक के बारे में थोड़ा बहुत बताया था। परंतु मां की ममता- “कुछ मत कहना” कहकर चुप करा दी थी। हमें क्या करना है। दोनों बच्चों की नाराजगी परिवार वाले समझ गए थे। परंतु नई पीढ़ी है सब समय पर ठीक हो जाएगा कह कर सोच रहे थे।

अतीक पूरी तरह बदल चुका था। बार-बार समझाता रहता था कि “दोस्त ये सब अच्छा नहीं है। हम गांव वालों को इन सब बातों पर नहीं पड़ना चाहिए। अपना भाईचारा अलग है। हम सब एक हैं। ” परंतु अतीक हमेशा उससे हट कर, नजर बचाकर चला जाता था। कुछ दिनों बाद होली का त्यौहार आने वाला था। अमन ने कहा” अतीक चल गांव चलते हैं। बहुत साल हो गए गांव की होली खेली नहीं हैं। “अतीक ने कहा “चलो इस साल बिल्कुल पकके रंग की होली खेलेंगे।” अमन उसकी बातों को समझ नहीं पाया।

खुशी-खुशी दोनों गांव आए। रात में सारा गांव खुशियां मना रहा था। सभी ढोल बाजों के साथ नाच गा रहे थे। अमन और अतीक भी शामिल थे। दोनों का शहर से आना सभी गांव वालों को अच्छा भी लग रहा था। भंग का नशा भी चढ़ने लगा। सभी झूम रहे थे। ठीक उसी समय अतीक ने धीरे से तेज धार वाला चाकू निकालकर भीड़ में अमन को वार किया जो किसी को दिखाई नहीं दिया और कहा “ये असली रंग की होली।” अमन ने हंसते हुए चाकू को निकालकर लोगों की नजरों से बचाकर होलिका के बीच में फेंक दिया और जोर से चिल्लाया “मुझे लकड़ी से लग गया।” गांव वाले तुरंत अस्पताल ले गए । चोट गहरी नहीं थी अमन बच गया। आंख खोलने पर देखा अतीक के दाहिने हाथ पर बहुत बड़ी पट्टी बंधी है और आंखों से आंसू निकल रहे हैं। अमन कुछ पूछता इससे पहले गांव के एक आदमी ने बताया कि “जिस लकड़ी से तुम को चोट लगी थी। उस लकड़ी को निकालते समय अतीक का हाथ कट गया।”  परंतु बात कुछ और थी। जो दोनों दोस्त जान रहे थे। गांव वाले खुश थे कि दोस्ती का रंग और होली का रंग दोनों गहरा है।

 

© श्रीमति सिद्धेश्वरी सराफ ‘शीलू’

जबलपुर, मध्य प्रदेश