1

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ तन्मय साहित्य #94 – मानसून की पहली बूंदे… ☆ श्री सुरेश कुशवाहा ‘तन्मय’

श्री सुरेश कुशवाहा ‘तन्मय’

(वरिष्ठ साहित्यकार एवं अग्रज श्री सुरेश कुशवाहा ‘तन्मय’ जी हमारे प्रबुद्ध पाठकों के लिए अपनी अप्रतिम रचनाएँ साझा करते रहते हैं। आज प्रस्तुत हैं आपकी एक भावप्रवण कविता   ‘मानसून की पहली बूंदे….….। )

☆  तन्मय साहित्य  # 94 ☆

 ☆ मानसून की पहली बूंदे…. ☆

मानसून की पहली बूंदे

धरती पर आई

महकी सोंधी खुशबू

खुशियाँ जन मन में छाई।

 

बड़े दिनों के बाद

सुखद शीतल झोंके आए

पशु पक्षी वनचर विभोर

मन ही मन हरसाये,

बजी बांसुरी ग्वाले की

बछड़े ने हाँक लगाई।

 

ताल तलैया पनघट

सरिताओं के पेट भरे

पावस की बौछारें

प्रेमी जनों के ताप हरे,

गाँव गली पगडंडी में

बूंदों ने धूम मचाई।

 

उम्मीदों के बीज

चले बोने किसान खेतों में

पुलकित है नव युगल

प्रीत की बातें संकेतों में,

कुक उठी कोकिला

गूँजने लगे गीत अमराई।

मानसून की पहली बूंदें

धरती पर आई

महकी सुध खुशबू

जन-जन में छाई।

 

© सुरेश कुशवाहा ‘तन्मय

जबलपुर/भोपाल, मध्यप्रदेश

मो. 9893266014

संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय ≈




English Literature – Stories – ☆ Kosi Sutluj Express ☆ Dr. Amitabh Shanker Roy Choudhury

Dr. Amitabh Shanker Roy Choudhury

☆ Story – Kosi Sutluj Express ☆ Dr. Amitabh Shanker Roy Choudhury ☆

One lakh twenty-five thousand cusecs of water! Who knows how much it is! This much is flowing through the river Kosi every day during this flood! Otherwise, every year barely five lakhs would flow in the month of September. Or say, nine lakh cusecs in the month of Kuhar or October. Just some days ago, it was a harmless snake which, a couple of days back, has turned into a giant, ferocious and all engulfing anaconda.

And now Kosi is a bit tamed. Its fast-flowing water, washing both the banks, has become a bit subdued. The river Kosi is now flowing gracefully. The colour of all its tributaries – Panar, Lohandra, Mahanadi and Bakra has turned muddy. From orange. As a python becomes listless when it preys upon a deer and swallows it in toto, in the same way Kosi too has become quite gentle now, quite docile like a child. The water level is going down day by day. Every day and every hour people are praying to their Kosi maiya, ‘O goddess Kosi, please have mercy on us. Save us from all these havocs the flood has brought upon us!’

The crowd on the platform of Harrisongunj is a bit thinner today. A few have returned to their homes. Those who could not, stayed back. Probably they are no more left with a dwelling. Or their huts are half drowned in the mud accumulated over the place. Or because of a dead and decaying animal – a dog or a buffalo, lying there, the whole surrounding is stinking so much that no one can dare to set foot even in the courtyard. Some have come back to the platform again, leaving behind their old parents or children. The flood has brought so much of sand along with its water and spread it in their fields, that now they’re not in a position to sow anything there. Some of them are going to Gujarat or Punjab, the far away provinces, in the hope of finding a place to work as a daily wage labourer.

Already the railway minister, who was elected from this constituency, has announced the ticket free travel for the people from places like Saharsa, Araria, Katihar, Supaul, Purnia and Madhepura. So, the railway track has been repaired near the Harrisongung station and again the trains are running along. No one is going to check their tickets when they will board the train. And there are people all around. Packed inside the train, and sitting on its roof too. Every train is not only extremely overcrowded, evidently, they seem to be pouring human beings.                   

Sitting in front of a dry hand pump, Biroja is smoking a bidi. After two days, passed without any food, this afternoon probably rice and pulses will be doled out. May be a piece of onion too will be there for everyone, of course if the luck permits. He has been roaming on the platform, asking every known face, just to get a firsthand knowledge of this. And if the information is found to be correct, he must go to the embankment and bring his daughter Janakdulari from there. His sons, Murli and Madho, are already here, playing on the platform. And his wife is waiting there on the bank of the canal with Janakdulari and Chotu, the youngest son, sleeping in her lap.    

On the embankment of about a hundred-kilometer-long canal, starting from Baluabazar of Supol to Beldor of Khagaria, peoples from various places, have now made their temporary shelters. Many years ago, Kosi would flow along the route of Sursar River; gradually Kosi left that route and moved to west. When, on the night of eighteenth of August the embankment on the Kusaha gave way, from Baluabazar to Saharsa hundreds of villages were submerged or washed away. People fled their homes and villages and reached here carrying their belongings and children, with tears welled up in their eyes. They settled here for a shelter, even if temporary.  

Unfortunately, that embankment place has not been included in the relief register of the district administration. So, when those official people come to distribute eatables from the government, they would come up to the railway platform only. Just after fulfilling their scheduled duty, they would return without caring for those who have been left out. Only a handful of cadres from the peasant organizations, or the sanyasis (sages) of different ashrams or some N.G.O. people are standing by the side of these hapless men and women to help them fight their dreadful hunger.

Mostly it happens that when sattu (powdered Bengal gram) or chiura (parched rice) is distributed at the platform there, the people over here have to keep a fast. And when some kind hearted people come in groups to distribute food materials here, the people on the platform just keep on looking at the signal – ‘When will this red light become green for us? When the passage of food to us, on the platform, will be cleared?’

A state of peculiar contradiction exists between the two places of shelter, when one gets to eat; the other has to keep the fast.

So it can jolly well be said that Biroja is lucky. Half of his family lives on the platform and other half is there on the bund. So, here or there, where so ever if the food is distributed, every one of his family gets at least his or her little share. And the pangs of hunger are taken care of.

Biroja can still remember the scene of that dreadful night. Everything happened so suddenly that there was hardly any time left to think and take a decision in emergency.

‘Hey, get out of your houses. The flood water has arrived at our doorsteps!’ People were shouting all around in his neighbourhood.

Splash…splash…! That night when the water from the river entered their village, at first they were shocked. Everyone was at a loss to decide what to do. As his neighbours were doing, he too took all of his family members to the bund, ‘Don’t waste time, Janki’s mother, quick. Let’s go to the embankment.’

That night onwards the sky became their roof overhead. And the next morning when he came to know that the packets were being distributed at the platform, he rushed there with his sons, Murli and Madho, and his daughter Janakdulari, ‘Come on my children, let’s reach there before those people leave the place.’ The result of all these was that their names were entered in the platform register there.

‘O god! O Mahadeva!’Biroja whispers to himself, ‘I wish I could turn back the clock and bring the wheels of time to a stop!’ But he knew pretty well that he couldn’t do that. He is too helpless to fight against his lot. He is now sitting there near the hand pump just below the platform, and his gaze is fixed at some unseen place in the horizon. There is only one question burning in his mind, ‘Tomorrow or after that, what will happen? The flood water may take days to recede. Till then how can I manage everything? How can I feed my children and my wife?’

‘What the hell are you worried about, Biroja?’ Somebody, from behind, touched his shoulder, ‘Do as I have advised you to.’  

Biroja startles as if hit by a thunder bolt. He forgets to smoke the remaining butt of his bidi. He is thoroughly shaken when the burning end of the bidi touches the tip of his right forefinger, ‘Ouch!’ He shakes his hand in the air. He blows air on his finger and puts it in his mouth just to cool down the burning sensation.

‘Just see the current rate of the maize. Last year it was seven hundred. But this year? Just see for yourself. So, they all are left in the fields to rot. Those that have been brought here in the sacks are rotting too. None to lift them from the platform. I am worried about you. I just don’t know what will you eat yourself and how will you feed your children? Just think. We can pay you four thousand. And it’s not a trifle.’

Biroja is just looking at that man in stony silence. He forgets to utter a single word.

‘Well, bhaiya (buddy), if you’re not happy with this much, five hundred bucks more can be arranged. Not a single paisa more. See, nothing will be left for me. You are from my own village, so I’m doing this for the sake of you only, although surely it will be a huge loss for me. Well, what do ye say?’ He showed the folded thing on his waist. It was quite apparent that in the folds of his dhoti there was money there. He pulled Biroja’s right forefinger and pressed it on the swell below his shirt. 

“Oh!” Biroja lets out a cry. This is the finger which was burnt just now.

The man is scratching his bearded chin. It is a muggy August day; he is sweating and his shirt is wet in front and on his back. S,o he pulls up the stained collar of his shirt and looks around. Then he takes out a little box from his pocket. He sprinkles a little khaini (tobacco leaves) on his left palm and takes out a bit of lime with the tip of the finger and starts rubbing them together. When the mixture is ready after a few minutes, he blows the dust out of it for a while and offers it to Biroja, ‘Come on. The gods in heaven only know when the sacred food will be doled out to the starving people. Why don’t you realize every year this is the ‘loot of June’, a booty for many. If the embankment doesn’t give way, how on earth will it be repaired? And if it is not repaired how on earth the brother-in-law of our irrigation minister is going to get the contract of this repair work? Only we, the poor have to die. Isn’t it a fact? You must think how you are going to feed your children. How will you marry them off? So, I insist my friend, and say, just accept the deal. The yoke on your shoulder will become lighter.’

Biroja is unable to speak, as if he has been bitten by a snake. His eyes have the same feverish gaze that reflects upon the eyes of a carcass that floats in the water of overflowing Kosi.

‘You see the train is going to leave by evening. Once it departs, then you don’t have a chance any more. So, gear up. Let me suppose the deal is final then?’ The man vanishes in the huge sea of the crowd, just like a drop of water.

Daily two trains come from Katihar to Harrisongunj. The moment the train for Delhi arrived at the platform the people rushed towards it. Some are carrying on their heads all their household things wrapped in a cloth and tied with a knot. Others are carrying all their belongings in the tin boxes put on their heads. They’re leaving their ancestral homes in search of new pastures of life. Mostly young and adults they are. And some old ones are there too in the crowd. Only a few have their families with them. In this tempest of life they want to swim together. If their boats are capsized, they are ready to drown together. Life or death – they will face it together. The sage Valmiki had written about the exile of Ram, and the poet of the greatest epic the Mahabharata, Vedvyasa, had penned the story of the exile of the Pandavas, but who will write about the exile of these miserable thousands? Whose pen does hold so much fire and tears altogether?      

‘Dad, let’s go and bring didiya (elder sister) here.’ Murli is rubbing his face on the sweaty back of his father.

‘This train will leave too. Don’t know when they would come with the food packets?’ Madho can no longer bear the hunger pangs. Impatiently he tugs at the sleeve of his father’s shirt.     

‘Oh! They’ll come in jeep or truck. And not by any train.’ The elder Murli tries to explain and console his younger brother.

Biroja stands up. All the three are going to the canal. At this very moment that is the dwelling of every nine out of ten people living around the place.

Janakdulari was applying kajal (collyrium) just under the lower lids of the eyes of their youngest brother, Chotu. She runs towards them the moment she has seen them coming. She whispers to her brothers, ‘Today they would distribute over there, I guess. Isn’t it?’

‘That’s why we’ve come. Come on, quick.’ Although Murli and Madho are just little children, but they know pretty well that no one should get a wink that khichri (mixture of rice and pulses cooked together) is going to be distributed at the platform. If the news leaks out only they are to lose. So, while coming here, Biroja has been continuously reminding them, ‘Just don’t say anything to anybody.’ So, although their mouths are shut, a joyful expectation brimmed in their eyes. And their sister does not fail to read it.

“Ma, just hold Chotu.”Janakdulari puts her brother in her mother’s lap and goes out with them, ‘We’ll return shortly.’

 By the time the four of them arrived at the station, a truck had already reached there with the relief materials. The men and women were jostling in the crowd just to get the little bit of his or her share before anybody else. Scrambling, abusing and scuffling continued…. The humanity was dwarfed in front of the helplessness and the hunger.

None could wait and they started eating from their thalis. Murli says, ‘Let’s take something for maiya, dadda (grandpa) and dadi!’

‘Sure.’ says Biroja and before he could stand a man’s grip was there on his shoulder again. The man was standing just behind him. He gives a wink. Biroja pushes his thali towards Madho and follows him. The man walks up to the end of the platform, and Biroja is following him like a charmed snake.

‘Hey yaar, see, Kosi Sutluj Express will be leaving any moment. Keep this. Four thousand five hundred is here. Don’t worry. In future you can meet your daughter any time.’ The man pushes a bundle in his hand. Biroja withdraws his hands.

‘No, no. What the hell are you talking? I – I can’t accept this.’ Biroja is fumbling. It seems his voice lacks its strength. So much money! Altogether! As if it is god sent. Hey Issar (O god), save me!

‘Come on. Keep this. Just think – with this amount of money for how many days you can give your family a square meal each day. Man, can you ever remember how the stomach belches when it’s full?’ That man grabs Biroja’s hand and he pushes the money forcefully in it.

Biroja has now four thousand and five hundred crunched in his fist. And each note has an inscription printed on it – just below the pillar of the king Ashoka, beside the smiling face of Mahatma Gandhi, the father of the nation, – ‘Victory will prevail for the truth!’

‘Call her. Be quick. The train is about to leave.’ That man gives him a push.

But Madho is not pleased at all with this man. He is eyeing everything suspiciously. He says to his sister, ‘Didiya, what the hell does this man say every day to dad?’ There is frank irritation in his voice.  

Murli’s brows are raised too, ‘Maiya was abusing this man that day, and didn’t you hear?’ He too is at a loss. He fails to apprehend what is going on.

The Kosi Sutluj Express whistled. Suddenly that man comes running towards them. He took hold of Janakdulari’s wrist in a firm grip and he is dragging her on the platform.

Janakdulari starts wailing, ‘Babu, babu! Look, he is dragging me. Where is he taking me to? And why? Why don’t you do something, babu?’

‘Come with me, baby. You will rule like a queen there. Everything will be in your hand. You will get a square meal every day. To your fill. And I’ve already paid your father.’ God knows from where two of his accomplices have arrived and they are shielding the whole happenings. No one can see them. No one bothers.

Janakdulari is wailing. She tries to escape; she wants to cling to her father, but in vain. She wants to run to her father, but she cannot.

There were two policemen standing on the platform. Just a little while ago they were raising their lathis and abusing everybody, ‘Be off. Don’t make a mess.’ But right now they have just melted into thin air. Janakdulari’s shrill cry is drowned in the awful din of voices on the platform. The train starts moving. That man is dragging her. He jumps and gets into the train. He pulls her up.

Both her brothers are shaking their dad violently with their little hands, ‘Babu, that badmash is taking her away.’

The train is moving…..It is gathering speed…

Biroja rushes towards that compartment….He wants to get in, but….

That man was standing at the door. He hits him on his face with his fist, ‘Get off. I’ve already paid you. Go away, you dirty beggar!’

‘Janakia, my darling! Come back. Get down my baby.’ Biroja falls on the platform, from the running train.

‘Babu! Didiya, don’t go!’ Murli and Madho are running after the train. They are wailing. They want to get in.

But Kosi Sutluj Express is running too fast for them….

And the two brothers just fail to catch it.

♣ ♣ ♣ ♣ ♣      

© Dr. Amitabh Shanker Roy Choudhury

Contact: C, 26/35-40. Ramkatora. Varanasi. 221001. Mo. (0) 9455168359, (0) 9140214489 Tel. (0542) 2204504.

Email: asrc.vns@gmail.com

≈ Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈




हिन्दी साहित्य – मनन चिंतन ☆ संजय दृष्टि – लघुकथा –  निश्चय ☆ श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज 

(श्री संजय भारद्वाज जी – एक गंभीर व्यक्तित्व । जितना गहन अध्ययन उतना ही  गंभीर लेखन।  शब्दशिल्प इतना अद्भुत कि उनका पठन ही शब्दों – वाक्यों का आत्मसात हो जाना है।साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं।  हम आपको प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक  पहुँचा रहे हैं। सप्ताह के अन्य दिवसों पर आप उनके मनन चिंतन को  संजय दृष्टि के अंतर्गत पढ़ सकते हैं। )

💥 संजय दृष्टि – लघुकथा –  निश्चय 💥

उसे ऊँची कूद में भाग लेना था पर परिस्थितियों ने लम्बी छलांग की कतार में लगा दिया। लम्बी छलांग का इच्छुक भाला फेंक रहा था। भालाफेंक को जीवन माननेवाला सौ मीटर की दौड़ में हिस्सा ले रहा था। सौ मीटर का धावक, तीरंदाजी में हाथ आजमा रहा था। आँखों में तीरंदाजी के स्वप्न संजोने वाला तैराकी में उतरा हुआ था। तैरने में मछली-सा निपुण मैराथन दौड़ रहा था।

जीवन के ओलिम्पिक में खिलाड़ियों की भरमार है पर उत्कर्ष तक पहुँचने वालों की संख्या नगण्य है। मैदान यहीं, खेल यहीं, खिलाड़ी यहीं दर्शक यहीं पर मैदान मानो निष्प्राण है।

एकाएक मैराथन वाला सारे बंधन तोड़कर तैरने लगा। तैराक की आँंख में अर्जुन उतर आया, तीर साधने लगा। तीरंदाज के पैर हवा से बातें करने लगे। धावक अब तक जितना दौड़ा नहीं था उससे अधिक दूरी तक भाला फेंकने‌ लगा। भालाफेंक का मारा भाला को पटक कर लम्बी छलांग लगाने लगा। लम्बी छलांग‌ वाला बुलंद हौसले से ऊँचा और ऊँचा, बहुत ऊँचा कूदने लगा।

दर्शकों के उत्साह से मैदान गुंजायमान हो उठा। उदासीनता की जगह उत्साह का सागर उमड़ने लगा। वही मैदान, वही खेल, वे ही दर्शक पर खिलाड़ी क्या बदले, मैदान में प्राण लौट आए।

©  संजय भारद्वाज

अध्यक्ष– हिंदी आंदोलन परिवार  सदस्य– हिंदी अध्ययन मंडल, पुणे विश्वविद्यालय  संपादक– हम लोग  पूर्व सदस्य– महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी ☆ ट्रस्टी- जाणीव, ए होम फॉर सीनियर सिटिजन्स 

संजयउवाच@डाटामेल.भारत

writersanjay@gmail.com

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय ≈




हिन्दी साहित्य – कथा-कहानी ☆ बच्चे ☆ श्री विजय कुमार, सह सम्पादक (शुभ तारिका)

श्री विजय कुमार

(आज प्रस्तुत है सुप्रसिद्ध एवं प्रतिष्ठित पत्रिका शुभ तारिका के सह-संपादक श्री विजय कुमार जी  की लघुकथा  “बच्चे)

☆ लघुकथा – बच्चे ☆

ऑफिस के सामने खाली पड़े प्लाट में एक कुतिया ने बच्चे दिए हुए थे। अब कॉलोनी का कोई भी व्यक्ति वहां से गुजरता तो वह उस पर भौंकने लगती और काटने को दौड़ती थी। यहाँ तक कि गली से गुजरने वाले कई बाहरी व्यक्तियों को तो वह घायल भी कर चुकी थी। इसीलिए उस गली से लोगों का गुजरना भी कम हो गया था।

एक दिन मैं सुबह ऑफिस पहुंचा तो देखा कि वह कुतिया ऑफिस के सामने खड़ी थी। ऑफिस के सामने वाली नाली को ऊपर से सीमेंट की शेल्फ बना कर कवर किया हुआ था और वह कुतिया वहीं ताक रही थी। मैंने गौर किया तो पाया कि उसके नीचे से उसके बच्चों की आवाजें आ रही थीं। मैं समझ गया कि इसके बच्चे उस कवर किए हुए हिस्से में चले गए थे और अब कीचड़ होने की वजह से निकल नहीं पा रहे थे।

मैंने ऑफिस के अपने एक सहायक को साथ लिया और उन बच्चों को बचाने में लग गया। कीचड़ ज्यादा होने की वजह से उन बच्चों को निकालना मुश्किल हो रहा था। हम उस कुतिया पर भी नज़र रखे हुए थे कि कहीं वह हमें काट न ले, परन्तु वह बिलकुल शांत हमें बच्चों को निकालते हुए देख रही थी। जब काफी देर तक बच्चे नहीं निकले तो हमने खूब सारा पानी डालना शुरू किया और कुछ कीचड़ कम होने पर पुन: डंडे से बच्चों को निकालना शुरू कर दिया। अब एक एक करके बच्चों का निकलना शुरू हो गया था। जैसे जैसे हम बच्चों को निकाल रहे थे, उनकी मां उन्हें वैसे वैसे ही एक एक करके सुरक्षित जगह पर पहुंचाती जा रही थी। काफी मशक्कत के बाद उसके सारे बच्चों को हम सही सलामत बाहर निकालने में सफल हो गए।

मैंने देखा कि जो कुतिया किसी को अपने आसपास भी फटकने नहीं देती थी, आज उसने हमें एक बार भी कुछ नहीं कहा था, बल्कि हमारी तरफ याचना भरी नज़रों से देख रही थी। अब उसकी आँखों में एक अनोखी चमक और हमारे लिए कृतज्ञता का भाव था। मैं सोच रहा था, “इंसान हो या जानवर, बच्चे सभी को एक समान ही प्यारे और अमूल्य होते हैं…।”

©  श्री विजय कुमार

सह-संपादक ‘शुभ तारिका’ (मासिक पत्रिका)

संपर्क – # 103-सी, अशोक नगर, नज़दीक शिव मंदिर, अम्बाला छावनी- 133001 (हरियाणा)
ई मेल- urmi.klm@gmail.com मोबाइल : 9813130512

≈ ब्लॉग संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈




हिन्दी साहित्य – यात्रा संस्मरण ☆ कुमायूं #77 – 15 – जिम उर्फ़ जेम्स एडवर्ड कार्बेट ☆ श्री अरुण कुमार डनायक

श्री अरुण कुमार डनायक

(श्री अरुण कुमार डनायक जी  महात्मा गांधी जी के विचारों केअध्येता हैं. आप का जन्म दमोह जिले के हटा में 15 फरवरी 1958 को हुआ. सागर  विश्वविद्यालय से रसायन शास्त्र में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त करने के उपरान्त वे भारतीय स्टेट बैंक में 1980 में भर्ती हुए. बैंक की सेवा से सहायक महाप्रबंधक के पद से सेवानिवृति पश्चात वे  सामाजिक सरोकारों से जुड़ गए और अनेक रचनात्मक गतिविधियों से संलग्न है. गांधी के विचारों के अध्येता श्री अरुण डनायक जी वर्तमान में गांधी दर्शन को जन जन तक पहुँचाने के  लिए कभी नर्मदा यात्रा पर निकल पड़ते हैं तो कभी विद्यालयों में छात्रों के बीच पहुँच जाते है. पर्यटन आपकी एक अभिरुचि है। इस सन्दर्भ में श्री अरुण डनायक जी हमारे  प्रबुद्ध पाठकों से अपनी कुमायूं यात्रा के संस्मरण साझा कर रहे हैं। आज प्रस्तुत है  “कुमायूं  – 15 – जिम उर्फ़ जेम्स एडवर्ड कार्बेट”)

☆ यात्रा संस्मरण ☆ कुमायूं #77 – 15 – जिम उर्फ़ जेम्स एडवर्ड कार्बेट☆ 

भारत लम्बे समय तक ब्रिटिश राज के आधीन रहा और जहाँ एक ओर उसने  जनरल डायर सरीखे खूंखार मानवद्रोहियों के अत्याचार सहे तो ऐसे अनेक अंग्रेज भी इस धरा पर आये जिन्होंने यहाँ के निवासियों का दिल अपनी सेवा भावना व न्यायप्रियता से जीता । उस वक्त संयुक्त प्रांत या आज के उत्तरप्रदेश के अंग रहे उत्तराखंड को, ऐसी ही दो महान हस्तियों का सानिध्य मिला, एक बन्दूक के शौक़ीन जिम कार्बेट और दूसरी अहिंसा की पुजारिन लन्दन में जन्मी  कैथरीन उर्फ़ सरला देवी ।

जिम यानी जेम्स एडवर्ड कार्बेट 1875 में कालाढुँगी के पोस्टमास्टर की ग्यारहवीं संतान के रूप में जन्मे और जब वे केवल चार वर्ष के नन्हे बालक थे तो उनके पिता की मृत्यु हो गई । कुमाऊं के अपेक्षाकृत मैदानी इलाके में बसे कालाढुँगी के खूबसरत जंगल जानवरों और परिंदों से भरे थे और यहाँ के बृक्ष, हिंसक जानवर,कोसी के अज़गर, चारा चरते हिरण और आसमान में उड़ते परिंदे नन्हे जिम के पहले साथी बने । आठ वर्ष की उम्र में, गुलेल और तीर कमान से जंगली मुर्गियों और मोरों का शिकार करने वाला यह नन्हा शिकारी, दुनाली भरतल बंदूक का मालिक बना । ऐसी बंदूक जिसकी  दाईं नाल फटी हुई थी और पीतल के तारों से बन्दूक के कुंदे और नालों को आपस में जोड़कर बांधा गया था । पर इससे क्या ? नन्हे शिकारी के लिए यह थी तो गर्व की बात । और यह गौरव पूर्ण क्षण जिम ने सबसे पहले अपने चाचा की उम्र के  कुंवर सिंह के साथ साझा किये जिसने उसे शिकार खेलने की बारीकियां समझाई और साथ ही पेड़ों पर चढ़ना भी सिखाया । बाद के दिनों में कुंवर सिंह अफीमची हो गया और बहुत बीमार पड़ा तब जिम कार्बेट ने उसकी बड़ी सेवा की और मौत के मुंह से बाहर निकाला ।   

जिम, जिसे कुमाऊं के पहाड़ी लोग आदर से कापेट साहब कहते थे , ने अठारह वर्ष की उम्र में अपनी स्कूली शिक्षा नैनीताल से पूरी की और फिर रेलवे में नौकरी कर ली । इस सिलसिले में उन्हें अपने प्रिय जंगलों से हज़ार किलोमीटर दूर बिहार के मोकामा घाट में जाना पडा । यहाँ रहते हुए उन्होंने अपने कामगारों के बच्चों के लिए स्कूल खोला और इस काम में उनके साथी बने स्टेशन मास्टर रामसरन, जो खुद तो ज्यादा पढ़े लिखे न थे पर शिक्षा का महत्व समझते  थे । बाद में सरकार ने स्कूल को अधिकृत कर मिडिल स्कूल  बना दिया और जिम के साथी रामसरन को ‘राय साहब’ का खिताब मिला । खेलकूद के शौक़ीन जिम ने मैदान साफ़ करवाकर फुटबाल और हॉकी के खेल शुरू किए और इसी दौरान वे प्रथम विश्वयुद्ध के समय वे सेना में भर्ती हो गये । मोकामाघाट में ही उन्होंने माल लदाई का ठेका लिया ।

सेना की नौकरी से त्यागपत्र देकर जिम 1922 में कालाढुँगी आकर बस गए । यहाँ उन्होंने खेती की जमीनें खरीदी, जंगली जानवरों से खेतों की रक्षा के लिए लम्बी बाउंड्री वाल बनवाई, सत्रह कृषक  परिवारों को न केवल बसाया वरन  उनके लिए पक्के मकान बनवाये, अपने लिए एक शानदार बँगला बनवाया । जिम का यह बँगला कोई दो हेक्टेयर जमीन के एक छोटे से हिस्से में बना था । और इसमें वे अपनी बहन मैगी और शिकारी कुत्ते रोबिन के साथ सर्दियों के मौसम में रहते थे । उनकी गर्मिया व्यतीत होती थी नैनीताल के गुर्नी हाउस में । 1947 में भारत आज़ाद हुआ और जिम ने भरे मन से अपने इस प्यारे देश, जहाँ उसका जन्म हुआ और नाम व प्रसिद्धि मिली, को अलविदा कह दिया और वे अपनी बहन के साथ केन्या में जा बसे, जहाँ उनकी मृत्यु 1955 में हो गई । जब वे भारत छोड़ कर जा रहे थे तब   कालाढुँगी  का बँगला चिरंजीलाल को बेच दिया और खेती की जमीनें कृषकों के नाम कर दी । वन विभाग ने इस बंगले को 1965 में खरीदकर, जिम कार्बेट के द्वारा उपयोग में लाई गई अनेक वस्तुएं, बर्तन, मेज-कुर्सी, शिकार व अन्य गतिविधियों को दर्शाते उनके चित्रों व छायाचित्रों को संग्रहित कर संग्रहालय का स्वरुप दिया है । ऐसा कर उत्तराखंड के वन विभाग ने इस महान शिकारी, अद्भुत लेखक और एक शानदार इंसान, जिसे अपने लोगों व सहकर्मियों से और इस देश के वाशिंदों से बेपनाह प्यार  था, को सच्ची श्रद्धांजलि दी है ।

जिम कार्बेट जब केन्या में बस गए तो उन्हें भारत में बिताए अपने पचहत्तर से कुछ कम वर्षों की बहुत याद आती और अपनी इन्ही यादों को, शिकार की कहानियों को, भारत के जंगल की वनस्पतियों व जानवरों को, जंगल के प्राकृतिक सौन्दर्य और सबसे बढ़कर नैनीताल की हरी-भरी  वादियों से लेकर कालाडुंगी के मैदानों और फिर सूदूर बिहार के मोकामाघाट के भोले-भाले ग्रामीणों के साथ बिताए दिनों का शानदार वर्णन उन्होंने कोई आधा दर्जन किताबों के माध्यम से किया । उनकी चर्चित कृतियों में कुमाऊं के नरभक्षी, जीती जागती कहानी जंगल की और मेरा हिन्दुस्तान बहुत लोकप्रिय है । कुमाऊं के नरभक्षी की कहानियां तो महाविद्यालय के अंग्रेजी  पाठ्यक्रम में लम्बे समय तक शामिल रही ।

जिम कार्बेट का जंगल ज्ञान अद्भुत था । उन्हें पत्ता खडकने, वृक्षों को देखकर, जानवरों के पदचिन्ह देखकर जंगल में क्या घटने वाला है इसका अंदाजा हो जाता था । वे शेर की आवाज निकालने में माहिर थे और अक्सर नरभक्षी शेर को मादा शेर की आवाज निकालकर अपनी ओर आकर्षित कर लेते थे । कुमाऊं के प्रशासन ने जंगलों में पनाह लिए दुर्दांत दस्यु सुल्ताना को पकड़ने के लिए जिम कार्बेट की मदद ली थी और उन्होंने अनेक बार पुलिस टीम को जंगल में भटकने से बचाया था ।  उनका निशाना इतना गजब का था कि शायद ही कोई गोली बेकार गई हो । अपनी बहादुरी और जंगल ज्ञान के कारण उन्होंने कोई दस नरभक्षी शेरों का शिकार हिमालय की तराई में बसे जंगलों में किया । वे 1931में गिर्जिया गांव के पास मोहन नरभक्षी शेर का शिकार करने नैनीताल जिला प्रशासन द्वारा भेजे गए। शेर के संबंध में जानकारियां एकत्रित करते वक्त ग्रामीणों ने  बताया कि जब कभी रात में शेर गांव में आता है तो रूक-रूककर हल्के कराहने की आवाज सुनाई देती है । जिम ने उनके द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर अंदाज लगाया कि शेर घायल हैं और बंदूक की गोली या साही के नुकीले कांटे ने उसके पैर में जख्म बना दिए हैं । ग्रामीण जिम की बात से असहमत थे क्योंकि उन्होंने दिन में इसी शेर को पूर्णतः स्वस्थ देखा है। लेकिन जब जिम ने इस नरभक्षी का शिकार किया तो ग्रामीणों के आश्चर्य का ठिकाना न रहा क्योंकि उसके अगले बाएं पैर से साही के चार से पांच इंच तक लंबे तीस कांटे निकले । इन्हीं घावों ने इस शेर को नरभक्षी बना दिया और चलते वक्त उसके कराहने की आवाज ग्रामीणों को सुनाई देती थी।

हम सब, कभी न कभी जंगल , वन अभ्यारण्य या वाघ संरक्षण केन्द्रों का , आनन्द लेने  जिप्सी सफारी से गए होंगे और अगर  हमने जंगल में बाघ, तेंदुए  या अन्य किसी बड़ी बिल्ली को नहीं देखा होगा तो चिड़ियाघरों में तो वनराज के दर्शन अवश्य करे होंगे । इस दौरान आपने कभी गौर किया कि जंगल में जब बाघ विचरता होगा तो कैसा दृश्य निर्मित होता होगा ? इसका शानदार चित्रण जिम कॉर्बेट ने अपनी पुस्तक ‘Man Eaters of Kumaon’ के एक अध्याय ‘The Bachelor of Powalgarh’ में किया है । कुमायूं के जंगलों में विचरण करने वाला यह 10 फीट 7 इंच लंबा मानवभक्षी बाघ अंतत: जिम की बन्दूक  से निकली गोली का शिकार बना पर शिकार होने से पहले 1920 से 1930 तक इसकी उपस्थिति मात्र से पहाड़ के बहादुर निवासी भी अपने-अपने घरों में दुबक जाते थे । आप भी जिम की इस कहानी के छोटे से हिस्से का मजा लीजिये ।   

Sitting on a tree stump and smoking, I had been looking at this scene for sometimes when the hind nearest to me raised her head, turned in my direction and called ; and a movement later the Bachelor stepped Into the open, from the thick bushes below me.  For a long minute he stood with head held high surveying the scene, and then with slow unhurled steps started to cross the glade. In his rich winter coat, which the newly risen sun was lighting up, he was a magnificent sight as, with head turning now to the right and now to the left, he walked down the wide lane the deer had made for him. At the stream he lay down and quenched his thirst, then sprang across and, as he entered the dense tree jungle beyond, called three times ।n acknowledgement of the homage the jungle folk had paid him, for from the time he had entered  the glade every chital had called, every jungle fowl had cackled, and every one of a troupe of monkeys on the trees had chattered.

जिम कार्बेट को जंगल के जानवरों की न्यायप्रियता पर इंसानों से ज्यादा भरोसा था । एक बार जंगल में उन्होंने इसका अद्भुत नज़ारा देखा । जंगल के खुले मैदान में एक शेरनी महीने भर के बकरी के बच्चे का पीछा करते हुए जिम को दिखी । मेमना शेरनी को आते हुए देखकर मिमियाने लगा और शेरनी ने भी दबे पाँव उसका पीछा करना बंद किया और सीधे उसकी तरफ बढी । जब शेरनी मेमने से कुछ ही गज दूर थी तो बच्चा शेरनी से मिलने उसकी तरफ बढ़ा । शेरनी के बिलकुल नज़दीक पहुंचकर उसने अपना मुख आगे बढ़ाकर शेरनी को सूंघा । दिल में होने वाली  दो-चार  धडकनों तक जंगल की रानी और मेमना नाक से नाक मिलाये खड़े रहे । फिर अचानक शेरनी पलटी और जिस रास्ते आई थी उसी रास्ते वापस चली गई । जिम ने इस घटना को द्वितीय विश्वयुद्ध मे ख़त्म होने पर ब्रिटिश राज के बड़े नेताओं द्वारा हिटलर और दुश्मन देशों के नेताओं को ‘जंगल का क़ानून ‘ लागू करने संबंधी बयान पर आपत्ति दर्ज करते हुए अपने संस्मरणों में लिखा है कि ‘यदि ईश्वर ने वही क़ानून इंसानों के लिए बनाया होता जो उसने जंगली जानवरों के लिए बनाया है तो कोई जंग होती ही नहीं क्योंकि तब इंसानों में जो ताकतवर होते उनके दिल में अपने से कमजोर लोगों के लिए वही जज्बा होता जोकि जंगल के क़ानून में हम अभी देख चुके हैं ।’

जिम की कहानियों में उन ग्रामीणों का भी वर्णन है जो बड़ी मुफलिसी और गरीबी में अपने दिन गुजार रहे थे । उनकी इन कहानियों के पुनवा, मोती, कुंती, पुनवा की माँ जैसे अनेक नायक हैं जो ईमान की खातिर रुपये पैसे की परवाह नहीं करते थे । उनकी ऐसी ही कहानी का नायक उच्च जाति का ग्रामीण पहाड़ी है जो  जंगल में दलित परिवार के दो  बिछुड़े बच्चों को खोजकर लाता है और जब उसे घोषित ईनाम के पचास रुपये गाँव के लोग देने की बात करते हैं तो वह यह रकम लेने से ही इनकार कर देता है, क्योंकि उसकी निगाह में पुण्य का कोई मोल नहीं है । जिम की इन काहनियों से हमें तत्कालीन भारत की गरीबी, बाल विवाह, जात-पात, ऊँच नीच के भेदभाव का वर्णन मिलता है।

©  श्री अरुण कुमार डनायक

42, रायल पाम, ग्रीन हाइट्स, त्रिलंगा, भोपाल- 39

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈



हिन्दी साहित्य – कविता ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – मृग तृष्णा # 45 ☆ मौत से रूबरू ☆ श्री प्रह्लाद नारायण माथुर

श्री प्रहलाद नारायण माथुर

(श्री प्रह्लाद नारायण माथुर जी अजमेर राजस्थान के निवासी हैं तथा ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी से उप प्रबंधक पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। आपकी दो पुस्तकें  सफर रिश्तों का तथा  मृग तृष्णा  काव्य संग्रह प्रकाशित हो चुकी हैं तथा दो पुस्तकें शीघ्र प्रकाश्य । आज से प्रस्तुत है आपका साप्ताहिक स्तम्भ – मृग तृष्णा  जिसे आप प्रति बुधवार आत्मसात कर सकेंगे। इस कड़ी में आज प्रस्तुत है आपकी भावप्रवण कविता ‘मौत से रूबरू । ) 

 

Amazon India(paperback and Kindle) Link: >>>  मृग  तृष्णा  

 

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – मृग तृष्णा # 45 ☆

☆ मौत से रूबरू

वैसे तो मुझे यहां से जाना ना था,

मुझे अभी तो और जीना था,

कुछ मुझे अपनों के काम आना था,

कुछ अभी दुनियादारी को निभाना था,

एक दिन अचानक मौत रूबरू हो गयी,

मैं घबरा गया मुझे उसके साथ जाना ना था,

मौत ने कहा तुझे इस तरह घबराना ना था,

मुझे तुझे अभी साथ ले जाना ना था,

सुनकर जान में जान आ गयी,

मौत बोली तुझे एक सच बतलाना था,

बोली एक बात कहूं तुझसे,

यहाँ ना कोई तेरा अपना था ना ही कोई अपना है,

मैं मौत से घबरा कर बोला,

मैं अपनों के बीच रहता हूँ यहां हर कोई मेरा अपना है,

 

मैंने मौत से कहा तुझे कुछ गलतफहमी है,

सब मुझे जी-जान से चाहते हैं हर एक यहां मिलकर रहता है,

मौत बोली बहुत गुमान है तुझे अपनों पर,

तेरे साथ तेरा कोई नहीं जायेगा जिन पर तू गुमान करता है,

मैंने भी मौत से कह दिया,

तुझ पर भरोसा नहीं, तुझ संग कभी इक पल भी नहीं गुजारा है,

भले अपने कितने पराये हो जाये,

मुझे इन पर भरोसा है इनके साथ सारा जीवन बिताया है ||

 

© प्रह्लाद नारायण माथुर 

8949706002
pnmathur15@gmail.com
≈ सम्पादक श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय ≈



हिन्दी साहित्य – कविता ☆ “श्री रघुवंशम्” ॥ हिन्दी पद्यानुवाद सर्ग # 1 (66-70) ॥ ☆ प्रो. चित्र भूषण श्रीवास्तव ‘विदग्ध’

॥ श्री रघुवंशम् ॥

॥ महाकवि कालिदास कृत श्री रघुवंशम् महाकाव्य का हिंदी पद्यानुवाद : द्वारा प्रो. चित्र भूषण श्रीवास्तव ‘विदग्ध’

☆ “श्री रघुवंशम्” ॥ हिन्दी पद्यानुवाद सर्ग # 1 (66-70) ॥ ☆

अब मेरे उपरांत क्या होगा श्राद्ध – विधान

यह विचार कर पितृगण चिन्तित व्यथित महान ॥66॥

 

मेरा पय का अर्ध्य भी कर दुख से स्वीकार

दिखते हैं चिंतित, किसे दूँगा यह अधिकार ॥ 67॥

 

संतति क्रम के लोप से में भी हूं परितप्त

धूप – छॉव के जाल सम आश – निराश त्रस्त॥68॥

 

दान तपस्या पुण्य है पारलोक सुख स्रोत्र

लोक और परलोक में संतति सुख का स्रोत्र ॥ 69॥

 

आश्रम पालित वृक्ष सम मुझे देख स्वयमेव

ऐसा संतति हीन जो, क्या न दुखी गुरूदेव ॥ 70॥

 

© प्रो. चित्र भूषण श्रीवास्तव ‘विदग्ध’   

A १, विद्युत मण्डल कालोनी, रामपुर, जबलपुर. म.प्र. भारत पिन ४८२००८

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय ≈




मराठी साहित्य – कवितेचा उत्सव ☆ ज्येष्ठ ☆ श्री सुहास रघुनाथ पंडित

श्री सुहास रघुनाथ पंडित

🦋 कवितेचा उत्सव 🦋

☆ ज्येष्ठ ☆ श्री सुहास रघुनाथ पंडित ☆

शुष्क धरेवर शुभ्र घनासह पाय रोवले ज्येष्ठाने

कपाशीपरी मेघ भासती,की पंख पसरले हंसाने

 

वसंत सरला,ग्रीष्म भडकला,आग पेटली चोहिकडे

गुलमोहर हा उतू चालला,केशर मिश्रित पडती सडे

 

दिवस लांबले,पवन थांबले,पानोपानी रंग बदलले

सर हलकिशी यावी म्हणूनी आसुसलेले हे डोळे

 

कुटुंबवत्सल कुठे पक्षिणी घरट्यातून विसावे

मातीमधुनी क्वचित कोठे मृगकीटक खुणावे

 

ज्येष्ठ तपस्वी ॠषीमुनीसम या धवल मेघमाला

श्यामवर्ण मेघांचा होईल,सुखवी जो बळीराजाला.

 

©  श्री सुहास रघुनाथ पंडित

सांगली (महाराष्ट्र)

मो – 9421225491

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडळ (मराठी) – श्रीमती उज्ज्वला केळकर/श्री सुहास रघुनाथ पंडित /सौ. मंजुषा मुळे ≈




मराठी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ कवितेच्या प्रदेशात # 97 ☆ स्फुट ☆ सुश्री प्रभा सोनवणे

सुश्री प्रभा सोनवणे

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – कवितेच्या प्रदेशात # 97 ☆

☆ स्फुट ☆

मी डोळे उघडले सकाळी

सात वाजता,

तेव्हा नवरा स्वतःचा चहा करून घेऊन, टेरेस वरच्या फुलझाडांना पाणी द्यायला गेलेला!

मी फेसबुक, व्हाटस् अॅप वर नजर टाकली…..

काल रात्री एक कवयित्री मैत्रीण म्हणाली,

“अगं तू “सुंदर” का म्हणालीस त्या पोस्टला? किती खोटं आहे ते सगळं…..”

खरंतर न वाचताच सांगीवांगी

मी त्या पोस्टला “सुंदर” म्हटलेलं,

मग फेसबुक वर जाऊन वाचलं ते

आणि

काढून टाकलं लाईक आणि कमेन्ट

खरंतरं न वाचताच मत देत नाही मी कधीच पण अगदी जवळच्या व्यक्तीनं भरभरून कौतुक केलेलं पाहून,  मी ही ठोकून दिलं….”सुंदर”!

आता ते ही डाचत रहाणार दिवसभर….!

 

तिनं सांगितलं….एका कवीनं स्वतःचीच तारीफ करण्यासाठी फेसबुक वर

खोटी अकाऊंटस उघडल्याची आणि ते उघडकीस आल्यावर त्याला नोकरीवरून काढून टाकल्याची बातमी!

खोट्या पोस्ट टाकणा-यांनाही होईल अशीच काही शिक्षा!

 

बापरे…आत्मस्तुतीसाठी काहीही…..

 

काल रात्रीचा भात कावळ्याला ठेवण्यासाठी टेरेसवर गेले तर…

नवरा मोबाईल वर कुणाचा तरी “समझौता” घडवून आणत असलेला….

मी खुडली मोग-याची फुलं,

वीस मिनिटं कोवळी  उन्हं अंगावर घेत,

नाष्टा बनवायला खाली उतरले,

पण मोबाईल वाजला…

दोन मिनिटं बोलली सखी छानसं…

 

तर मोबाईल वर दिलीप सायरा ची छबी!

आजकाल मला सायरा सती सावित्री वाटायला लागली आहे,

पुन्हा पुन्हा  नव-याचे प्राण वाचवणारी…..

 

हे स्फुट टाईपत बसले,

आणि नव-यानं झापलं..”हे काय नाष्टा नाही बनवला?”

 मोबाईल ठेवून किचनकडे वळले,

साडेनऊ ची वेळ पाळली चहा नाष्ट्याची!

तरीही नव-याच्या बोलण्यातली धार जाणवली ……

 

टोचत राहते नेहमीच,

“आपण खुपच निकम्मे आहोत की काय?” ही टोचणी,

आजूबाजूचे बरेच जण स्वतःला

खुपच ग्रेट समजत असताना!

 

खरंच हे किती बरं आहे, न्यूनगंडच असल्याचे, मला आठवते…. मी नेहमीच, ”  ” शुक्रिया, आपने मुझ नाचिज को इस काबिल समझा। 

म्हटल्याचे!

© प्रभा सोनवणे

“सोनवणे हाऊस”, ३४८ सोमवार पेठ, पंधरा ऑगस्ट चौक, विश्वेश्वर बँकेसमोर, पुणे 411011

मोबाईल-९२७०७२९५०३,  email- sonawane.prabha@gmail.com
≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडळ (मराठी) – श्रीमती उज्ज्वला केळकर/श्री सुहास रघुनाथ पंडित /सौ. मंजुषा मुळे ≈



मराठी साहित्य – जीवनरंग ☆ कर्जदार (भावानुवाद) ☆ श्रीमती उज्ज्वला केळकर

श्रीमती उज्ज्वला केळकर

🌸जीवनरंग 🌸

☆ कर्जदार (भावानुवाद) ☆ श्रीमती उज्ज्वला केळकर

‘बाबांसाठी प्लाज्मा डोनरची आवश्यकता होती. हॉस्पिटलमध्ये चौकशी केल्यावर प्लाज्मा मिळू शकेल, असा कळलं. ती सगळी प्रक्रिया पूर्ण झाली. मी प्लाज्मा डोनरला भेटण्याची इच्छा व्यक्त केली आणि समोर आला, बुधना रहमकर.

‘अरे तुम्ही?’ मला आश्चर्य वाटलं. तुमची कवच कुंडले कुठे गेली?’ तुम्ही करोनाच्या पकडीत कसे सापडलात?’

गेल्या वर्षी ‘सुपर स्पेशालिटी होस्पिटलमध्ये माझी मोठी काकू करोनावरील उपचारासाठी अ‍ॅडमिट होती. ऐंशीच्या वर तिचं वय होतं. अर्थरायटीसमुळे ती तशीही चालू शकत नव्हती. घरातल्या कुणालाही आतमध्ये प्रवेश नव्हता. आमची चिंता होती, तिथे काकूकडे नीट लक्ष दिलं जाईल की नाही? तिची देखभाल नीट होईल ना? कुणी परिचित नर्स मिळेल का,  काकूची नीट देखभाल करण्यासाठी?. एवढ्यात बुधना भेटला. म्हणाला, ‘आपण आपल्या काकूची मुळीच काळजी करू नका. मी त्यांची नीट देखभाल कारेन. आपण गेटवर जे काही द्याल, ते मी त्यांच्यापर्यंत पोचवेन. फोनवर आपलं त्यांच्याशी बोलणं करवीन. तुमची काकू आता माझी काकू आहे. मी त्यांची चांगली काळजी घेईन.’

‘पण तुम्हाला हे लोक आत कसे येऊ देतात?’

‘ मी त्यांनाही मदत करतो.’

‘तुला कोरोनीची भीती वाटत नाही?’

‘नाही. माझ्या शरीरावर कवच कुंडले आहेत. ती मला सुरक्षित ठेवतात.

 ‘कवच कुंडले….’

‘होय. त्यांची नावे आहेत, गरीबी आणि बेरोजगारी.

वर्षभरापासून आपल्यासारख्यांकडून जे मिळतं, त्यावरच मी माझं घर चालवतो.

मी त्याला 200 रु. देत म्हणतो,’ हे ठेवा. नंतर आणखीही देईन. काकू इथे आहेत, तोपर्यंत त्यांच्याकडे  लक्ष ठेवा.’ नंतर काकू बरी होऊन घरी आली.

बुधनाकडे पहात मी म्हंटलं, ‘तुमची कवच कुंडले कुठे गेली? तुम्ही करोनाच्या पकडीत कसे सापडलात?’

 ‘सर, तेव्हा काय व्हायचं, घरी गेलं की आई सक्तीनं, मिठाच्या पाण्याच्या गुळण्या करायला लावायची. कसला तरी काढादेखील प्यायला द्यायची. पण जसजसे होस्पिटलमध्ये पेशंट वाढू लागले, तसतसं घरी जाणं बंद झालं. तिथेच जेवणं- खाणं, रहाणं, झोपणं होऊ लागलं. मिठाच्या पाण्याच्या गुळण्या करायचं, कामाच्या नादात राहून गेलं आणि एक दिवस पॉझिटिव्ह झालो.’

या दरम्यान मी बुधनाला एक लिफाफा आणि आपलं कार्ड सोपवत म्हंटलं, ’धन्यवाद! तुझ्यापाशी माझं कार्ड ठेव. कधी गरज लागली, तर फोन कर.’

बुधनाने कार्ड ठेवून घेतलं आणि लिफाफा परत करत म्हंटलं, ‘सर, मला माहीत आहे, यात काय आहे. सर मी हे घेणार नाही.’

‘यात फार नाही, फक्त पाचशे आहेत. तुझ्या कामी येतील.’

‘नको सर, मी डोनर नाही, कर्जदार आहे. करोना पेशंटसच्या नातेवाईकांच्याकडून आधीच खूप काही घेतलय.  त्याच्या बदल्यात सेवा देण्याच्या ऐवजी स्वत:च आजारी पडलो. तेच कर्ज मला चुकवायचय.

मूळ हिन्दी कथा – कर्ज़दार  

मूळ लेखक – भगवान वैद्य ‘प्रखर‘

अनुवाद –  श्रीमती उज्ज्वला केळकर

176/2 ‘गायत्री’, प्लॉट नं 12, वसंत साखर कामगार भवन जवळ, सांगली 416416 मो.-  9403310170

≈संपादक–श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडळ (मराठी) – श्रीमती उज्ज्वला केळकर/श्री सुहास रघुनाथ पंडित /सौ. मंजुषा मुळे ≈