image_print

ई-अभिव्यक्ति:  संवाद–45

ई-अभिव्यक्ति: संवाद- 48 ☆ ई- अभिव्यक्ति India Book of Records और  Directory of Most Popular Blogs in India में दर्ज 

प्रिय मित्रों,

मैं अभिभूत हूँ और इन पंक्तियों को लिखना मेरे जीवन के अत्यंत भावुक क्षणों में एक हैं। 1 ½ वर्ष  पूर्व जब गुरुवर डॉ राजकुमार तिवारी ‘ सुमित्र’ जी के निम्न आशीर्वचन से ई-अभिव्यक्ति का शुभारम्भ किया था जिसे मैंने गुरुमंत्र की तरह लिया और प्रयास करता हूँ कि उसका सतत पालन करूँ –

सन्दर्भ : अभिव्यक्ति 

संकेतों के सेतु पर, साधे काम तुरन्त ।
दीर्घवायी हो जयी हो, कर्मठ प्रिय हेमन्त ।।

काम तुम्हारा कठिन है, बहुत कठिन अभिव्यक्ति।
बंद तिजोरी सा यहाँ,  दिखता है हर व्यक्ति ।।

मनोवृत्ति हो निर्मला, प्रकट निर्मल भाव।
यदि शब्दों का असंयम, हो विपरीत प्रभाव।।

सजग नागरिक की तरह, जाहिर  हो अभिव्यक्ति।
सर्वोपरि है देशहित, बड़ा न कोई व्यक्ति ।।

–  डॉ राजकुमार “सुमित्र”

यह वेबसाइट मैंने स्वान्तः सुखाय बिना किसी अपेक्षा के प्रारम्भ की जिसका साक्षी आपका अपार  स्नेह तथा प्रतिसाद है, जिसे मैं सदैव अपने ह्रदय में संजो कर रखूंगा । यह आपका स्नेह ही है जिसने इस सप्ताह ई- अभिव्यक्ति परिवार को दो सर्वोच्च उपलब्धियां प्रदान की हैं। मैं इन उपलब्धियों को अक्षरशः उद्धृत करने का प्रयास कर रहा हूँ।

India Book of Records

Congratulations, your claim has been finalized as a record titled, ‘ Oldest man to develop a website ’ under India Book of Records 2021. We appreciate the effort and patience shown by you. Your skills have been acknowledged and as per the verification done by the Editorial Board of ‘India Book of Records’, only the best has been selected and approved by us.

The title and content has been created as per our verification and is given below.

RECORD TITLE & DESCRIPTION

Oldest man to develop a website
The record for being the oldest to design and develop a website was set by a 62 year old Hemant Bawankar (born on June 2, 1957) of Pune, Maharashtra. He developed a unique website named e-abhivyakti.com that publishes daily blogs/articles in Hindi, Marathi, and English, as confirmed on April 13, 2020.

दूसरी महत्वपूर्ण उपलब्धि है Directory of Most Popular Blogs in India  में स्थान पाना एक गौरवपूर्ण क्षण है जिसके लिए निम्न चिन्ह एवं लिंक हमारी वेबसाइट के होम पेज पर प्रदान किया गया है  –

Indian Blog Directory – Directory of Most Popular Blogs in India

IndiBlogHub Connecting Top Indian Bloggers with Brands

Hello Hemant Bawankar,

Congratulations! Your blog has been approved! (e-abhivyakti) on IndiBlogHub.

हम ई-अभिव्यक्ति में नवीन सकारात्मक तकनीकी एवं साहित्यिक प्रयोगों के लिए कटिबद्ध हैं।

इन उपलब्धियों के लिए आपका ह्रदय तल से आभार ।  

 💐  🙏  😊

☆ मानवता का अदृश्य शत्रु कोरोना ☆ 

आज विश्व में मानवता अत्यंत कठिन दौर से गुजर रही है।  विश्व के समस्त मानव जिनमें साहित्यकार / कलाकार / रंगकर्मी भी संवेदनशील मानवता के अभिन्न अंग हैं और  अत्यंत विचलित हैं ‘ कोरोना’ जैसी विश्वमारी य महामारी जैसे प्रकोप /त्रासदी से । इतनी सुन्दर सुरम्य प्रकृति, हरे भरे वन-उपवन, नदी झरने,  घाटियां, पर्वत श्रृंखलाएं और कहीं कहीं तो  शांत बर्फ की सफ़ेद चादर और भी न जाने क्या क्या हमें  प्रकृति ने उपहारस्वरूप दिया है ।

हम सदैव मानवीय आधारों पर सकारात्मक साहित्य देने हेतु कटिबद्ध हैं।

ई – अभिव्यक्ति कभी भी किसी भी प्रकार की किसी भी पुष्ट अथवा अपुष्ट वैज्ञानिक जानकारी एवं अफवाहों पर कदापि कोई विमर्श नहीं करता।  इस वैश्विक एवं राष्ट्रीय आपदा में आप सबसे निवेदन है कि सरकार द्वारा तय नियमों का कठोरता से पालन करें। इसी में हम सबकी भलाई है, मानवता की भलाई है।

 

बस इतना ही।

हेमन्त बावनकर

26 अप्रैल 2020

image_print
0 0 votes
Article Rating

Please share your Post !

Shares
Subscribe
Notify of
guest
5 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Vijay Tiwari Kislay

अग्रज हेमंत जी,
नमस्कार
“e-abhivyakti” की उपरोक्त दोनों उपलब्धियों से हम सब भी गौरव का अनुभव कर रहे हैं।
आपको हृदय तल से बधाई।
🙏🙏🙏🙏💐💐💐💐

Chhaya saxena

आपके परिश्रम को सादर नमन

Jai Prakash Pandey

आपकी लगन मेहनत और जुनून को प्रणाम। सही मन से किये गये कार्यों के सुपरिणाम।

समीक्षा तैलंग

वाह, वाकई बहुत बड़ी उपलब्धि। गर्व करनेवाली उपलब्धि। एक पर एक फ्री जैसी। आपकी मेहनत और लगन के परिणामस्वरूप ये स्थान प्राप्त हुआ है। ई-अभिव्यक्ति ऐसे ही दिनोंदिन प्रगति पथ पर अग्रसर रहे, यही शुभकामनाएं और ढेरों बधाई 💐💐👏👏

subedar pandey kavi atmanand

आपका सार्थक प्रयास,पाठक वर्ग का अपार स्नेह तथा
साहित्य कार बंधुओं की सारगर्भित विद्वत्ता पूर्ण रचनाओं के चलते जो उपलब्धि ‌‌मिली है,इस अभियक्ति परिवार ‌‌का कनिष्ठ सदस्यीय सोनें के नाते मुझे भी आत्मगौरव की अनुभूति हो रही है, जिसके लिए हम आपको कोटि-कोटि धन्यवाद अभिनंदन नमन आपका आदरणी——–सूबेदार पाण्डेय कवि आत्मानंद जमसार सिंधोरा वाराणसी–