image_print

जय प्रकाश पाण्डेय

 

 

 

 

 

सेल की शाॅल 

करेला और नीम चढ़ा की तरह सेल में डिस्काउंट चढ़ बैठता है पुरुष सेल और डिस्काउंट से चिढ़ते हैं और महिलाएं सेल और डिस्काउंट के चक्कर मे सीढ़ी चढ़तीं हैं। माल में सेल और डिस्काउंट का बोलबाला है।माल  के बाहर बैठा हुआ एक फिलासफर टाइप का आदमी एक डेढ़ घंटे से S. A. L. E और डिस्काउंट शब्दों की उधेड़बुन में इतना परेशान दिख रहा है कि उसके चेहरे में हवाईयां उड़ रही हैं। बीच बीच में बुदबुदाता हुआ वो आदमी कभी दाढ़ी के बाल नोंचता है कभी नाक में ऊंगली डाल के नाक छिंनकता है। कभी पेन खोलकर हाथ की गदेली में एस ए एल ई लिखकर आसमान की तरफ देखता है तो कभी दूसरे हाथ की गदेली में डिस्काउंट लिखकर थूक से मिटाता है। जिस चमचमाते वैभवशाली अलबेले मॉल के सामने वह बैठा है वहां लड़के लड़कियों के झुंड फटे जीन्स पहने कूल्हे मटका रहे हैं, बीच बीच में कुछ लड़के लड़कियां अल्हड़ सी आवारगी के साथ भटकते हुए स्वचलित सीढ़ियों से माल की रंगत और जगमगाहट का आनंद लेते हैं माल के गेट का कांच दरवाजा शर्म से पानी पानी हो जाता है जब ये करीब आते हैं।

वह फिलासफर टाइप का आदमी अपने आप से ही पूछता है कि क्या बाजार संस्कृति का मायावी तिलिस्म हमसे हमारा समय बोध छीनने पर उतारू है? माल के सामने दो आटो वाले डिस्काउंट पर बहस करते हुए मजाकिया अंदाज में कह रहे हैं कि सेल में अधिकांश चीजें एक खरीदो साथ में एक फ्री मिलतीं हैं जिसके पास बीबी नहीं होती उसको भी सुविधा मिलती है। माल के गेट पर दो तीन मनचले माल में आते जाते मनभावन माल की फटी जीन्स पर फिदा लग रहे हैं।

माल की सारी दुकानों के गेट पर चमचमाते शब्दों में अंग्रेजी में सेल और डिस्काउंट लिखे शब्दों को वह कांच से देख रहा है पत्नी अंदर माल की सेल में है। वह बार बार सोचता है कि ये सेल और डिस्काउंट शब्दों में लार टपकता गजब का आकर्षण क्यों होता है जो महिलाओं और खाऊ पुरुषों को आकर्षित कर चुम्बक की तरह खींचता है। उसे याद आया पड़ोसन जब भी सेल से कुछ खरीद कर लाती है उस दिन घर में खूब उठापटक और गालीगलौज का माहौल बनता है।

सुबह अखबार आता है अखबार के अंदर सेल के पम्पलेट से उसे चिढ़ होती है इसलिए वह चुपके से उस पम्पलेट को फाड़ कर छुपा देता है। एक बार फाड़ते समय बीबी ने रंगे हाथों पकड़ लिया और खूब सुनाया बोली – ‘तुम मेरी भावनाओं और इच्छाओं से खिलवाड़ करते हो, मेरे शापिंग के शौक में अडंगा डालते हो’….. और भी बहुत बोला, बताने लायक नहीं है।

सब शापिंग पीड़ित पतियों को आज तक समझ नहीं आया कि महिलाओं को सेल और डिस्काउंट से इतना प्रेम क्यों होता है। सेल और डिस्काउंट से पति लोग चिढ़ते हैं पर पत्नियां सेल और डिस्काउंट से अजीब तरह का प्रेम करतीं हैं। प्रेम करते समय उनसे पूछो तो कहतीं हैं “पता नहीं क्या हो जाता है खरीदारी का भूत सवार हो जाता है” हांलाकि हर बार घर पहुंच कर दबी जुबान से ठगे जाने का अहसास करातीं हैं और दुकान मालिक की ‘ठठरी बंध जाए’ कहके पति का दिल जीतना चाहतीं हैं। ऐसे में पति का बाप कवि हो तो बहू बेटे की ये बातें सुन सुन कर सेल और डिस्काउंट विषय पर महाकाव्य लिख लेता है।

माल संस्कृति ने सेल और डिस्काउंट को बढ़ावा दिया है। सेल से निकली एक महिला से एक भिखारी ने पूछा कि सेल में महिलाओं की ज्यादा भीड़ क्यों रहती है?

महिला ने तपाक से जबाब दिया – वहां सब टंगी चीजों को बार – बार छूने का सुख मिलता है और सबको उलटा पलटा के पटकने का मजा आता है वहां खूब मन भी भटकता है मन भटकने से गुदगुदी होती है और इंद्रधनुषी निर्णय के महासागर में बार बार डुबकी लगाने का अवसर भी मिलता है, अंडर गारमेंट के पोस्टर देखने का आनंद भी लूटते हैं और तरह-तरह से सज धज के आयी औरतों को देखकर ईर्ष्या का चिपचिपा रस भी पैदा होता है।

भिखारी बोला – पर मेडम यहां तो सब माल रिजेक्टेड वाला रखा जाता है, ऐसा माल जो कहीं नहीं बिकता। सेल और डिस्काउंट का लोभ ऐसे सब माल को बिकवा देता है यहां मन ललचाने का पूरा प्रपंच रचा जाता है।

भिखारी की सच बात सुनकर मेडम नाराज हो जाती है पुरानी चौवन्नी उसके कटोरे में फैंक कर माल के बाहर इंतजार कर रहे पति की तलाश करने लगती है।

हाथ में दो बड़े बड़े चमचमाते मुस्कराते बैग भारी लग रहे हैं इसलिए पति को थमा दिये गये, पति लद गया है कार पार्किंग तक पहुंचते पहुंचते हांफने लगता है।

कार चलाते हुए रास्ते भर इसी उधेड़बुन में रहता है कि घर पहुंच कर पहले चाय बनानी पड़ेगी, उनके थके पैर दबाना होगा फिर सेल से खरीदे गए हर सामान की चुम्मी ले लेकर झूठी तारीफ करनी पड़ेगी।

जैसा रास्ते भर सोचा था वही सब सब करने का आदेश हुआ। चमचमाते फिसलते पहले बैग से एक से एक साड़ियाँ और अंडर गारमेंट निकाल कर तारीफ के पुल बांधे गए। दूसरे बैग से निकाले गए शाल को देखकर उसका गला सूख गया, काटो तो खून नहीं, दिन में तारे नजर आने लगे, आसमान धरती पर गिर पड़ा, होश उड़ गए…. वह वही शाॅल था जो उसके पिता की शव यात्रा में उसके फूफा ने पिता के शव के ऊपर डाला था।

तीन महीने पहले ही उसके पिता कविता लिखते लिखते चल बसे थे उन्हें जीवन भर शाॅल श्रीफल से सम्मानित किया जाता रहा इसलिए दोस्तों ने अंतिम यात्रा में मंहगे मंहगे शाॅल उनके शव पर डाले थे………….

शाॅल की सलवटें ठीक करती पत्नी चहकते हुए बोली – ये शाॅल तुम्हारे लिए लिया है, कई महिलाओं को ये शाॅल ज्यादा पसंद आ रहा था इसलिए इसमें डिस्काउंट भी नहीं मिला……….

© जय प्रकाश पाण्डेय

(श्री जय प्रकाश पाण्डेय, भारतीय स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त और स्वतंत्र लेखन में व्यस्त हैं। आपकी प्रिय विधा हिन्दी व्यंग्य है। )

image_print
0 0 votes
Article Rating

Please share your Post !

Shares
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments