image_print

श्री संजय भारद्वाज 

 

(श्री संजय भारद्वाज जी का साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं।  हम आपको प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक  पहुँचा रहे हैं। अब सप्ताह के अन्य दिवसों पर आप उनके मनन चिंतन को  संजय दृष्टि के अंतर्गत पढ़ सकेंगे। ) 

 

⌚ संजय दृष्टि  – वर्जनाएँ द्वार बंद करती रहीं… ⌚

उहापोह में बीत चला समय

पाप-पुण्य की परिभाषाएँ

जीवन भर मन मथती रहीं

वर्जनाएँ द्वार बंद करती रहीं…

 

इक पग की दूरी पर था जो

आजीवन हम पा न सके वो

पग-पग सांकल कसती रही

वर्जनाएँ द्वार बंद करती रहीं…

 

जाने कितनी उत्कंठाएँ

जाने कितनी जिज्ञासाएँ

अबूझ जन्मीं-मरती गईं

वर्जनाएँ द्वार बंद करती रहीं…

 

सीमित जीवन, असीम इच्छाएँ

पूर्वजन्म, पुनर्जन्म की गाथाएँ

जीवन का हरण  करती रहीं

वर्जनाएँ द्वार बंद करती रहीं…

 

साँसों पर  है जीवन टिका

हर साँस में इक जीवन बसा

साँस-साँस पर घुटती रही

वर्जनाएँ द्वार बंद करती रहीं…

 

अवांछित ठुकरा कर देखो

अपनी तरह जीकर तो देखो

चकमक में आग छुपी रही

वर्जनाएँ द्वार बंद करती रहीं.!

 

©  संजय भारद्वाज, पुणे

☆ अध्यक्ष– हिंदी आंदोलन परिवार ☆ सदस्य– हिंदी अध्ययन मंडल, पुणे विश्वविद्यालय ☆ संपादक– हम लोग ☆ पूर्व सदस्य– महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी

मोबाइल– 9890122603

writersanjay@gmail.com

image_print

8
Leave a Reply

avatar
8 Comment threads
0 Thread replies
0 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
7 Comment authors
हिन्दी साहित्य – अटल स्मृति – मनन चिंतन – ☆ संजय दृष्टि –  'अ' से अटल ☆ – श्री संजय भारद्वाज - साहवीनु जमुआरडॉ ऋचा शर्माशिवप्रकाश गौतमलतिका Recent comment authors
  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
ऋता सिंह
Guest

सच है वर्जनाँ द्वार बंद करती हैं।कवि ने सुंदरता से अभिव्यक्ति दी है। मनुष्य अपनी तरह से जीने से चूकता है।

Sanjay Bhardwaj
Guest
Sanjay Bhardwaj

हृदय से धन्यवाद ऋता जी।

आशुगुप्ता
Guest
आशुगुप्ता

वर्जनायें जीवन का रुख मोड़ देती है और हम अक्सर वांछित से अवांछित की ओर मुड़ जाते हैं। जीवन-सत्य को दर्शाती रचना।

लतिका
Guest

स्वछंद, निर्मलता को बढावा देती रचना।

शिवप्रकाश गौतम
Guest
शिवप्रकाश गौतम

ईस रचना पर निशब्द हूँ, मित्र।
कहा से लाऊँ वो शब्द जिसमें इस रचना पर प्रतिक्रिया दी जा सकती हैं। बस…….. इतना कहता हूँ की शब्दों के जादूगर हो आप।

डॉ ऋचा शर्मा
Guest
डॉ ऋचा शर्मा

बहुत खूब

वीनु जमुआर
Guest
वीनु जमुआर

पग-पग सांकल कसती रही वर्जनाएँ द्वार बंद करती रहीं… / अपनी तरह जी कर तो देखो…
सोचने पर मजबूर करती कविता… बेहद अर्थ पूर्ण रचना!