image_print

संस्थाएं – “LifeSkills”, Indore

(LifeSkills is a mission of Bisht couple (Shri Jagat Singh Bisht and Smt. Radhika Jagat Bisht) that creates a pathway to authentic happiness, well-being and a fulfilling life with objective to provide skills that make life happier, meaningful and worth living.  LifeSkills equips us with sustainable scientific tools to cultivate a happy and fulfilling life with a greater sense of well-being.) LifeSkills (A Pathway to Authentic Happiness, Well-being and a Fulfilling Life)  Do you want to be happier? Would you like to increase your well-being and flourish? We help you do that!  Let us begin with a quick overview by watching this short video:   What is LifeSkills? LifeSkills is a pathway to authentic happiness, well-being and a fulfilling life. Our objective is to provide skills that make life happier, meaningful and worth living. LifeSkills equips you with sustainable scientific tools to cultivate a happy and fulfilling life with a greater sense of well-being. What do you do? We conduct: Retreats Workshops Seminars Talks Trainings One-On-One Coaching For Individuals, Institutions, Communities, Workplaces...
Read More

संस्थाएं – “हैल्पिंग हेण्ड्स – फॉरएवर वेल्फेयर सोसायटी” 

“हैल्पिंग हेण्ड्स – फॉरएवर वेल्फेयर सोसायटी”  Helping Hands – Forever Welfare Society आज के संवेदनहीन एवं संवादविहीन होते समाज में भी कुछ संवेदनशील व्यक्ति हैं, जिन पर समाज का वह हिस्सा निर्भर है जो स्वयं को असहाय महसूस करता है। ऐसे ही संवेदनशील व्यक्तियों की संवेदनशील अभिव्यक्ति का परिणाम है “हैल्पिंग हेण्ड्स – फॉरएवर वेल्फेयर सोसायटी” जैसी संस्थाओं का गठन। इस संस्था की नींव रखने वाले समाज-सेवा को समर्पित आदरणीय श्री देवेंद्र सिंह अरोरा  (अरोरा फुटवेयर, जबलपुर के संचालक) एक अत्यंत संवेदनशील व्यक्तित्व के धनी हैं, जो यह स्वीकार करने से स्पष्ट इंकार करते हैं कि- वे इस संस्था की नींव के पत्थर हैं। उनका मानना है कि प्रत्येक व्यक्ति जो इस संस्था से जुड़ा है वह इस संस्था की नींव का पत्थर है। यह श्री अरोरा जी का बड़प्पन है एवं उनकी यही भावना संस्था के सदस्यों को मजबूती प्रदान करती है। प्रत्येक संस्था में कई अवयव होते हैं किन्तु कोई भी संस्था मात्र एक अवयव पर खड़ी रहती है जिसे...
Read More
image_print