image_print

श्रीमति हेमलता मिश्र “मानवी “

(सुप्रसिद्ध, ओजस्वी,वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती हेमलता मिश्रा “मानवी”  जी  विगत ३७ वर्षों से साहित्य सेवायेँ प्रदान कर रहीं हैं एवं मंच संचालन, काव्य/नाट्य लेखन तथा आकाशवाणी  एवं दूरदर्शन में  सक्रिय हैं। आपकी रचनाएँ राष्ट्रीय स्तर पर पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित, कविता कहानी संग्रह निबंध संग्रह नाटक संग्रह प्रकाशित, तीन पुस्तकों का हिंदी में अनुवाद, दो पुस्तकों और एक ग्रंथ का संशोधन कार्य चल रहा है।

आज प्रस्तुत है  श्रीमती  हेमलता मिश्रा जी का एक  बेबाक एवं अविस्मरणीय किन्तु ,शिक्षाप्रद संस्मरण। अक्सर हम जीवन में कई ऐसे अवसर अनजाने में अथवा जानबूझ कर खो देते हैं,  जिन्हें हम दुबारा नहीं जी सकते और आजीवन पश्चाताप के अलावा हमारे पास कुछ भी नहीं बचता।अतः जीवन के प्रत्येक अवसर को सोच समझ कर सकारात्मक दृष्टिकोण से ले चाहिए।  दूसरी सबसे बड़ी  बात उस गलती को स्वीकारना है जो हमसे हुई है और साथ ही दुःख इस बात का कि हम विश्व को एक अनमोल धरोहर विरासत में देने से वंचित रह गए। )

 

संस्मरण – एक सजीव अमर संस्मरण ☆

 

वाट्सएप फेसबुक पर बहुत पढते रहते हैं कि हार-जीत खोना-पाना सुख-दुख इन सबसे मन को विचलित नहीं करना चाहिए। सच कहें तो कहना बहुत आसान है लेकिन अमल करना बहुत ही कठिन है। अक्सर पुरानी यादें ताजा होकर पछतावे का एहसास करवा जाती हैं।ऐसा ही एक संस्मरण आपके दरबार में रख रही हूँ।

1979/80 के साल की बात है। मैं हिन्दी साहित्य में एम ए कर रही थी। मेरी 70 वर्षीय नानी हमारे घर कुछ दिनों के लिए आईं थीं।  दो भैय्या भाभी भतीजे भतीजियों से भरे पूरे परिवार में – – – एक कोने में छोटी सी परछत्ती में मैं पढाई करती रहती। बहुत बार नानी मेरे पास आ जातीं और बडे़ कौतुक से मेरे आसपास बिखरे उपन्यास और साहित्यिक पुस्तकों को उलटती पलटती रहतीं। उन्हे अक्षर ज्ञान नहीं था। लेकिन कुछ जानने की सुनने की ललक बहुत थी।

कई बार मैं उन्हें प्रेमचंद की कहानियों के अंश प्रसाद निराला की कविताएं मीरा सूर तुलसी के पद जो खुद पढती उन्हें सुना देती। वे बड़ी रुचि से सुनतीं और खुश होतीं।

एक बार बड़े ही हिचकिचाते हुए वे मुझसे बोलीं बिट्टी हम तो लिख नईं सकत आएं। तुम हमरे गाने लिख कै रख लौ बाद मे ऐसी पुस्तक मा छपा देना।

उस उम्र के अनचीन्हे एहसासों और नादान ऐबों से संचालित मैं मन ही मन हंस पड़ी मगर उनको हाँ कह दिया और भूलभाल गई । दूसरे दिन वे सचमुच मेरे पास आ बैठीं और बोलीं हाँ चलो सुरु हो जाओ। हम गावत हैं तुम लिखौ।

अब मैं बडे़ धर्मसंकट में। कुछ दिन बाद पेपर हैं। परीक्षा का खौफ और उस पर नानी का ये ह्रदय स्पर्शी आग्रह। उनके बुंदेलखंडी भाषा के गाने बहुत ही प्यारे होते थे। लेकिन – -अभी क्या करूँ???

पढाई करते वक्त बाहर की आवाजों से बचने के लिए मैं अक्सर कान में छोटे कपास के गोले लगा लेती थी।बस मैंने रास्ता निकाल लिया। नोटबुक निकाला और नानी को गाना गाने के लिए बोल दिया। मेरी नानी— वह भोली भाली सरस्वती गाती रहती – – – बारहमासी ऋतु गीत, छठी, बरहों, मुंडन गीत, जच्चा के सोहर, शहनाईयों से भी मधुर बन्ना बन्नी, श्रीगणेश की स्तुति से लेकर कान्हा की शरारतों तक के मौलिक पदऔर कान्हा को बरजतीं जसोदा की झिड़की तक के मधुर भजन—रामजी के नाम की महिमा से लेकर रावण द्वारा लक्ष्मण को उपदेश तक के आख्यान – – भैरव गीत से लेकर देवी मैया के जस,  सावनी से लेकर कजरी की मधुर ताल, रसिया से लेकर दादरा ठुमरी तक – – – मधुर आंचलिक गीतों के अक्षय भंडार को वे लुटाती रहतीं और मैं – – –

शर्म आती है आज अपने आप पर कि मैं अपने नोट्स की प्रैक्टिस करती रहती—- लिखती रहती नोट बुक में दिनकर और पंत की कविताओं के संदर्भ सहित अर्थ – – या ध्रुव स्वामिनी के संवाद–या प्रेमचंद के पात्रों का चरित्र चित्रण।

बीच बीच में नानी पूछती “लिख लौ” दिल में घबराहट होती मगर मैं झूठमूठ मुस्कान लपेटे कह देती “हाँ लिख लिया”! मजबूरी परीक्षा की मैं खुद को माफ कर देती।

उन्हें अक्षर ज्ञान नहीं था। वे मेरी नोटबुक को हाथ में लेकर बड़ी उत्कंठा से उलटती पलटती – – सृजन का आल्हाद चेहरे को अनूठी चमक से भर देता। मन ही मन अपने आप पर हजारों हजार लानतें भेजती मैं अपने चेहरे को भावहीन बना लेती। आज भी आँखों के साथ साथ हदय भी नम हो रहा है यह संस्मरण लिखते समय।

यह सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा। नानी दिन भर गुनगुन गुनगुनाती गाने याद करती रहतीं और शाम को मेरे पास” लिखवातीं। ” कुछ दिनों बाद नानी चलीं गईं गांव वापस और कुछ समय बाद भगवान के पास। लेकिन वे अपना एक अटूट विश्वास, एक अदृश्य अमानत मेरे पास रखा गईं कि मैं उनके गानों को सहेज कर रखूंगी। हो सका तो पुस्तक बनाउंगी।

लेकिन मेरा दुर्भाग्य कि मैं  तो खाली हाथ थी। काश नानी की थाती में से कुछ तो लिख लेती।

मैं तो मगन थी लिखे लिखाए साहित्य को पढ़कर परीक्षा हाॅल में ज्यादा से ज्यादा पन्ने काले करने की कला को तराशने में। पढाई के नाम पर फर्स्ट क्लास मेरिट मेडल की जद्दोजहद में मैं भूल गई नानी को और नानी के विश्वास की थाती को।

लेकिन पकती उम्र के साथ नानी की वह गुनगुनाहट, अकुलाहट, सुरों की झनझनाहट अधिक याद आने लगी है। बहुआयामी, अमूल्य, आंचलिक, मौलिक साहित्य की अवहेलना करके मैंने जो खोया है उसके सामने आज का स्वलिखित या किसी का भी लिखा अन्य बेशकीमती साहित्य भी मुझे नहीं भरमाता।

आज नानी नहीं हैं, मैं खुद दादी नानी बन चुकी हूँ – – – अनेकानेक क्षमादान की अभिलाषा के साथ – – चाहत है कि – – -मेरी नानी का अलिखित अलख आशीर्वाद बन कर मेरी लेखनी के लिए वरदा रहे! बस यही मांगती हूँ नानी से! – – और आप सुधि पाठकों से कि मेरे संस्मरण से सीख लेकर अपनी पुरानी अमानतों को आंचलिक, बोली- भाषाओं के मौलिक, मौखिक साहित्य को  बचाएं– संजोएं– सजाएं। वर्तमान के छलावों से बचें अतीत को ना बिसराएं कि हमें भी तो एक दिन अतीत बनना है।

 

© हेमलता मिश्र “मानवी ” 

नागपुर, महाराष्ट्र

image_print
0 0 vote
Article Rating

Please share your Post !

0Shares
0
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments