image_print

डॉ विजय तिवारी ‘किसलय’

(डॉ विजय तिवारी ‘ किसलय’ जी संस्कारधानी जबलपुर में साहित्य की बहुआयामी विधाओं में सृजनरत हैं । आपकी छंदबद्ध कवितायें, गजलें, नवगीत, छंदमुक्त कवितायें, क्षणिकाएँ, दोहे, कहानियाँ, लघुकथाएँ, समीक्षायें, आलेख, संस्कृति, कला, पर्यटन, इतिहास विषयक सृजन सामग्री यत्र-तत्र प्रकाशित/प्रसारित होती रहती है। आप साहित्य की लगभग सभी विधाओं के सशक्त हस्ताक्षर हैं। आपकी सर्वप्रिय विधा काव्य लेखन है। आप कई विशिष्ट पुरस्कारों /अलंकरणों से पुरस्कृत /अलंकृत हैं।  आप सर्वोत्कृट साहित्यकार ही नहीं अपितु निःस्वार्थ समाजसेवी भी हैं।आप प्रति शुक्रवार साहित्यिक स्तम्भ – किसलय की कलम से आत्मसात कर सकेंगे। आज प्रस्तुत है आपका एक अत्यंत विचारणीय  एवं सार्थक आलेख  “बाल सखा”.)

☆ किसलय की कलम से # 50 ☆

☆ बाल सखा ☆

मिट्टी अर्थात वह पदार्थ जिसका साधारणतः मूल्यांकन कभी नहीं किया जाता, लेकिन इसके उपयोग से हम क्या-क्या नहीं बनाते। कुम्भकार जब मिट्टी गूँथकर उसे अपने हाथों में लेता है, तब तक सामने वाला समझ नहीं पाता कि यह कलाकार उसे कौन सा रूप देगा। उसका कौशल, उसका ज्ञान, उसका अनुभव और उसका विवेक उसे एक मूल्यवान वस्तु, खिलौना, मूर्ति, उपयोगी उपकरण में तब्दील कर देता है। शिशु भी एक गुँथी हुई मिट्टी जैसा जीता-जागता बुद्धि, विवेक, ज्ञान और अनुभव विहीन होता है। उसे एक श्रेष्ठ, विवेकशील और आदर्श बनाने के लिए दक्षता का सानिध्य बहुत जरूरी होता है।

जिस तरह कच्चे घड़े पर यथास्थान दबाव, थपकी और सहारे की जरूरत होती है ठीक उसी प्रकार एक शिशु के उत्तरोत्तर विकास हेतु भी इन सभी बातों की आवश्यकता होती है। धैर्य, शांति, स्नेह और उसके समकक्ष व्यवहार के साथ ही स्नेहिल वार्तालाप भी महत्त्वपूर्ण होता है। हमें समझना होता है कि एक बार की सीख या शिक्षा नन्हा शिशु स्मृत नहीं रख पाएगा। हमें उसको प्रायोगिक तौर तरीके से भले-बुरे का ज्ञान कराना होगा।

एक प्रौढ़ एवं शिशु के मध्य आयु का विशाल फासला होता है। आपकी सोच और अनुभव आपका पका-पकाया कहा जा सकता है, लेकिन शिशु के जीवन में, उसके कोरे मस्तिष्क में शिक्षा, संस्कार, संस्कृति एवं सामाजिक परंपराएँ  स्थापित करने के लिए आपको अपने स्तर से नीचे उसके समकक्ष आना होगा और उसके जैसा बनना भी होगा। उसे सत्कर्मों हेतु प्रोत्साहित करना होगा, उसकी प्रशंसा करनी होगी। उसकी त्रुटियों, उसकी असफलताओं तथा उसकी जिद पर नियंत्रित व्यवहार करना होगा। जिस तरह नन्हे शिशु आपस में गलत-सही का भेद किए बिना रूठकर, हँसकर व रोकर भी बार-बार साथ में खेलने लगते हैं। इसी तरह आपको भी बार-बार उनकी बात सुनना होगी। बार-बार उनके एक ही प्रश्न का उत्तर देना होगा। बार-बार उनकी जिज्ञासा शांत करना होगी।

माता-पिता अथवा अभिभावक जब तक संतानों के बालसखा नहीं बनेंगे, अपेक्षानुरूप शिशु का विकास संभव हो ही नहीं सकता। शिशु हतोत्साहित, भयभीत या ढीठ किस्म का भी बन सकता है। अपनी उपेक्षा से अपनों के स्नेह को पहचान ही नहीं पाएगा। यही कारण है कि आयाओं द्वारा पोषित बच्चे अक्सर माँ-बाप के महत्त्व एवं स्नेह से काफी हद तक अनभिज्ञ रह जाते हैं।

आज के बदलते परिवेश में हम अपना जीवन जी लेते हैं और बच्चों को उनकी किस्मत पर छोड़ देते हैं, यह कहाँ तक और कितना उचित है? बच्चे भला समाज और किताबों से कितना और क्या सीख पाएँगे। जब तक अपनों के बीच स्नेह, समर्पण, त्याग, सद्भावना और आदर का पाठ नहीं पढ़ेंगे, सामाजिक जीवन में इनको व्यवहृत कैसे कर पाएँगे।

आज के क्षरित होते मानवीय मूल्यों के बीच रिश्तों की टूटन और मानसिक घुटन की अजीबोगरीब परिस्थितियों में जब हम अपनों को ही महत्त्व नहीं देते तो क्या हमारी संतानें भविष्य में आपको महत्त्व दे पाएँगी?

हमें स्वीकारना होगा कि हम अपनी संतानों के कभी सखा नहीं बन पा रहे हैं। हम अर्थ एवं स्वार्थ तक ही सीमित होते जा रहे हैं। हम संतानों में आदर्श संस्कार के बजाय उनको दिखावटी आधुनिकता व कुबेर के खजाने का महत्त्व ही बताने को श्रेयष्कर मानने लगे हैं। जब संतान आपके द्वारा दिशादर्शित मार्ग पर चल पड़ता है और पीछे मुड़कर आपको भी नहीं देखता, तब जाकर आपको याद आता है कि हमने ही तो अपनी संतान को यही सब सिखाया था। हम ही थे जिनके पास अपने बच्चों के लिए कभी वक्त नहीं रहा। हम ही थे जो कभी अपनी संतानों के बालसखा नहीं बन पाए, लेकिन जब चिड़िया हाथ से उड़ जाए तो आपके पास बचता ही क्या है। हम बचपन से बुढ़ापे तक अपने धार्मिक ग्रंथों, अपने बुजुर्गों व महापुरुषों के उद्धरण पढ़ने-सुनने के बावजूद इन पर अमल न करने और अपनी संतानों को  इनसे दूर रखने का प्रतिफल ही तो भोग रहे हैं। निश्चित रूप से जिनके माँ-बाप अपनी संतानों के बालसखा बने थे और उन्होंने भी अपनी संतानों के बालसखा बनकर अपने बच्चों में संस्कारों का बीजारोपण किया। उनकी बच्चे भी निश्चित रूप से अपने माँ-बाप के कृतज्ञ होंगे।

वक्त आदिकाल का रहा हो, वर्तमान का हो या भविष्य में आने वाला हो। मानव-मन, मानव-विवेक सदैव नीति-अनीति, सत्य-असत्य व प्रेम-घृणा में अंतर भलीभाँति समझता रहा है और समझेगा भी। इसीलिए समय या युगपरिवर्तन के बावजूद संतानों को आपके द्वारा दी गई सीख एवं आपके द्वारा प्रदत्त संस्कार कभी व्यर्थ नहीं होंगे यह हमें मानकर ही चलना चाहिए।

                       

© डॉ विजय तिवारी ‘किसलय’

पता : ‘विसुलोक‘ 2429, मधुवन कालोनी, उखरी रोड, विवेकानंद वार्ड, जबलपुर – 482002 मध्यप्रदेश, भारत
संपर्क : 9425325353
ईमेल : vijaytiwari5@gmail.com

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

image_print
5 1 vote
Article Rating

Please share your Post !

Shares
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
विजय तिवारी " किसलय "

मेरे आलेख प्रकाशन हेतु
बहुत बहुत आभार अग्रज बावनकर जी
-विजय किसलय