image_print

डॉ.  मुक्ता

(डा. मुक्ता जी हरियाणा साहित्य अकादमी की पूर्व निदेशक एवं  माननीय राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित/पुरस्कृत हैं।  साप्ताहिक स्तम्भ  “डॉ. मुक्ता का संवेदनात्मक  साहित्य” के माध्यम से  हम  आपको प्रत्येक शुक्रवार डॉ मुक्ता जी की उत्कृष्ट रचनाओं से रूबरू कराने का प्रयास करते हैं। आज प्रस्तुत है डॉ मुक्ता जी का  एक अत्यंत विचारणीय आलेख बदलाव बनाम स्वीकार्यता। यह डॉ मुक्ता जी के जीवन के प्रति गंभीर चिंतन का दस्तावेज है। डॉ मुक्ता जी की  लेखनी को  इस गंभीर चिंतन से परिपूर्ण आलेख के लिए सादर नमन।  कृपया इसे गंभीरता से आत्मसात करें। ) 

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – डॉ. मुक्ता का संवेदनात्मक साहित्य  # 98 ☆

☆ बदलाव बनाम स्वीकार्यता ☆

‘जो बदला जा सके, उसे बदलिए; जो बदला न जा सके, उसे स्वीकार कीजिए; जो स्वीकारा न जा सके, उससे दूर हो जाइए। लेकिन ख़ुद को खुश रखिए’ ब्रह्माकुमारी शिवानी का यह सार्थक संदेश हमें जीवन जीने की कला सिखाता है; मानव को परिस्थितियों से समझौता करने का संदेश देता है कि उसे परिस्थितियों के अनुसार अपनी सोच को बदलना चाहिए, क्योंकि जिसे हम बदल सकते हैं; अपनी सूझबूझ से बदल देना चाहिए। परिवर्तन सृष्टि का नियम हैऔर समय का क्रम निरंतर चलता रहता है,कभी थमता नहीं है। इसलिए जिसे हम बदल नहीं सकते, उसे स्वीकारने में ही मानव का हित है। ऐसे संबंध जो जन्मजात होते हैं, उन संबंधियों व परिवारजनों से निबाह करना हमारी नियति बन जाती है। हमें चाहे-अनचाहे उन्हें स्वीकारना पड़ता है ।इसी प्रकार प्राकृतिक आपदाओं र भी हमारा वश नहीं है। हमें उनका पूर्ण मनोयोग से विश्लेषण करना चाहिए तथा उसके समाधान के निमित्त यथा-संभव प्रयास करने चाहिए। यदि हम उन्हें बदलने में स्वयं को असमर्थ पाते हैं, तो उन्हें स्वीकारना श्रेयस्कर है। इन विषम परिस्थितियों में हमें चिन्ता नहीं चिन्तन करना चाहिए, क्योंकि चिंतन-मनन हमारा यथोचित मार्गदर्शन करता है। चिन्ता को चिता सम कहा गया है, जो मानव को इहलोक से परलोक तक पहुंचाने में सक्षम है।

बदलने व स्वीकारने पर चर्चा करने के पश्चात् आवश्कता है अस्वीकार्यता पर चिन्तन करने की अर्थात् जिसे स्वीकारना संभव न हो, उससे दूर हो जाना बेहतर है। जो परिस्थितियां आपके नियंत्रण में नहीं है तथा जिनसे, आप निबाह नहीं सकते; उनसे दूरी बना लेना ही श्रेयस्कर है। मुझे भी बचपन में यही सीख दी गयी थी;  जहां तनिक भी मनमुटाव की संभावना हो, अपना रास्ता बदलने में ही हित है अर्थात् जो आपको मनोनुकूल नहीं भासता, उसकी और मुड़कर कभी देखना नहीं चाहिए। यही है वह संदेश जिसने मेरे व्यक्तित्व निर्माण में प्रभावी भूमिका अदा की। इसी संदर्भ में मैं एक अन्य सीख का ज़िक्र करना चाहूंगी, जो मुझे अपनी माताश्री द्वारा मिली कि विपत्ति के समय पर इधर-उधर मत झांकें/ अपनी गाड़ी को ख़ुद हांकें’ में छिपा है गीता का कर्मशीलता का संदेश व जीवन-दर्शन–विपत्ति के समय स्वयं पर विश्वास रखें; दूसरों से सहायता की अपेक्षा मत रखें, क्योंकि अपेक्षा दु:खों की जनक है। जब हमें दूसरे पक्ष से सहयोग की प्राप्ति नहीं होती और मनोनुकूल अपेक्षित सहायता नहीं मिलती, तो हमारी जीवन नौका हमें दु:खों के अथाह सागर में हिचकोले खाने के लिए छोड़ जाती है। ऐसी स्थिति अत्यंत घातक बन जाती है। सो! ऐसे लोगों की कारस्तानियों को नजरांदाज़ करना ही बेहतर है। ये परिस्थितियां हमें निराशा के गर्त में भटकने के लिए छोड़ देती हैं और हम ऊहापोह की स्थिति में उचित निर्णय लेने में स्वयं को असमर्थ पाते हैं।

सो! जिन परिस्थितियों और मन:स्थितियों को बदलने में हम सक्षम हैं, उन्हें बदलने में हमें जी-जान से जुट जाना चाहिए; कोई कोर-कसर उठाकर नहीं रखनी चाहिए। हमें पराजय को कभी स्वीकारना नहीं चाहिए, निरंतर प्रयासरत रहना चाहिए, क्योंकि ‘करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान’ अर्थात् परिश्रम ही सफलता की कुंजी है। हमें अंतिम सांस तक उन अप्रत्याशित परिस्थितियों से जूझना चाहिए, क्योंकि जीवन संघर्ष का दूसरा नाम है तथा निरंतर चलने का नाम ही ज़िंदगी है।

‘कौन कहता है, आकाश में छेद हो नहीं सकता/ एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो!’ जहां हमें ऊर्जस्वि करता है, वहीं हमारे अंतर्मन में अलौकिक तरंगें भी संचरित करता है। यह हमें इस तथ्य से अववगत कराता है कि इस संसार में सब संभव है और असंभव शब्द तो मूर्खों के शब्दकोश में होता है। सो! इसे तुरंत बाहर निकाल फेंकना चाहिए। हम अदम्य साहस व अथक प्रयासों द्वारा अपना मनचाहा लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं। यदि तमाम प्रयासों के बाद भी हम उन्हें बदलने में असमर्थ रहते हैं, तो उन्हें स्वीकार लेना चाहिए। व्यर्थ में अपनी शक्ति व ऊर्जा को नष्ट करना बुद्धिमानी नहीं है। यह परिस्थितियां हमें अवसाद की स्थिति में लाकर छोड़ देती हैं, जिससे उबरने के लिए हमें वर्षों तक संघर्ष करना पड़ता है। हमें अपने जीवन से घृणा हो जाती है और जीने की तमन्ना शेष नहीं रहती। हमारे मनोमस्तिष्क में सदैव पराजय के विचार समय-असमय दस्तक ही नहीं देते; हमें पहुंचते कोंचते, कचोटते व आहत करते रहते हैं। इसलिए उन परिस्थितियों से समझौता करने व स्वीकारने में आपका मंगल है। उदाहरण बाढ़, भूचाल, सुनामी तथा असाध्य रोग आदि प्राकृतिक आपदाओं पर हमारा वश नहीं होता, तो उन्हें स्वीकारने में हमारा हित है। हमें तन-मन-धन से इनके समाधान तलाशने में जुट जाना चाहिए, पूर्ण प्रयास भी करने चाहिए, परंतु अंत में उनके सामने समर्पण करना सर्वश्रेष्ठ व सर्वोत्तम विकल्प है। पर्वतों से टकराने व बीच भंवर में नौका ले जाने से हानि हमारी होगी। इससे किसी दूसरे को कोई फर्क़ पड़ने वाला नहीं है।

आजकल लोगों से किसी की उन्नति कहां बर्दाश्त होती है। इसलिए अक्सर लोग अपने दु:ख से कम, दूसरे के सुखों को देखकर अधिक दु:खी रहते हैं। उनका यह ईर्ष्या भाव उन्हें निकृष्टतम कार्य करने की ओर प्रवृत्त करता है। वे दूसरे को हानि पहुंचाने के लिए अपना घर जलाने को भी तत्पर रहते हैं। उनके जीवन का एकमात्र लक्ष्य उन्हें अधिकतम हानि पहुंचाना होता है। इसलिए ऐसे लोगों से दूरी बनाए रखने में जीवन की सार्थकता है। दूसरे शब्दों में स्वीकार्य नहीं है, उससे दूरी बनाए रखना ही हितकर है। यही है खुश रहने का मापदंड। इसलिए मानव को सदा खुश रहना चाहिए, क्योंकि प्रसन्न-चित्त मानव सबकी आंखों का तारा होता है, सबका प्रिय होता है। उसका साथ पाकर सब हर्षोल्लास अनुभव करते हैं। इसलिए मानव को विषम परिस्थितियों से स्वयं को बचा कर रखना चाहिए; जानबूझकर आग में छलांग नहीं लगानी चाहिए।खुशी हमारे अंतर्मन में निहित रहती हैऔर हम उसे हम ज़र्रे-ज़र्रे में तलाश सकते हैं। हमारी मन:स्थिति ही हमारे भावों को आंदोलित व उद्वेलित करती है।हमारे भीतर नवीन भावनाओं को जागृत करती है, जिसके परिणाम-स्वरूप हम सुख-दु:ख की अनुभूति करते हैं। वर्डस्वर्थ का यह कथन कि ‘सौंदर्य वस्तु में नहीं, दृष्टा के नेत्रों में निवास करता है।’ इसलिए सौंदर्य के मापदंडों को निर्धारित करना असंभव है। वैसे ही खुशी भी प्रकृति की भांति पल-पल रंग बदलती है, क्योंकि जिस वस्तु या व्यक्ति को देखकर आपको प्रसन्नता प्राप्त होती है, चंद लम्हों बाद वह सुक़ून नहीं प्रदान करती, बल्कि आपके रोष का कारण बन जाती है। हमारी मन:स्थितियां परिस्थितियों व आसपास के वातावरण पर आधारित व  काल-सापेक्ष होती हैं। बचपन, युवावस्था व वृद्धावस्था में इनके मापदंड बदल जाते हैं। सो! हमें विपरीत परिस्थितियों में भी कभी निराश नहीं होना चाहिए, बल्कि सदैव प्रसन्न रहने से ज़िंदगी का सफ़र आसानी से कट जाता है। आइए! छोटी-छोटी खुशियां अपने दामन में समेट लें, ताकि जीवन उमंग व उल्लास से आप्लावित रह सके। मन-मयूर सदैव मद-मस्त रहे, क्योंकि खुश रहना हमारा दायित्व है, जिसका हमें बखूबी वहन करना चाहिए।

© डा. मुक्ता

माननीय राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कृत, पूर्व निदेशक, हरियाणा साहित्य अकादमी

#239,सेक्टर-45, गुरुग्राम-122003 ईमेल: drmukta51@gmail.com, मो• न•…8588801878

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

image_print
0 0 votes
Article Rating

Please share your Post !

Shares
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments