image_print
श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ 

 

(प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ जी के साप्ताहिक स्तम्भ – “विवेक के व्यंग्य”  में हम श्री विवेक जी के चुनिन्दा व्यंग्य आप तक पहुंचाने का प्रयास करते हैं। अब आप प्रत्येक गुरुवार को श्री विवेक जी के चुनिन्दा व्यंग्यों को “विवेक के व्यंग्य “ शीर्षक के अंतर्गत पढ़ सकेंगे।  आज प्रस्तुत है श्री विवेक जी का व्यंग्य “अमीर बनाने का साफ्टवेयर ”

 

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक के व्यंग्य – # 5 ☆ 

 

☆ अमीर बनाने का साफ्टवेयर ☆

 

युग इंटरनेट का है।सब कुछ वर्चुएल है. चांद और मंगल पर भी लोग प्लाट खरीद और बेच रहे है. धरती पर तो अपने नाम दो गज जमीन नहीं है, गगन चुम्बी इमारतों में, किसी मंजिल के किसी दडबे नुमा फ्लैट में रहना महानगरीय विवशता है, पर कम्प्यूटर के माध्यम से अंतरजाल के जरिये दूसरी दुनियाँ की राकेट यात्राओं के लिये अग्रिम बुकिंग हो रही है, इस वर्चुएल दुनियां में इन दिनों मैं बिलगेट्स से भी बडा रईस हूँ.

हर सुबह जब मैं अपना ई मेल एकाउण्ट, लागइन करता हूं, तो इनबाक्स बताता है कि कुछ नये पत्र आये है. मैं उत्साह पूर्वक माउस क्लिक करता हूँ, मुझे आशा होती है कि कुछ संपादकों के स्वीकृति पत्र होगें, और जल्दी ही में एक ख्याति लब्ध व्यंग्यकार बन जाऊंगा, पत्र पत्रिकायें मुझ से भी अवसर विशेष के लिये रचनाओं की मांग करेंगे. मेरी मृत्यु पर भी जाने अनजाने लोग शोक सभायें करेंगे, शासन, मेरा एकाध लेख, स्कूलों की किसी पाठ्यपुस्तक में ठूंस कर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर लेगा, हो सकता है मेरे नाम पर कोई व्यंग्य अलंकरण बगैरह भी स्थापित हो जावे. आखिर यही सब तो होता है ना, पिछले सुप्रिसद्व व्यंग्य धर्मियों के साथ।

पर मेरी आशा निराशा में बदल जाती है, क्योंकि मेल बाक्स में साहित्यिक डाक नहीं, वरन अनजाने लोगो की ढेर सी ऐसी डाक होती है, जिससे में वर्चुएली कुछ और रईस बन जाता हं.

मुझे लगता है कि दोहरे चरित्र और मल्टिपल चेहरे की ही तरह ई मेल के इस जमाने में भी हम डाक के मामले में दोहरी व्यवस्था के दायरे में है. अपने विजिटिंग कार्ड पर, पत्र पत्रिका के मुख पृष्ठ पर, वेब एड्रेस और ई मेल एड्रेस लिखना, स्टेटस सिंबल मात्र बना हुआ है. जिन संपादको को मैं ई मेल के जरिये फटाफट लेख भेजता हूँ, उनसे तो उत्तर नहीं मिलते, हाँ जिन्हें हार्ड प्रिंट कापी मैं डाक से भेजता हूँ, वे जरूर फटाफट छप जाते हैं, मतलब साफ है, या तो साफ्टवेयर, फान्टस मिस मैच होता है, या मेल एकाउंट खोला ही नहीं जाता क्योंकि पिछली पीढी के लोगो ने पत्रिका का चेहरा सामयिक और चमकदार बनाने के लिये ई मेल एकाउण्ट क्रियेट करके उसे मुख पृष्ठ पर चस्पा तो कर लिया है, पर वे एकाउण्ट आपरेट नहीं हो रहे. वेब साईट्स अपडेट ही नहीं की जाती, हार्ड कापी में ही इतनी डाक मिल जाती है कि साफ्ट कापी खोलने की आवश्यकता ही नहीं पडती।ई सामग्री अनावरित, अपठित वर्चुएल रूप में ही रह जाती है.

सरकारी दफ्तरों में पेपर लैस आफिस की अवधारणा के चलते इन दिनों प्रत्येक जानकारी ई मेल पर, साथ ही सी.डी.पर और त्वरित सुविधा हेतु हार्ड कापी पर भी बुलाते है. समय के साथ चलना फैशन है.

यदि मेरे जैसा कोई अधिकारी कभी गलती से, ई मेल पर कोई संदेश अपने मातहतो को प्रेषित कर, यह सोचता है कि नवीनतम तकनीक का प्रयोग कर सस्ते में, शीध्रता से, कार्य कर लिया गया है, तो उसे अपनी गलती का आभास तब होता है, जब प्रत्येक मातहत को फोन पर अलग से सूचना देनी पडती है, कि वे कृपया अपना ई मेल एकाउण्ट खोलकर देखें एवं कार्यवाही करें.

ई वर्किग का सत्य मेरे सम्मुख तब उजागर हुआ, जब मेरे एक मातहत से प्राप्त सी.डी. मैने अपने कम्प्यूटर पर चढाकर पढनी चाही. वह पूर्णतया ब्लैंक थी. पिछले अफसर के कोप भाजन से बचने के लिये, कम्प्यूटर पर जानकारी न बनने पर भी, वे लगातार कई महीनों से ब्लैंक सी.डी. जमा कर देते थे. और अब तक कभी पकडे नहीं गये थे. कभी किसी बाबू ने कोई पूछताछ करने की कोशिश की तो सी.डी. न खुलने का, साफ्टवेयर न होने या सी. डी. करप्ट हो जाने का, वायरस होने वगैरह का स्मार्ट बहाना कर वे उसे टालू मिक्चर पिला देते थे. ई गर्वनेंस का सत्य उद्घाटित करना हो तो पांच-दस सरकारी विभागों की वेब साईटस पर सर्फिग कीजिये. नो अपडेट… महीनों से सब कुछ यथावत संरक्षित मिलेगा अपनी विरासत से लगाव का उत्कृष्ट उदाहरण होती हैं ये साइट्स.

सरकारी वर्क कल्चर में आज भी ई वर्किग, युवा बडे साहब के दिमाग का फितूर माना जाता है.  अनेक बडे साहबों ने पारदर्शिता एवं शीघ्रता के नारे के साथ, पुरूस्कार पाने का एक साधन बनाकर, प्रारंभ करवाया। हौवा खडा हुआ विभाग का वेब पेज बना. पर साहब विशेष के स्थानांतरण के साथ ही ऐसी वेब साईट्स का हश्र हम समझ सकते हैं.

कुछ समझदार साहबों ने आम कर्मचारी की ई अज्ञानता का संज्ञान लेकर विभाग के विशिष्ट साफ्टवेयर, विशेष प्रशिक्षण, एवं कम्प्यूटर की दुनियाँ में तेजी से होते बदलाव तथा कीमतों में कमी के चलते, कमाई के ऐसे कीर्तिमान बनाये, जिन पर कोई अंगुली भी नहीं उठा सकता।मसला ई गर्वनेंस का जो है।बौद्विक साफ्टवेयर कहाँ, कितने का डेवेलेप हो यह केवल बडे, युवा साहब ही जानते है.

अस्तु, जब से मैने एक नग ब्लाग बनाकर अपना ई मेल पता सार्वजनिक किया है, मैं दिन पर दिन अमीर होता जा रहा हूं, वर्चुएल रूप में ही सही. गरीबी उन्मूलन का यह सरल, सुगम ई रास्ता मैं सार्वजनिक करना चाहता हूँ.  इन दिनों मुझे प्रतिदिन ऐसी मेल मिल रही है. जिनमे मुझे लकी विनर, घोषित किया जाता है. या दक्षिण अफ्रीका के किसी एड्वोकेट से कोई मेल मिलता है, जिसक अनुसार मेरे पूर्वजों में से कोई ब्लड रिलेशन, एअर क्रेश में सपरिवार मारे गये होते  मेरी संस्कृति एवं परम्परा के अनुसार यह पढकर मुझे गहन दुख होना चाहिये, जो होने को ही था, कि तभी मैने मेल की अगली लाइन पढी.  मेल के अनुसार अब उनकी अकूत संपत्ति का एकमात्र स्वामी मैं हूँ, और एडवोकेट साहब ने बेहद खुफिया जांच के बाद मेरा पता लगाकर, अपने कर्तव्य पालन हेतु मुझे मेल किया है. और अब लीगल. कार्यवाहियों हेतु मुझ से कुछ डालर चाहते हैं.

मैं दक्षिण अफ्रीका के उस समर्पित कर्तव्य निष्ठ एड्वोकेट की प्रशंसा करता हुआ अपने गांव के उस फटीचर वकील की बुराई करने लगा, जो  गाँव के ही पोस्ट आफिस में जमा मेरे ही पैसे, पास बुक गुम हो जाने के कारण, मुझे ही नहीं दिलवा पा रहा है. यह राशि मिले तो मैं अफ्रीका के वकील को उसके वांछित डालर देकर उस बेहिसाब संपत्ति का स्वामी बनूं, जिसकी सूचना मुझे ई मेल से दी गई है. इस  पत्र के बाद लगातार कभी दीवाली, ईद, क्रिसमस, न्यूईयर आदि फेस्टिवल आफर में, कभी किसी लाटरी में, तो कभी किसी अन्य बहाने मुझे करोडों डालर मिल रहे हैं, पर उन्हें प्राप्त करने के लिये जरूरी यही होता है कि मैं उनके एकाउंट में कुछ डालर की प्रोसेसिंग फीस जमा करूँ.  मैं गरीब देश का गरीब लेखक, वह नहीं कर पाता और गरीब ही रह जाता हूँ तो इस तरह, नोशनल रूप से मैं इन दिनों बिल गेट्स से भी अमीर हूँ अपने एक अदद, फ्री, ई मेल एड्रेस के जरिये.

जब मैंने ई मेलाचार के इस पक्ष को समझने का प्रयत्न किया तो ज्ञात हुआ कि ई मेल एड्र्सेस, खरीदे बेचे जाते हैं, कोई है जो मेरा ई मेल एड्र्स भी बेच रहा है।स्वयं तो उसे बेचकर अमीर बन रहा है, और मुझे मुर्गा बनाने के लिये, अमीर बनाने का प्रलोभन दिया जा रहा है।अरबों की आबादी वाली दुनियां में 2-4 लोग भी मुर्गा बन जाये तो, ऐसे मेल करने वालों को तो, बेड बटर का जुगाड हो ही जायेगा ना, हो ही जाता है.

अब मुझे पूर्वजों के अनुभवों से बनाई गई कहावतों पर संशय होने लगा है. कौन कहता है कि ’’लकडी की हांडी बार-बार नहीं चढती ’’ ? कम से कम अमीर बनाने के ये मेल तो यही प्रमणित कर रहे है, अब मैं यह भी समझने लगा हूं कि मैं स्वयं को ही बेवकूफ नहीं समझता.  मेरी पत्नी, सहित वे सब लोग भी जो मुझे इस तरह के मेल कर रहे है, मुझे विशुद्व बेवकूफ ही मानते हैं, वे मानते हैं कि मै उनके झांसे में आकर उन्हें उनके बांधित ’ डालर ’ भेज दूंगा. पर मैं इतना भी बेवकूफ नहीं हूँ मैंने वर्चुएल रईसी का यह फार्मूला निकाल लिया है, और बिना एक डालर भी भेजे, मैं अपनी बर्चुएल संपत्ति  एकत्रित करता जा रहा हूँ, तो आप भी अपना एक ई मेल एकांउट बना डालिये ! बिल्कुल फ्री, उसे सार्वजनिक कर डालिये. और फिर देखिये कैसे फटाफट आप रईस बन जाते है. वर्चुएल रईस.

 

© श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव 

ए-1, एमपीईबी कालोनी, शिलाकुंज, रामपुर, जबलपुर, मो. ७०००३७५७९८

 

image_print

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *