image_print

पूर्ण विनाशक (स्वयं की तलाश) – श्री आशीष कुमार 

Book: Purn Vinashak
Author: Ashish Kumar
Published by: Evincepub Publications
Publication Year: 2019
Formats: Amazon Kindle, Paperback
Genre: Philosophical, Spiritual, Mystery, Religious
Reviewed by: Ashish
Rating: 4/5 stars

Amazon Link – Purn Vinashak

आत्मकथ्य: 

एक दिन, जब मैं विलासिता का आनंद ले रहा था (आम तौर पर जिसे मैं पसंद नहीं करता हूँ), तो मुझे एहसास हुआ कि कहीं कुछ कमी है। उस समय मैं सोच रहा था कि अगर कोई रिश्तेदार या मित्र उस आनंद का भाग ना हो तो कोई भी विलासिता का आनंद कैसे ले सकता है। उस समय एक सेकंड का एक अंश मुझे एक युग की तरह लग रहा था। इसलिए मैंने दृढ़ विश्वास किया कि अकेले जीवन जीना खुद के लिए अपराध है। और यदि वह जीवन सबसे लम्बा हो, तो?

उस दिन मैंने इस पुस्तक को लिखने का निर्णय किया। मेरा सिर्फ एक ही विचार पूरी किताब में परिवर्तित हो गया है। मैंने ब्रह्मांड के सबसे कठिन विषयों पर अपने बारह साल के शोध, अनुभव, अन्वेषण, खोज, इच्छाओं और भावनाओं को इस पुस्तक में जोड़ दिया है। लेकिन सबसे अधिक, यह पुस्तक उस अनंत शक्ति के गुप्त मार्गदर्शन द्वारा लिखी गई है, जिसने मुझे सुझाव दिया, ध्यान और सपनों के चरणों में और यहाँ तक कि गहरी नींद में भी, इस पुस्तक में जोड़ने के लिए लेखों, और अवधारणाओं की स्पष्टता का।

कुछ वैज्ञानिकों के लिए आश्चर्यचकित करने वाले हैं, अन्य वैज्ञानिकों के लिए सहायक हो सकते हैं। मुझे ध्यान, सपनों और गहरी नींद की स्थिति में भगवान से सन्देश और निर्देश प्राप्त हुए हैं। केवल मुझे पता है कि मैंने इस पुस्तक में अपना पूरा जीवन डालने के लिए कितना दर्द सहन किया है। मेरे पास कोई संख्या उपलब्ध नहीं हैं जो मुझे बता सके कि मैंने सोये बिना कितनी रातें बिताई है यहाँ तक कि नींद ने मुझे कई बार चेतावनी दी कि या तो मेरा आनंद लो या दर्द से चूर चूर होने के लिए तैयार हो जाओ।

मुझे लगातार सिरदर्द का सामना करना पड़ा, जिसे मैं पिछले बारह वर्षों से सामना कर रहा था, अंत में इस पुस्तक के रूप में मेरे प्रयासों को न्याय संगत बनाने में सक्षम है। पिछले दस सालों से, मैं ‘कई’ स्थितियों से गुजर रहा था मैं मानसिक रूप से, शारीरिक रूप से, आर्थिक रूप से, सामाजिक रूप से, भावनात्मक रूप से, तार्किक रूप से, टूटा हुआ था। यह पुस्तक आपको रहस्यों की यात्रा पर ले जाएगी। आपको कुछ तथ्यों की व्याख्या मिलेगी जो आप अपने बचपन से सुन रहे हैं, और अचानक वे बदल जाएंगे।

मैंने हिंदू धर्म पर सभी संभावित उपलब्ध ग्रंथों को पढ़ा है जिनमें 4 वेद, 18 पुराण, 108 से अधिक उपनिषद, भगवद-गीता, रामायण, महाभारत, उप वेद, वास्तु-शास्त्र, ज्योतिष, हस्त रेखा, संगीत, आयुर्वेद, पौराणिक कथाओं, दर्शन, आगाम और कई अन्य। मैंने भौतिक प्रारूप और ई-किताबों में धर्म, दर्शन, विज्ञान इत्यादि के पिछले बारह वर्षों में 3000 से अधिक किताबों को पढ़ा हैं।

मैंने ज्ञान के लिए अपनी खोज को पूरा करने के लिए इंटरनेट पर अत्यधिक शोध किया है जिस पर यह पुस्तक आधारित है। तो इस पुस्तक को लिखने के लिए, मेरे प्राथमिक संसाधन हिंदू शास्त्र और इंटरनेट था। मैंने इस पुस्तक को एक रूप देने के लिए अपने दृष्टिकोण और चेतना के साथ एकत्र की गई जानकारी को एक कहानी में संकुचित कर दिया है। लेकिन कुछ हद तक केवल दिव्य स्रोत से प्राप्त निर्देश ही इस पुस्तक में हैं वो मुझे तब प्राप्त हुए जब मैं ध्यान या नींद की अवस्था में था।

इस पुस्तक में आपको पता चलेगा कि नाम क्या कर सकते हैं। तो अगली बार “नाम में क्या है?” पूछने से पहले दो बार सोचें। कई जगहों पर मैंने एक शब्द के अर्थ की व्याख्या करने के लिए वाक्यों या शब्दों के समूह का उपयोग किया है। कुछ स्थानों पर कुछ शब्दों का एक अर्थ होता है, और दूसरी जगह पर पुस्तक के प्रवाह के अनुसार कुछ मामूली अंतर के साथ उसी शब्द का कुछ अलग अर्थ हो जाता है। कुछ शब्द बहुत ही साधारण हैं, जिनका अर्थ हर कोई जानता है, लेकिन मैंने फिर से उन लोगों के लिए उनका अर्थ दिया है जो हिन्दुत्व के विषय में ज्यादा जानकारी नहीं रखते हैं। मैंने शब्दों और अर्थों को आसान से आसान बनाने का प्रयास किया है। हिंदू पौराणिक कथाओं में, समान नाम रखने वाले कई व्यक्तित्व हैं। इसलिए मैंने उनके अर्थों को उसी स्थान पर समझाया है, जिस स्थान पर इस पुस्तक में उनका उपयोग किया गया है, जैसे कि बाली वानर सुग्रीव के भाई हैं और लगभग समान नाम बलि पाताल लोक के राजा भी हैं। इसके अतरिक्त जंबुमली, सुसैन, आदि एक से अधिक व्यक्तित्व का नाम है। प्राण और चेतना जैसी उच्च अवधारणाओं के भी एक से अधिक अर्थ हैं। कभी-कभी मैंने विशिष्ट वाक्य के अनुसार किसी नाम का अर्थ इस्तेमाल किया, और अन्य अर्थों का उपयोग वहाँ किया है जहाँ यह एक अलग वाक्य में उपयोग किया गया हैं जिसमें उसका अर्थ पूरी तरह से अलग या उसके अर्थ का थोड़ा सा अलग संदर्भ है।

  • आशीष कुमार

Book Review:

Purn Vinashak, as the title suggests very clearly, is a novel that mixes many things together to create a completely different experience for the readers – thriller, mystery, adventure, spirituality, philosophy, and also religious elements. The novel fixates around a character named Surya Singha who is a travel guide and also a mysterious person as perceived by the characters around him – Ashish, Avinash and Puja. The novel is a mystery in itself as we, as the readers, are taken through different passages and paths only to understand that the character who is the fulcrum of the novel is none other but the brother of great King Ravana – Vibhishan himself.

Ashish, Avinash and Puja are people of the modern era and interested in researching about epics, religious texts and ancient scriptures. They are baffled when Surya Singha shocks them by revealing his true identity as a person who has lived many thousand years, has seen the great battle between Ram and Ravana, the great war of Mahabharata and also the two world wars. This revelation shocks Puja and others, especially Ashish who, thereafter, remains in awe throughout the novel.

‘Vibhishan Sir’ as other characters call him, reveals many secrets to these characters. Secrets and knowledge from Yoga, Spirituality, Karma, Ramayana and Mahabharata and many other ancient treasures that Ashish (and other characters) enjoy immensely.

Towards the conclusion, however, the novel takes a very different turn and a twist occurs that leaves Ashish shocked! This is something that the readers will find out themselves.

Purna Vinashak is written in Hindi and the author Ashish Kumar hasn’t left any spaces empty – content, language, plot, and theme – everything is properly maintained. However, at times, the novel’s narrative takes the shape of non-fiction as Vibhishan begins explaining things in details. That is something that only religious and spiritual readers will find exciting. Otherwise, the novel is exciting for the readers in general minus the Vibhishan’s extreme knowledge of things.

You can get a copy of the novel from Amazon and enjoy reading it right away!

Review by Sumit for Indian Book Critics

साभार: श्री आशीष कुमार 
image_print

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of