image_print

श्री संजय भारद्वाज 

(“साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच “ के  लेखक  श्री संजय भारद्वाज जी – एक गंभीर व्यक्तित्व । जितना गहन अध्ययन उतना ही  गंभीर लेखन।  शब्दशिल्प इतना अद्भुत कि उनका पठन ही शब्दों – वाक्यों का आत्मसात हो जाना है।साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं।

श्री संजय जी के ही शब्दों में ” ‘संजय उवाच’ विभिन्न विषयों पर चिंतनात्मक (दार्शनिक शब्द बहुत ऊँचा हो जाएगा) टिप्पणियाँ  हैं। ईश्वर की अनुकम्पा से आपको  पाठकों का  आशातीत  प्रतिसाद मिला है।”

हम  प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक पहुंचाते रहेंगे। आज प्रस्तुत है  इस शृंखला की अगली  कड़ी । ऐसे ही साप्ताहिक स्तंभों  के माध्यम से  हम आप तक उत्कृष्ट साहित्य पहुंचाने का प्रयास करते रहेंगे।)

☆ संजय उवाच # 94 ☆ गिद्ध उड़ाने की कोशिश में ☆

‘आपदा में अवसर’ अर्थात देखने को दृष्टि में बदलना, आशंका में संभावना ढूँढ़ना। इसके लिए प्रखर सकारात्मकता एवं अचल जिजीविषा की आवश्यकता होती है। यह सकारात्मकता  सामूहिक हित का विचार करती है।

सिक्के का दूसरा पहलू यह है कि आपदा में निजी लाभ और स्वार्थ की संकुचित वृत्ति मनुष्य को गिद्ध कर देती है।  मृतक प्राणी  को नोंच-नोंच कर अपना पेट भरना गिद्ध की प्राकृतिक आवश्यकता है पर भरे पेट मनुष्य का असहाय, मरणासन्न अथवा  मृतक से लाभ उठाने के लिए गिद्ध होना समूची मानवता का सिर शर्म से झुका देता है।

इस संदर्भ में प्रतिभाशाली पर दुर्भाग्यवान फोटोग्राफर केविन कार्टर का याद आना स्वाभाविक है। केविन 1993 में सूडान में भुखमरी की ‘स्टोरी'(!) कवर करने गए थे। भुखमरी से मरणासन्न एक बच्ची के पीछे बैठकर उसकी मृत्यु की प्रतीक्षा कर रहे गिद्ध की फोटो उन्होंने खींची थी। इस तस्वीर ने दुनिया का ध्यान सूडान की ओर खींचा। केविन को इस फोटो के लिए पुलित्जर सम्मान भी मिला। बाद में टीवी के एक शो के दौरान जब केविन इस गिद्ध के बारे में बता रहे थे तो एक दर्शक की टिप्पणी ने उन्हें भीतर तक हिला कर रख दिया। उस दर्शक ने कहा था, ‘उस दिन वहाँ दो गिद्ध थे। दूसरे के हाथ में कैमरा था।’

 माना जाता है कि बाद में ग्लानिवश केविन अवसाद में चले गए। एक वर्ष बाद उन्होंने उन्होंने आत्महत्या कर ली। यद्यपि अपने आत्महत्या से पूर्व लिखे पत्र में केविन ने इस बात का उल्लेख किया था कि इस फोटो के कारण ही सूडान को संयुक्त राष्ट्रसंघ से बड़े स्तर पर सहायता मिली।

इस सत्यकथा का संदर्भ यहाँ इसलिए दिया गया है क्यों कि कोविड महामारी की दूसरी लहर में कुछ लोग निरंतर गिद्ध हो रहे हैं। ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाज़ारी हो, रेमडेसिविर की मुँहमाँगी रकम लेना हो या प्लाज़्मा का व्यापार, गिद्ध हर स्थान पर मौज़ूद हैं। यद्यपि अब प्लाज़्मा और रेमडेसिविर को कोविड के इलाज के प्रोटोकॉल से बाहर कर दिया गया है पर इससे पिछले तीन-चार सप्ताह में मनुष्यता को नोंचने वाले गिद्धों का अपराध कम नहीं हो जाता। कुछ किलोमीटर की एंबुलेंस या शव-वाहिनी सेवा (!)  के लिए हज़ारों रुपयों की उगाही और नकली इंजेक्शन की फैक्ट्रियाँ  लगाकर दुर्लभ होते असली गिद्धों की कमी नरगिद्ध पूरी करते रहे। कुछ स्थानों से महिला रुग्ण के शीलभंग के समाचार भी आए। इन समाचारों से तो असली गिद्ध भी लज्जित हो गए। 

कोविड के साथ-साथ इन गिद्धों का इलाज भी आवश्यक है। पुलिस और न्यायव्यवस्था अपना काम करेंगी। समाज का दायित्व है कि उस वृत्ति का समूल नाश करे जो संकट में स्वार्थ तलाश कर मनुष्य होने को कलंकित करती है। मनुष्य को परिभाषित करते हुए मैथिलीशरण गुप्त जी ने लिखा है,

अनर्थ है कि बंधु हो न बंधु की व्यथा हरे,

वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे।

सीधी, सरल बात यह है कि और कुछ भी होने से पहले हम मनुष्य हैं। मनुष्यता बची रहेगी तभी मनुष्य से जुड़े सरोकार भी बचे रहेंगे। साथ ही कालातीत सत्य का एक पहलू यह भी है कि हम सबके भीतर एक गिद्ध है। हो सकता है कि हरेक उस गिद्ध को समाप्त न कर सके पर दूर भगाने या उड़ाने की कोशिश तो कर ही सकता है।

 

© संजय भारद्वाज

☆ अध्यक्ष– हिंदी आंदोलन परिवार  सदस्य– हिंदी अध्ययन मंडल, पुणे विश्वविद्यालय  संपादक– हम लोग  पूर्व सदस्य– महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी ☆ ट्रस्टी- जाणीव, ए होम फॉर सीनियर सिटिजन्स 

मोबाइल– 9890122603

संजयउवाच@डाटामेल.भारत

writersanjay@gmail.com

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

image_print
0 0 votes
Article Rating

Please share your Post !

Shares
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Rita Singh

बहुत सटीक विवेचनात्मक रचना।आज सच में नरगिद्धों की संख्या बढ़ती ही जा रही है।पतानहींइस तरह कमाया गया धन किस काम आएगा। समाज में हर किसी को अपनी ज़िम्मेदारी का अहसास होना ही अब एकमात्र उपाय है।