image_print

संस्मरण-मौसी – सुश्री मालती मिश्रा मयंती

मालती मिश्रा मयंती            (सुश्री मालती मिश्रा जी का अपनी मौसी से संबन्धित संस्मरण उनकी संवेदनशीलता की  पराकाष्ठा है। यह दस्तावेज़ उनके संवेदनशील हृदय  से संलिप्त  स्मृतियों  का जीवंत चित्रण है। ) मौसी आज अचानक ही न जाने क्यों उस व्यक्तित्व की याद आई जो मेरे जीवन में माँ सी थीं। हालांकि आज वो इस दुनिया में प्रत्यक्ष रूप से नहीं हैं परंतु माँ की यादों के साथ उनकी यादें भी सदा मेरे हृदय में जीवित रहती हैं। आज तो मेरी माँ जिन्हें हम 'अम्मा' कहते हैं वो भी हमारे बीच प्रत्यक्ष रूप से नहीं हैं । परंतु, मौसी उनकी छोटी बहन होते हुए भी उनसे पहले ही इहलोक को छोड़ गई थीं । शायद उनका बिछोह ही था, जिसने अम्मा को और अधिक तोड़ दिया।  मुझे तो उनकी मृत्यु के विषय में बाद में पता चला।  अम्मा ने फोन पर बताया कि 'मौसी चल बसीं' और वो आज ही उनकी तेरहवीं आदि सारे क्रियाकर्म सम्पन्न करवाकर घर लौटी हैं। उनकी आवाज उनके व्यथित...
Read More

संस्मरण-यादें: भूली-बिसरी – इन्दल – श्री संतोष रावत

यादें: भूली-बिसरी - इन्दल 'मे आई कम इन सर' सुनते ही पूरी क्लास का ध्यान दरवाजे की ओर गया और एक ही क्षण में शिक्षक की ओर। शिक्षक की ओर से कोई उत्तर नहीं। उन्होनें अपना रूल उठाया और दरवाजे की ओर खुद ही बढ़ चले। दोनों हथेलियों को आपस में रगड़ रहा था क्लास में पिछली सीट पर बैठा इन्दल। गले से मफलर निकाल कर दोनों हथेलियों पर लपेटा, यह सोच कर कि भरी ठंड में रूल से मार खाई हथेलियों को आपस में रगड़ने से और मफलर की गर्माहट से दर्द से शीघ्र आराम मिल जाएगा। पूरी क्लास स्तब्ध। कभी इन्दल के रुआंसे चेहरे की ओर देखती, कभी ब्लैक बोर्ड के सामने बैठे शिक्षक को। इन्दल हमारे साथ पढ़ता था। वैसे उसका नाम इंदर था। समाज में निम्न जाति का कहलाने वाला यह क्लास के सभी छात्रों से ज्यादा तगड़ा था। ऊंचा कद, सीधा होकर चलने वाला यह क्लास में सबसे बड़ा दिखता था। हालांकि उम्र में वह हमारे जितना ही बड़ा...
Read More

संस्मरण-चुटका परमाणु घर – श्री जय प्रकाश पाण्डेय

चुटका परमाणु घर  बीस साल पहले मैं स्टेट बैंक की नारायणगंज (जिला - मण्डला) म. प्र. में शाखा प्रबंधक था। बैंक रिकवरी के सिलसिले में बियाबान जंगलों के बीच बसे चुटका गांव में जाना हुआ था आजीवन कुंआरी कलकल बहती नर्मदा के किनारे बसे छोटे से गांव चुटका में फैली गरीबी, बेरोजगारी, निरक्षरता देखकर मन द्रवित हुआ था और आज संस्मरण लिखने का अचानक मन हो गया। चुटका गांव की आंगन में रोटी सेंकती गरीब छोटी सी बालिका ने ऐसी प्रेरणा दी कि हमारे दिल दिमाग पर चुटका के लिए कुछ करने का भूत सवार हो गया। उस गरीब बेटी के एक वाक्य ने इस संस्मरणात्मक कहानी को जन्म दिया। आफिस से रोज पत्र मिल रहे थे,....... रिकवरी हेतु भारी भरकम टार्गेट दिया गया था । कहते है - ''वसूली केम्प गाँव -गाँव में लगाएं, तहसीलदार के दस्तखत वाला वसूली नोटिस भेजें ..... कुर्की करवाएं ......और दिन -रात वसूली हेतु गाँव-गाँव के चक्कर लगाएं, ... हर वीक वसूली के फिगर भेजें,.... और...
Read More
image_print