image_print

हिन्दी साहित्य – मनन चिंतन – ☆ संजय दृष्टि – संस्मरण ☆ – श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज  (श्री संजय भारद्वाज जी का साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं।  हम आपको प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक  पहुँचा रहे हैं। अब सप्ताह के अन्य दिवसों पर आप उनके मनन चिंतन को  संजय दृष्टि के अंतर्गत पढ़ सकेंगे। )    ☆ संजय दृष्टि  –  संस्मरण ☆ मेरे लिए प्रातःभ्रमण निरीक्षण, अपने आप से संवाद करने एवं आकलन का सर्वश्रेष्ठ समय होता है। रोजाना की कुछ किलोमीटर की ये पदयात्रा अनुभव तो समृद्ध करती ही है, मुझे शारीरिक से अधिक मानसिक स्वास्थ्य प्रदान करती है। आज टहलते हुए हिंदी माध्यम के एक विद्यालय के सामने से निकला। अंग्रेजी स्कूलों में वैन, स्कूल बस और ऑटोरिक्शा से उतरनेवाने स्टुडेंट्स की बनिस्बत घर से पैदल आनेवाले विद्यार्थियों की भीड़ फुटपाथ पर थी। आपस में बातचीत करती 10-12 वर्ष की दो बच्चियाँ स्कूल...
Read More

हिन्दी साहित्य – ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक के संस्मरण – # 21 ☆ मेरी माँ प्राचार्या पिछली पीढ़ी की नारी सशक्तिकरण की उदाहरण ☆ – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’    (प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ जी के साप्ताहिक स्तम्भ – “विवेक के व्यंग्य” स्थान पर आज हम प्रस्तुत कर रहे हैं  "विवेक के संस्मरण ". इस सन्दर्भ में हम श्री विवेक जी के अपनी माताजी के अविस्मरणीय संस्मरण  "मेरी माँ प्राचार्या पिछली पीढ़ी की नारी सशक्तिकरण की उदाहरण" आपसे साझा करना चाहेंगे जो हम सबके लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं।  )   ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक के संस्मरण – # 21 ☆    ☆ मेरी माँ प्राचार्या पिछली पीढ़ी की नारी सशक्तिकरण की उदाहरण ☆   मैं अपनी माँ श्रीमती दयावती श्रीवास्तव के साथ जब भी कहीं जाता तो मैं तब आश्चर्य चकित रह जाता , जब मैं देखता कि अचानक ही कोई युवती , कभी कोई प्रौढ़ा ,कोई सुस्संकृत पुरुष आकर श्रद्धा से उनके चरणस्पर्श करता है .मैम, आपने मुझे पहचाना ? आपने मुझे फलां फलां स्कूल में , अमुक तमुक साल में पढ़ाया था ....! प्रायः महिलाओ में उम्र के सा्थ हुये व्यापक शारीरिक परिवर्तन के चलते माँ अपनी शिष्या को पहचान नहीं पाती...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ जय प्रकाश पाण्डेय का सार्थक साहित्य # 18– मार्मिक संस्मरण – जीवन जीने की कला ……. ☆ – श्री जय प्रकाश पाण्डेय

श्री जय प्रकाश पाण्डेय   (श्री जयप्रकाश पाण्डेय जी   की पहचान भारतीय स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त वरिष्ठ अधिकारी के अतिरिक्त एक वरिष्ठ साहित्यकार की है। वे साहित्य की विभिन्न विधाओं के सशक्त हस्ताक्षर हैं। उनके  व्यंग्य रचनाओं पर स्व. हरीशंकर परसाईं जी के साहित्य का असर देखने को मिलता है। परसाईं जी का सानिध्य उनके जीवन के अविस्मरणीय अनमोल क्षणों में से हैं, जिन्हें उन्होने अपने हृदय  एवं  साहित्य में  सँजो रखा है । प्रस्तुत है साप्ताहिक स्तम्भ की  अगली कड़ी में उनका  मार्मिक संस्मरण   “जीवन जीने की कला .......” । आप प्रत्येक सोमवार उनके  साहित्य की विभिन्न विधाओं की रचना पढ़ सकेंगे।) ☆ जय प्रकाश पाण्डेय का सार्थक साहित्य # 18☆   ☆ मार्मिक संस्मरण -  जीवन जीने की कला .......☆    जीवन है चलने का नाम .....। जो लोग परेशानी भरी जिंदगी जीते है उनकी संवेदनाये मरती नहीं है, उनकी संवेदनाएं विपरीत परिस्थतियों से लड़ने की प्रेरणा देती है और वे अन्य के लिए भी प्रेरक बन जाते है, उनकी सहज सरल बातें भी ख़ुशी का पैगाम बनकर उस...
Read More

हिन्दी साहित्य – संस्मरण – ☆ एक सजीव अमर संस्मरण ☆ श्रीमति हेमलता मिश्र “मानवी “

श्रीमति हेमलता मिश्र “मानवी “ (सुप्रसिद्ध, ओजस्वी,वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती हेमलता मिश्रा “मानवी”  जी  विगत ३७ वर्षों से साहित्य सेवायेँ प्रदान कर रहीं हैं एवं मंच संचालन, काव्य/नाट्य लेखन तथा आकाशवाणी  एवं दूरदर्शन में  सक्रिय हैं। आपकी रचनाएँ राष्ट्रीय स्तर पर पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित, कविता कहानी संग्रह निबंध संग्रह नाटक संग्रह प्रकाशित, तीन पुस्तकों का हिंदी में अनुवाद, दो पुस्तकों और एक ग्रंथ का संशोधन कार्य चल रहा है। आज प्रस्तुत है  श्रीमती  हेमलता मिश्रा जी का एक  बेबाक एवं अविस्मरणीय किन्तु ,शिक्षाप्रद संस्मरण। अक्सर हम जीवन में कई ऐसे अवसर अनजाने में अथवा जानबूझ कर खो देते हैं,  जिन्हें हम दुबारा नहीं जी सकते और आजीवन पश्चाताप के अलावा हमारे पास कुछ भी नहीं बचता।अतः जीवन के प्रत्येक अवसर को सोच समझ कर सकारात्मक दृष्टिकोण से ले चाहिए।  दूसरी सबसे बड़ी  बात उस गलती को स्वीकारना है जो हमसे हुई है और साथ ही दुःख इस बात का कि हम विश्व को एक अनमोल धरोहर विरासत में देने से वंचित रह गए। )   ☆...
Read More

हिन्दी साहित्य – संस्मरण – ☆ 150वीं गांधी जयंती विशेष -2 ☆ बा और बापू ☆ श्रीमति हेमलता मिश्र “मानवी “

ई-अभिव्यक्ति -गांधी स्मृति विशेषांक-2 श्रीमति हेमलता मिश्र “मानवी " (सुप्रसिद्ध, ओजस्वी,वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती हेमलता मिश्रा “मानवी”  जी  विगत ३७ वर्षों से साहित्य सेवायेँ प्रदान कर रहीं हैं एवं मंच संचालन, काव्य/नाट्य लेखन तथा आकाशवाणी  एवं दूरदर्शन में  सक्रिय हैं। आपकी रचनाएँ राष्ट्रीय स्तर पर पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित, कविता कहानी संग्रह निबंध संग्रह नाटक संग्रह प्रकाशित, तीन पुस्तकों का हिंदी में अनुवाद, दो पुस्तकों और एक ग्रंथ का संशोधन कार्य चल रहा है।आज प्रस्तुत  महात्मा गाँधी जी की 150  वीं जयंती पर एक संस्मरण “बा और बापू ”।   ☆ संस्मरण - बा और बापू ☆   मैं पिछले वर्ष महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय वर्धा की त्रिदिवसीय संगोष्ठी में पेपर पढ़ने के लिए आमंत्रित थी व शिरकत की थी। वहां पर भाषणों के दौरान सुना यह प्रसंग मुझे बहुत ही प्रभावित कर गया था जिसे आज गाँधीजी की जयंती पर आपसे शेयर कर रही हूँ। निःसंदेह आप लोगों को भी बहुत पसंद आएगा यह प्रसंग - - - सच कहूँ तो गाँधीजी और कस्तूरबा  के जीवन का यह बड़ा...
Read More

हिन्दी साहित्य – संस्मरण – ☆ 150वीं गांधी जयंती विशेष-1 ☆ पकुआ के घर गाँधी जी ! ☆ श्री जय प्रकाश पाण्डेय

ई-अभिव्यक्ति -गांधी स्मृति विशेषांक-1  श्री जय प्रकाश पाण्डेय   (श्री जयप्रकाश पाण्डेय जी   की पहचान भारतीय स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त वरिष्ठ अधिकारी के अतिरिक्त एक वरिष्ठ साहित्यकार की है। वे साहित्य की विभिन्न विधाओं के सशक्त हस्ताक्षर हैं। उनके  व्यंग्य रचनाओं पर स्व. हरीशंकर परसाईं जी के साहित्य का असर देखने को मिलता है। प्रस्तुत है उनका  महात्मा गांधी जी से सम्बंधित एक अविस्मरणीय संस्मरण  “पकुआ के घर गाँधी जी !” ) ☆ संस्मरण - पकुआ के घर गाँधी जी ! ☆    महात्मा गांधी और कबीर दोनों ही अस्पृश्यता - निवारण के पैगम्बर थे। दोनों ने छुआछूत का विरोध किया था, ऊंच - नीच, छोटा - बड़ा तथा गरीब - अमीर में अन्तर नहीं मानते थे। पकुआ नारायणगंज में रहता था मस्त ढपली बजाता, भले नीची जाति का था पर अंदर से सबका प्यारा था। उसने सपने भी नहीं सोचा रहा होगा कि एक दिन उसकी घास-फूस की झोपड़ी में महात्मा गांधी आयेंगे। जब हमारी शाखा प्रबंधक के रूप में नारायणगंज (जिला- मंडला) में पदस्थापना हुई तो...
Read More

हिन्दी साहित्य – शिक्षक दिवस विशेष – संस्मरण – ☆ हमारे आदर्श – कक्काजी ☆ – श्रीमति हेमलता मिश्र “मानवी” 

शिक्षक दिवस विशेष श्रीमति हेमलता मिश्र “मानवी”    (सुप्रसिद्ध, ओजस्वी,वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती हेमलता मिश्रा “मानवी”  जी  विगत ३७ वर्षों से साहित्य सेवायेँ प्रदान कर रहीं हैं एवं मंच संचालन, काव्य/नाट्य लेखन तथा आकाशवाणी  एवं दूरदर्शन में  सक्रिय हैं। आपकी रचनाएँ राष्ट्रीय स्तर पर पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित, कविता कहानी संग्रह निबंध संग्रह नाटक संग्रह प्रकाशित, तीन पुस्तकों का हिंदी में अनुवाद, दो पुस्तकों और एक ग्रंथ का संशोधन कार्य चल रहा है।आज प्रस्तुत है  शिक्षक दिवस पर श्रीमती हेमलता मिश्रा 'मानवी' जी का  अविस्मरणीय संस्मरण  “हमारे आदर्श - कक्का जी ”, जो  हम सबके लिए वास्तव में आदर्श हैं और जिस सहजता से लिखा गया है, बरबस ही उनकी छवि नेत्रों के सम्मुख आ जाती है।)   ☆  संस्मरण - हमारे आदर्श - कक्काजी  ☆   मेरे पिताजी स्वर्गीय श्री मोहनलाल जी शुक्ला, ईश्वर के वरदान की तरह प्रदत्त, बड़े गुरुजी के नाम से आज भी सुविख्यात हैं मेरे कस्बे पुलगांव और आसपास! - - - - और देश के अनेक क्षेत्रों में भी जहाँ उनके विद्यार्थी हों। लेकिन आप...
Read More

हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – संस्मरण ☆ पारदर्शी परसाई ☆ – डॉ.राजकुमार “सुमित्र”

डॉ.राजकुमार “सुमित्र”   ("परसाई स्मृति" के लिए अपने संस्मरण ई-अभिव्यक्ति  के पाठकों से साझा करने के लिए संस्कारधानी  जबलपुर के वरिष्ठ साहित्यकार गुरुवर डॉ राजकुमार "सुमित्र" जी  का हृदय से आभार।)     संस्मरण - पारदर्शी परसाई    अगस्त 1995, अमेरिका के सेराक्यूज नगर में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी समिति, के अधिवेशन में अपना वक्तव्य देकर बैठा ही था कि जबलपुर घर से फोन संदेश मिला...परसाई जी नहीं रहे। कलेजा धक्क, मैं स्तब्ध। मैंने अपने को संभालते हुए आयोजकों को सूचित किया। 'श्रद्धांजलि का जिम्मा संभाला' भरे मन से कुछ कहा। अधिवेशन की समाप्ति पर विभिन्न देशों से प्रतिनिधियों ने मुझसे मिलकर संवेदना प्रकट की। देर तक परसाई चर्चा चली। मन शोकाकुल था किंतु गर्व हो रहा था अपने परसाई की लोकप्रियता पर। दुनिया के 40 देशों तक परसाई पहुंच चुके थे। किंतु, देश प्रदेश में उनका मान था जब तक वह चलने फिरने लायक थे उन्हें मोटर स्टैंड पर भाई रूपराम की पान की दुकान से, श्याम टॉकीज के सामने रामस्वरूप के पान के ठेले के...
Read More

हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – आलेख ☆ इस तरह गुजरा जन्मदिन ☆ – स्व. हरिशंकर परसाई

स्व.  हरीशंकर परसाई  (परसाई जी अपना जन्मदिन मनाने के कभी भी समर्थक नहीं रहे हैं। किन्तु, हम लोगों ने बिना उनकी अनुमति के सन 1991 में जबलपुर में तीन दिवसीय वृहद् जन्मदिन का आयोजन करने का साहस किया था, जिसमें भारतीय स्टेट बैंक ने भी  उनका सम्मान किया था।। अब तो परसाई का जन्मदिन मनाये जाने की होड़ सी लगी है अब सबको लगने लगा है  कि परसाई का जन्मदिन मनाने से धन एवं यश मिलता है। - जय प्रकाश पाण्डेय) स्मृतियाँ - भारतीय स्टेट बैंक के महाप्रबंधक श्री जाखोदिया भोपाल से परसाई को सम्मानित करने उनके घर गए थे। इस चित्र में परसाई जी के साथ बाल नाट्यकर्मियों का दल है जिन्होंने सदाचार का तावीज रचना पर नाटक किया था। प्रसिद्ध नाट्यकार श्री वसंत काशीकर जी द्वारा लिखित यह नाटक हम इसी अंक में प्रकाशित कर रहे हैं।   इस तरह गुजरा जन्मदिन" - हरिशंकर परसाई   (अपने जन्मदिन पर उन्होने एक व्यंग्य-संस्मरण  लिखा था "इस तरह गुजरा जन्मदिन"। उनका यह व्यंग्य-संस्मरण हम यहाँ उद्धृत कर रहे हैं।)   तीस...
Read More

हिन्दी साहित्य – परसाई स्मृति अंक – संस्मरण ☆ परसाई के रूपराम ☆ – श्री जय प्रकाश पाण्डेय

श्री जय प्रकाश पाण्डेय   (“परसाई स्मृति” के लिए अपने संस्मरण /आलेख ई-अभिव्यक्ति  के पाठकों से साझा करने के लिए  संस्कारधानी  जबलपुर के वरिष्ठ साहित्यकार श्री जयप्रकाश पाण्डेय जी   का हृदय से आभार।)     संस्मरण – परसाई के रुप राम     जबलपुर के बस स्टैंड के बाहर पवार होटल के बाजू में बड़ी पुरानी पान की दुकान है। रैकवार समाज के प्रदेश अध्यक्ष "रूप राम" मुस्कुराहट के साथ पान लगाकर परसाई जी को पान खिलाते थे।  परसाई जी का लकड़ी की बैंच में वहां दरबार लगता था।  इस अड्डे में बड़े बड़े साहित्यकार पत्रकार इकठ्ठे होते थे साथ में पाटन वाले चिरुव महराज भी बैठते। ये वही चिरुव महराज जो जवाहरलाल नेहरू के विरुद्ध चुनाव लड़ते थे।  बाजू में उनकी चाय की दुकान थी मस्त मौला थे। (स्व. रूप राम रैकवार जी) आज उस पान की दुकान में पान खाते हुए परसाई याद आये, रुप राम याद आये और चिरुव महराज याद आये।  पान दुकान में रुप राम की तस्वीर लगी थी।  परसाई जी रुप राम रैकवार को बहुत चाहते थे उनकी कई...
Read More
image_print