image_print

श्रीमती छाया सक्सेना ‘प्रभु’

(ई-अभिव्यक्ति में संस्कारधानी की सुप्रसिद्ध साहित्यकार श्रीमती छाया सक्सेना ‘प्रभु’ जी द्वारा “व्यंग्य से सीखें और सिखाएं” शीर्षक से साप्ताहिक स्तम्भ प्रारम्भ करने के लिए हार्दिक आभार। आप अविचल प्रभा मासिक ई पत्रिका की प्रधान सम्पादक हैं। कई साहित्यिक संस्थाओं के महत्वपूर्ण पदों पर सुशोभित हैं तथा कई पुरस्कारों/अलंकरणों से पुरस्कृत/अलंकृत हैं।  आपके साप्ताहिक स्तम्भ – व्यंग्य से सीखें और सिखाएं  में आज प्रस्तुत है एक सार्थक एवं विचारणीय रचना “उम्मीद कायम है… ”। इस सार्थक रचना के लिए श्रीमती छाया सक्सेना जी की लेखनी को सादर नमन।

आप प्रत्येक गुरुवार को श्रीमती छाया सक्सेना जी की रचना को आत्मसात कर सकेंगे।)

☆ साप्ताहिक स्तम्भ  – व्यंग्य से सीखें और सिखाएं # 86 ☆ उम्मीद कायम है… 

कहते हैं हम ही उम्मीद का दामन छोड़ देते हैं, वो हमें कभी भी छोड़कर नहीं जाती। इसके वशीभूत होकर न जाने कितने उम्मीदवार टिकट मिलने के बाद ही अपनी वैचारिक प्रतिबद्धता तय करते देखे जा सकते हैं। कौन किस दल का घोषणा पत्र पढ़ेगा ये भी सीट निर्धारण के बाद तय होता है। इन सबमें सुखी वे पत्रकार हैं, जो पुराने वीडियो क्लिप दिखा -दिखा कर शो की टी आर पी बढ़ा देते हैं। उन्हें प्रश्नों के लिए भी ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ती। वही सवाल सबसे पूछते हुए पूरा चुनाव निपटा देते हैं।

मजे की बात इन सबमें नए – नए क्षेत्रीय गायकों ने भी अपनी भूमिका सुनिश्चित कर ली है। विकास का लेखा – जोखा अब गानों के द्वारा सुना और समझा जा रहा है। धुन और बोल लुभावने होने के कारण आसानी से जुबान पर चढ़ जाते हैं। मुद्दे से भटकते लोग मनोरंजन में ही सच्चा सुख ढूंढ कर पाँच वर्ष किसी को भी आसानी से देने को तैयार देते हुए दिखाई देते हैं। होगा क्या ये तो परिवार व समाज के लोग तय करते हैं पर मीडिया जरूर भ्रमित हो जाता है। जिसको देखो वही माइक और कैमरा लेकर छोटे – छोटे वीडियो बनाकर पोस्ट करता जा रहा है। 

इन सबसे बेखबर कुर्सी, अपने आगंतुकों के इंतजार में पलक पाँवड़े बिछाए हुए नेता जी को ढूंढ रही है। वो भी ये चाहती है कि जो भी आए वो स्थायी हो, मेरा मान रखे। गठबंधन को निभाने की क्षमता रखता हो। उसकी अपील जनमानस से यही है कि सोच समझ कर ही ये गद्दी किसी को सौंपना। यही नीतियों के निर्धारक हैं; यही तुम्हारे दुःख दर्द के हर्ता हैं; यही राष्ट्रभक्त हैं जो भारत माता के सच्चे सपूत बनकर अमृत महोत्सव को साकार कर सकते हैं।

कुर्सी के मौन स्वरों को जनमानस को ही सुनना व समझना होगा क्योंकि आम जनता सब कुछ समझने का माद्दा रखती है। किसे आगे बढ़ाना है, किसे वापस बुलाना है, ये जिम्मेदारी संविधान ने उन्हें  दी है। जाति धर्म का क्या है ? ये कुर्सी तो सबसे ऊपर केवल राष्ट्र की है, जो देश का, वही जनता का और वही सच्चा हकदार इस पर विराजित होकर जन सेवा करने का।

©  श्रीमती छाया सक्सेना ‘प्रभु’

माँ नर्मदे नगर, म.न. -12, फेज- 1, बिलहरी, जबलपुर ( म. प्र.) 482020

मो. 7024285788, chhayasaxena2508@gmail.com

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

image_print
0 0 votes
Article Rating

Please share your Post !

Shares
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments