image_print

संस्थाएं / Organisations – ☆ हैल्पिंग हेण्ड्स – फॉरएवर वेल्फेयर सोसायटी ☆ – डॉ. विजय तिवारी ‘किसलय’

 ☆ हैल्पिंग हेण्ड्स – फॉरएवर वेल्फेयर सोसायटी ☆  डॉ. विजय तिवारी 'किसलय' (www.e-abhivyakti.com की ओर से मानव कल्याण एवं समाज सेवा के लिए निःस्वार्थ भाव से समर्पित संस्था "हेल्पिंग हेण्ड्स फॉरएवर वेलफेयर सोसायटी" के सदस्यों का उनके चतुर्थ स्थापना दिवस के अवसर पर हार्दिक अभिनंदन।   इस विशेष अवसर  पर  कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. विजय तिवारी 'किसलय' जी के आख्यान को उद्धृत करने में प्रसन्नता का अनुभव कर रहे हैं।)     हेल्पिंग हेण्ड्स फॉरएवर वेलफेयर सोसायटी का आज हम सभी चतुर्थ स्थापना दिवस मनाने हेतु आत्मीय एवं पारिवारिक रूप से एकत्र हुए हैं। आप सभी को हृदयतल से बधाई। संस्था "यथा नाम तथा गुणो" का पर्याय है। 'हेल्पिंग हैंड्स' अर्थात 'मददगार हाथ' आज प्राणपण से समाजसेवा में अहर्निश तत्पर हैं। यह सब मैं संस्था से जुड़कर देख पा रहा हूँ। मैं आज केवल संस्था के उद्देश्य "परोपकारी भाव" से संबंधित अपने विचार आप सब के साथ बाँटना चाहता हूँ। उपस्थित विद्वतजनों से 5 मिनट शांति एवं ध्यान चाहूँगा। महापुण्य उपकार है, महापाप अपकार। स्वार्थ के दायरे से निकलकर व्यक्ति जब...
Read More

संस्थाएं – व्यंग्यम (व्यंग्य विधा पर आधारित व्यंग्य पत्रिका/संस्था), जबलपुर

संस्थाएं - व्यंग्यम (व्यंग्य विधा पर आधारित व्यंग्य पत्रिका/संस्था), जबलपुर   विगत दिवस साहित्यिक संस्था व्यंग्यम द्वारा आयोजित 23वीं व्यंग्य पाठ गोष्ठी में सभी ने परम्परानुसार अपनी नई रचनाओं का पाठ किया.  इस संस्था की प्रारम्भ से ही यह परिपाटी रही है कि प्रत्येक गोष्ठी में व्यंग्यकर सदस्य को अपनी नवीनतम व्यंग्य रचना का पाठ करना पड़ता है । इसी संदर्भ में इस व्यंग्य पाठ गोष्ठी में सर्वप्रथम जय प्रकाश पांडे जी ने 'सांप कौन मारेगा,  यशवर्धन पाठक ने  'दादाजी के स्मृति चिन्ह', बसंत कुमार शर्मा जी ने 'अंधे हो क्या', राकेश सोहम जी ने 'खा खाकर सोने की अदा', अनामिका तिवारीजी ने 'हम आह भी भरते हैं',  रमाकांत ताम्रकार जी ने 'मनभावन राजनीति बनाम बिजनेस', ओ पी सैनी ने 'प्रजातंत्र का स्वरूप', विवेक रंजन श्रीवास्तव ने 'अविश्वासं फलमं दायकमं', अभिमन्यु जैन जी ने 'आशीर्वाद', सुरेश विचित्रजी ने 'शहर का कुत्ता', रमेश सैनी जी ने 'जीडीपी और दद्दू', डा. कुंदनसिंह परिहार जी ने 'साहित्यिक लेखक की पीड़ा' व्यंग्य रचनाओं का पाठ...
Read More
image_print