image_print

डॉ. ऋचा शर्मा

(डॉ. ऋचा शर्मा जी को लघुकथा रचना की विधा विरासत में  अवश्य मिली है  किन्तु ,उन्होंने इस विधा को पल्लवित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी । उनकी लघुकथाएं और उनके पात्र हमारे आस पास से ही लिए गए होते हैं , जिन्हें वे वास्तविकता के धरातल पर उतार देने की क्षमता रखती हैं। आप ई-अभिव्यक्ति में  प्रत्येक गुरुवार को उनकी उत्कृष्ट रचनाएँ पढ़ सकेंगे। आज प्रस्तुत है  वर्तमान परिस्थितयों में ह्रदय कठोर कर निर्णय लेने के लिए प्रेरित करती लघुकथा नॉट रिचेबलडॉ ऋचा शर्मा जी की लेखनी को इस संवेदनशील एवं विचारणीय लघुकथा रचने के लिए सादर नमन।)

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – संवाद  # 71 ☆

☆ लघुकथा – नॉट रिचेबल ☆

पत्नी का देहांत हुए महीना भर ही हुआ था । घर में बडा अकेलापन महसूस कर रहे थे । बेटा – बहू , बच्चे अपना – अपना लैपटॉप लेकर कमरों में बंद हो जाते थे । घर खाने को दौड रहा था । पत्नी के जाते ही हाथ- पाँव जैसे कट से गए थे , कुछ सूझ ही नहीं रहा था । अब समझ में आ रहा है कि बेटे बहू की बातें भी वह अपने तक ही रखती थी । समय रहते कद्र नहीं समझी मैंने उसकी , गुमसुम बैठ सोच रहे थे । तभी बेटा आकर बोला – पापा ! एक बात करनी थी आपसे । असल में ऑनलाइन क्लास के लिए सबको अलग कमरा चाहिए । मम्मी रही नहीं तो अब —– वे चश्मा उतारकर उसे देखने लगे – तो ?

क्या है सुमन आपके साथ कम्फर्टेबिल फील नहीं करती ।

गैरेज के पास जो कमरा है आप उसमें रह लेंगे क्या ?

हाँ — उन्होंने गहरी साँस ली । अगले दिन वे फ्लाईट्स के चार टिकट ले आए । बहू से बोले – बेटी! बहुत दिनों से तुम लोग कहीं घूमने नहीं गए हो । मैंने केरल में होटल की बुकिंग करवा दी है, खर्चे की चिंता मत करना । बच्चों की ऑनलाइन क्लासेस हैं और तुम दोनों का काम भी घर से ही हो रहा है तो तुम्हें कोई परेशानी नहीं होगी । सब खुश हो गए । बेटा भौचक्का था , बोला – पापा आप नाराज नहीं हैं ना मुझसे ? मुझे लगा था कि —

अरे ! अपने बच्चों से भी कोई नाराज होता है – वे मुस्कुराकर बोले ।

बेटे – बहू के जाने के बाद दूसरे दिन ही मकान के खरीददार आ गए । अपना बंगला बेचकर वे वन बेडरूम के छोटे फ्लैट में शिफ्ट हो गए । बेटा घूमकर लौटा तो वॉचमैन ने बेटे को एक पत्र दिया जिसमें बेटे के किराए के फ्लैट का पता लिखा हुआ था । पिता का फोन नॉट रिचेबल बता रहा था ।

© डॉ. ऋचा शर्मा

अध्यक्ष – हिंदी विभाग, अहमदनगर कॉलेज, अहमदनगर.

122/1 अ, सुखकर्ता कॉलोनी, (रेलवे ब्रिज के पास) कायनेटिक चौक, अहमदनगर (महा.) – 414005

e-mail – richasharma1168@gmail.com  मोबाईल – 09370288414.

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

image_print
5 1 vote
Article Rating

Please share your Post !

Shares
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments