image_print

जीवन यात्रा – श्री संजय भारद्वाज, हिंदी आंदोलन परिवार ☆ (30 सितम्बर 2019 -2020 रजत जयंती वर्ष) ☆

 ☆ जीवन यात्रा – श्री संजय भारद्वाज, हिंदी आंदोलन परिवार ☆ (प्रसिद्ध साहित्यिक-सामाजिक-सांस्कृतिक संस्था हिंदी आंदोलन परिवार 30 सितम्बर 2019 को रजत जयंती वर्ष में प्रवेश कर रही है। ई-अभिव्यक्ति  की ओर से इस सफल यात्रा के लिए हार्दिक शुभकामनाएं .  इस अवसर पर संस्था के संस्थापक अध्यक्ष  श्री संजय भारद्वाज  जी से  सुश्री वीनु जमुआर जी की बातचीत) वीनु जमुआर- सर्वप्रथम हिंदी आंदोलन परिवार के रजत जयंती वर्ष में कदम रखने के उपलक्ष्य में अशेष बधाइयाँ और अभिनंदन। अब तक की अनवरत यात्रा से  देश भर में चर्चित नाम बन चुका है हिंआप। हिंआप की स्थापना की पृष्ठभूमि पर प्रकाश डालिए। इसकी स्थापना का बीज कब और कैसे बोया गया? संजय भारद्वाज- हिंआप का बीज इसकी स्थापना के लगभग सोलह वर्ष पूर्व 1979 के आसपास ही बोया गया था। हुआ यूँ कि मैं नौवीं कक्षा में पढ़ता था। बाल कटाने के लिए एक दुकान पर अपनी बारी आने की प्रतीक्षा कर रहा था। प्रतीक्षारत ग्राहकों के लिए कुछ पत्रिकाएँ रखी थीं जिनमें...
Read More

जीवन-यात्रा- सुश्री निशा नंदिनी भारतीय

सुश्री निशा नंदिनी भारतीय    (सुदूर उत्तर -पूर्व  भारत की  वरिष्ठ एवं प्रख्यात  लेखिका/कवियित्री सुश्री निशा नंदिनी  भारतीय जी साहित्य ही नहीं  अपितु समाज सेवा में भी लीन हैं. हमें गर्व है कि आप ई-अभिव्यक्ति  की एक सम्माननीय लेखिका हैं.   इस साक्षात्कार  के माध्यम से आपने अपने जीवन  की  महत्वपूर्ण  साहित्यिक उपलब्धियां  एवं साहित्यिक तथा सामाजिक जीवन पर विस्तृत चर्चा की है. आपकी जीवन यात्रा निश्चित ही नवोदितों के लिए प्रेरणास्पद है. सुश्री  निशा नंदिनी  जी  का इस साक्षात्कार के लिए आभार. )   ☆ जीवन यात्रा - सुश्री निशा नंदिनी भारतीय ☆   १. आपकी पारिवारिक पृष्ठभूमि एवं शिक्षण ? जी, मेरा जन्म रामपुर उत्तर प्रदेश में 1962 में हुआ। मेरे पिता रामपुर शुगर मिल में चीफ इंजीनियर थे। विद्या मंदिर गर्ल्स इंटर कॉलेज द्वारा इलाहाबाद बोर्ड से दसवीं और बारहवीं की परीक्षा प्रथम श्रेणी में पास की। इसके बाद रुहेलखंड विश्व विद्यालय बरेली से बी.ए प्रथम श्रेणी में तथा  एम.ए हिन्दी में प्रथम श्रेणी में पास किया। 21 वर्ष की आयु में (बी. एड) के...
Read More

जीवन-यात्रा- ☆ सुश्री मीनाक्षी भालेराव (पृथा फाउंडेशन, पुणे) ☆

सुश्री मीनाक्षी भालेराव  (ई-अभिव्यक्ति हेतु सुश्री मीनक्षी भालेराव जी के साक्षात्कार पर आधारित आलेख)   ☆ जीवन यात्रा – सुश्री मीनाक्षी भालेराव (साहित्यकार, समाज-सेविका एवं मॉडल) ☆   सुश्री मीनाक्षी भालेराव एक प्रसिद्ध कवयित्री तो हैं ही, इसके अतिरिक्त वे साहित्य, कला, संस्कृति के क्षेत्र में सेवाएँ देने के लिए सदैव तत्पर रहती हैं। गुमनामी में दफन होने से अच्छा है जरूरत मंदों के दिलों में जिन्दा रहें। लोगों की कला को नई पहचान देना और उनका सम्मान करना तथा  सब के साथ सादगी से पेश आना, लोगों के दिलों को जीतना उनकी फि़तरत है और सदैव मुस्कराते रहना उनकी आदतl अपनी सादगी एवं सद्कार्यों के कारण वे समाज में सम्माननीय हैं। उनके अनुसार अपने अन्दर के इंसान को जीवित रखना बहुत जरूरी है। उनके ही शब्दों में – हर एक इन्सान में, एक इन्सान और रहता है, जो बचाना चाहता है, अपने इन्सान होने को विगत २८ वर्षों से उन्होने आपने आपको साहित्य, कला और समाज सेवा में स्वयं को समर्पित कर दिया है। हर किसी की परेशानी को...
Read More

जीवन-यात्रा – ☆ ‘पूर्ण विनाशक’ तक की जीवन यात्रा ☆ श्री आशीष कुमार

श्री आशीष कुमार   (युवा साहित्यकार श्री आशीष कुमार ने जीवन में  साहित्यिक यात्रा के साथ एक लंबी उतार चढ़ाव भरी रहस्यमयी  जीवन यात्रा तय की है। उन्होंने भारतीय दर्शन से परे हिंदू दर्शन, विज्ञान और भौतिक क्षेत्रों से परे सफलता की खोज और उस पर गहन शोध किया है।  उनके साहित्य पर उनके जीवन का प्रभाव  स्पष्ट दिखाई पड़ता है।  श्री आशीष कुमार की शीघ्र प्रकाश्य पुस्तक  'पूर्ण विनाशक'  पढ़ने के पूर्व  एक बार उनकी जीवन यात्रा  अवश्य पढ़ें। श्री आशीष जी की जीवन यात्रा किसी रहस्यमय  उपन्यासिका से कम नहीं है। )   मेरा जन्म 18 सितंबर 1980 को एक छोटे पवित्र शहर हरिद्वार के मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था । एक परिवार में, जो जानता है कि जीवन का अर्थ है दूसरों की मदद करना और जितना हो सके उतना सरल जीवन जीना । मेरे पिता ने PSU, BHEL में काम किया । मैंने अपनी बुनियादी शिक्षा पब्लिक स्कूलों से की, जिनकी मासिक फीस 10 रुपये के आसपास होती थी...
Read More

जीवन-यात्रा- आचार्य संजीव वर्मा ‘सलिल’

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' आचार्य संजीव वर्मा ‘सलिल’ जी  से अंतरजाल  पर एक संक्षिप्त वार्ता। आपके जीवन का सर्वाधिक स्मरणीय क्षण : बुआ श्री महीयसी महादेवी वर्मा तथा माँ कवयित्री शांतिदेवी वर्मा के पाँव दबाना. आपके जीवन का कठिनतम : अभी आना शेष है. आपकी ताकत :  पत्नी और परमात्मा आपकी कमजोरी : काम क्रोध मद लोभ भय आत्मकथ्य :   पुस्तकें- कलम के देव, लोकतंत्र का मकबरा, मीत मेरे, भूकंप के साथ जीना सीखें, समय्जयी साहित्यकार भगवत प्रसाद मिश्रा 'नियाज़', काल है संक्रांति का, सड़क पर आदि . संपादन ८ पुस्तकें ६ पत्रिकाएँ अनेक संकलन. आपका कार्य-जीवनशैली का सामंजस्य : सभी कामना छोड़कर, करता चल तू कर्म / यही लोक-परलोक है, यही धर्म का मर्म समाज को आपका सकारात्मक संदेश : खुश रहो, खुश रखो  ...
Read More

जीवन-यात्रा – श्री दीपक तिवारी “दिव्य”

दीपक तिवारी “दिव्य” (जीवन में प्रत्येक मनुष्य को अपनी जीवन यात्रा नियत समय पर नियत पथ पर चल कर पूर्ण करनी होती है।  किसी का जीवन पथ सीधा सादा सरल होता है तो किसी का कठिन संघर्षमय । मैं  श्री  दीपक तिवारी "दिव्य" जी  के  उतार चढ़ाव से भरी  संघर्षमय जीवन -यात्रा आपसे साझा करना चाहूँगा।  मेरा मानना है  कि प्रत्येक व्यक्ति अपनी जीवन-यात्रा  में  दो जीवन जीता है। एक व्यक्तिगत (Personal) और दूसरा व्यावसायिक (Professional)।  हमें उसके जीवन के दोनों पक्षों का सम्मान करना चाहिए।  जिंदगी  किसी  एक मोड पर रुक नहीं जाती, वह सतत चलती रहती है।  हम उनके उज्ज्वल भविष्य की  कामना  करते हैं । प्रस्तुत है श्री दीपक जी की संघर्षमय यात्रा उनकी ही कलम से।)   जन्म: 17/03/1978 जन्म स्थान: ग्राम भौंरा, तहसील-शाहपुर, जिला-बैतूल, मध्य प्रदेश, शिक्षा:  बी.एससी.(पी.सी.एम) आटोनामस साइंस कालेज जबलपुर। प्रारंभिक-महात्मा गांधी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भौंरा जिला बैतूल और बीएससी प्रथम वर्ष की शिक्षा जयवंती हाक्सर महाविद्यालय बैतूल। पिता: श्री अलोपी शंकर तिवारी (रिटायर डिप्टी रेंजर मध्य प्रदेश वन विकास निगम) माता: श्रीमति ज्योति...
Read More

जीवन-यात्रा- डॉ गंगाप्रसाद शर्मा ‘गुणशेखर’

डॉ. गंगाप्रसाद शर्मा 'गुणशेखर'           (श्रद्धेय डॉ गंगाप्रसाद शर्मा ‘गुणशेखर’ जी का मैं अत्यन्त आभारी हूँ, जिन्होने मुझे प्रोत्साहित किया और मेरे विशेष अनुरोध पर अपनी जीवन-यात्रा के कठिन क्षणों को बड़े ही बेबाक तरीके से साझा किया, जिसे साझा करने के लिए जीवन के उच्चतम शिखर पर पहुँचने के बाद अपने कठिनतम क्षणों को साझा करने का साहस हर कोई नहीं कर पाते। मैं प्रस्तुत कर रहा हूँ, जमीन से जुड़े डॉ गुणशेखर जी का हृदय से सम्मान करते हुए उनकी जीवन यात्रा उनकी ही कलम से।) जन्म: 01-11-1962 अभिरुचि:  लेखन मेरी पसन्द : अपने बारे में ज़्यादा प्रचार-प्रसार न तो मुझे पसंद है और न उचित ही है। संप्रति: पूर्व प्रोफेसर (हिन्दी) क्वाङ्ग्तोंग वैदेशिक अध्ययन विश्वविद्यालय परिचय: (मैंने ऊपर 'मैं और मेरी पसंद' में बता दिया है कि अपने बारे में ज़्यादा प्रचार-प्रसार न तो मुझे पसंद है और न उचित ही है। ) इसके बावज़ूद अगर लिखना ही हो तो मैं कहूँगा कि मेरी ज़िंदगी  में कई ऐसे मोड़   आए जहाँ से लौटने  के अलावा कोई...
Read More

जीवन-यात्रा-सुश्री मालती मिश्रा

मालती मिश्रा           (जीवन में प्रत्येक मनुष्य को अपनी जीवन यात्रा नियत समय पर नियत पथ पर चल कर पूर्ण करनी होती है।  किसी का जीवन पथ सीधा सादा सरल होता है तो किसी का कठिन संघर्षमय । मैं "नारी शक्ति"का सम्मान करते हुए शेयर करना चाहूँगा, एक युवती की जीवन यात्रा, जिसने एक सामान्य परिवार में जन्म लेकर बचपन से संघर्ष  करते हुए एक अध्यापिका, ब्लॉगर/लेखिका तक का सफर पूर्ण किया। शेष सफर जारी है।  जब हम पलट कर अपनी जीवन यात्रा का स्मरण करते हैं, तो कई क्षणों को भुला पाना अत्यन्त कठिन लगता है और उससे कठिन उस यात्रा को शेयर करना। प्रस्तुत है सुश्री मालती मिश्रा जी की जीवन यात्रा उनकी ही कलम से।)      साहित्यिक नाम- 'मयंती' जन्म :  30-10-1977 संप्रति : शिक्षण एवं  स्वतंत्र लेखन जीवन यात्रा :  मेरा नाम मालती मिश्रा है।  मेरे पिताजी एक कृषक हैं और ग्राम देवरी बस्ती जिला, जो कि अब सन्त कबीर नगर में आता है के निवासी हैं। एफ०सी०आई० विभाग में कार्यरत होने के कारण पहले कानपुर...
Read More

जीवन यात्रा -डॉ  सुरेश कुशवाहा ‘तन्मय’

डॉ  सुरेश कुशवाहा 'तन्मय'           आज मैं आपको एक अत्यन्त साधारण एवं मिलनसार व्यक्तित्व के धनी  मेरे अग्रज एवं वरिष्ठ साहित्यकार डॉ सुरेश कुशवाहा जी से उनके ही शब्दों के माध्यम से मिलवाना चाहता हूँ। उनका परिचय या आत्मकथ्य उनके ही शब्दों मेँ -     अन्तस में जीवन के अनसुलझे, सवाल कुछ पड़े हुये हैं बाहर निकल न पाये, सहज भाव के ताले जड़े हुये हैं।   फिर भी इधर-उधर से कुछ अक्षर बाहर आ जाते हैं, कविताओं में परिवर्तित, हम जंग स्वयं से लड़े हुये हैं।   अनुभव चिन्तन मनन, रोजमर्रा की आपाधापी में अक्षर बन जाते विचार, मन की इस खाली कॉपी में,   कई विसंगत बातें, आसपास धुंधुवाती रहती है, तेल दीये का बन जलते, संग जलने वाली बाती में।   अ आ ई से क ख ग तक, बस इतना है ज्ञान मुझे कवि होने का मन में आया नहीं कभी अभिमान मुझे   मैं जग में हूं जग मुझमें है, मुझमें कई समस्याएं हैं, इन्हीं समस्याओं पर लिखना, इतना सा है भान मुझे।   अगर आपको लगे, अरे! ये तो मेरे मन की बातें हैं या फिर पढ़कर अच्छे बुरे विचार ह्रदय में जो आते हैं,   हो निष्पक्ष सलाह आपकी, भेजें मेरे पथ दर्शक...
Read More

जीवन-यात्रा-पं. आयुष कृष्ण नयन – श्री दिनेश नौटियाल

पं॰ आयुष कृष्ण नयन मुझे उन लोगों के जीवन वृत्तान्त सदैव ही विस्मित करते रहे हैं, जिन्होने लीक से हट कर कुछ नया किया है। आज मैं जिस अभिव्यक्ति के स्वरूप एवं व्यक्तित्व की चर्चा करने जा रहा हूँ वह है “कथा वाचन”। यहाँ मैं आपसे  साझा कर रहा हूँ जानकारी, एक साधारण गाँव  के एक विलक्षण प्रतिभा के  धनी बालक की  जो  मात्र   10 वर्ष की आयु से श्रीमदभागवत, रामायण, महाभारत, शिवपुराण आदि ग्रन्थों का कथावाचक है। वह श्लोकों की संदर्भ सहित व्याख्या करने की क्षमता रखता है, तो निःसन्देह कोई इसे चमत्कार की संज्ञा देगा और कोई ईश्वर की अनुकम्पा या गॉड गिफ्ट कहेगा। मैं अध्ययन करने की इस वैज्ञानिक/मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया को उस विलक्षण प्रतिभा के धनी बालक की निर्मल हृदय से धार्मिक एवं आध्यात्मिक ज्ञानार्जन की भावना, अन्तर्मन की एकाग्रता से कुछ सीखने का प्रयास, ईश्वर के प्रति समर्पण, परिवार के संस्कार के अतिरिक्त ईश्वर के आशीर्वाद को नकार नहीं सकता।  (पं॰ आयुष कृष्ण नयन जी का जीवन वृत्तान्त उनके पिता...
Read More
image_print