image_print

संस्थाएं – व्यंग्यम (व्यंग्य विधा पर आधारित व्यंग्य पत्रिका/संस्था), जबलपुर

संस्थाएं - व्यंग्यम (व्यंग्य विधा पर आधारित व्यंग्य पत्रिका/संस्था), जबलपुर   विगत दिवस साहित्यिक संस्था व्यंग्यम द्वारा आयोजित 23वीं व्यंग्य पाठ गोष्ठी में सभी ने परम्परानुसार अपनी नई रचनाओं का पाठ किया.  इस संस्था की प्रारम्भ से ही यह परिपाटी रही है कि प्रत्येक गोष्ठी में व्यंग्यकर सदस्य को अपनी नवीनतम व्यंग्य रचना का पाठ करना पड़ता है । इसी संदर्भ में इस व्यंग्य पाठ गोष्ठी में सर्वप्रथम जय प्रकाश पांडे जी ने 'सांप कौन मारेगा,  यशवर्धन पाठक ने  'दादाजी के स्मृति चिन्ह', बसंत कुमार शर्मा जी ने 'अंधे हो क्या', राकेश सोहम जी ने 'खा खाकर सोने की अदा', अनामिका तिवारीजी ने 'हम आह भी भरते हैं',  रमाकांत ताम्रकार जी ने 'मनभावन राजनीति बनाम बिजनेस', ओ पी सैनी ने 'प्रजातंत्र का स्वरूप', विवेक रंजन श्रीवास्तव ने 'अविश्वासं फलमं दायकमं', अभिमन्यु जैन जी ने 'आशीर्वाद', सुरेश विचित्रजी ने 'शहर का कुत्ता', रमेश सैनी जी ने 'जीडीपी और दद्दू', डा. कुंदनसिंह परिहार जी ने 'साहित्यिक लेखक की पीड़ा' व्यंग्य रचनाओं का पाठ...
Read More

हिन्दी साहित्य- व्यंग्य – ☆ नेताजी लौट कर घर आए ☆ – श्री रमेश सैनी

श्री रमेश सैनी ☆ नेताजी लौट कर घर आए ☆ (प्रस्तुत है सुप्रसिद्ध लेखक/व्यंग्यकार श्री रमेश सैनी जी का  व्यंग्य – “नेताजी लौट कर घर आए”।) नेताजी वापिस घर आ गए, उनको वापिस आना ही था। यह पहले से तय था, नहीं वे तय कर के गये थे कि वे वापिस आएंगे। नेताजी जाते ही हैं वापिस आने के लिए। उनसे अपना खूंटा छोड़कर जाया नहीं जाता, वे जाते हैं, लाभ के लिए और वापिस आते हैं लाभ के लिए। लाभ उनके जीवन का मर्म है और यह मर्म उन्होंने जल्दी समझ लिया था। अतः नेताजी इस कार्य में कभी गलती नहीं करते हैं। वे जाते हैं, अर्थात् भागते हैं, बाहरी दीन-दुनिया की खबर लेते हैं, अनेक प्रकार के व्यंजनों का रसास्वाद लेते हैं, थोड़ा बहुत ठोकर खाते हैं, भागते-भागते भी अनेक ठौर बदल लेते हैं। वे कभी ध्यानस्थ भी हो जाते हैं। जब वे ध्यान की स्थिति में होते हैं, तब नेताजी के चेला-चपाटी कहते हैं - जीवन के मर्म का संधान करने हेतु भजन कर रहे...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ अविश्वासं फलम् दायकम् ☆ – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ☆ अविश्वासं फलम् दायकम् ☆ (प्रस्तुत है श्री विवेक  रंजन  श्रीवास्तव जी  का  सटीक एवं सार्थक व्यंग्य। )   विश्वास बनाये रखने को कहते हैं.  "विश्वासं फलम् दायकम्"  ढ़ाढ़स बंधाने के काम आता है. भक्त बाबा जी के वचनो पर मगन झूमता रहता है.  सदियो से "विश्वासं फलम् दायकम्" का मंत्र फलीभूत भी होता रहा है . अपना सब कुछ , घरबार छोड़कर नवविवाहिता नितांत नये परिवार में इसी विश्वास की ताकत से ही चली आती है और सफलता पूर्वक नई गृहस्थी बसा कर उसकी स्वामिनी बन जाती है. भरोसे से ही सारा व्यापार चलता है. पर जब मैं नौकरी के संदर्भ में देखता हूं, योजनाओ की जानकारियो के ढ़ेर सारे फार्मेट देखता हूं और टारगेट्स की प्रोग्रेस रिपोर्ट का एनालिसिस करते अधिकारियो की मीटिंगो में हिस्सेदारी करता हूं तो मुझे लगता है कि इनका आधारभूत सिद्धांत ही  अविश्वासं फलम् दायकम् होता है. किसी को किसी के कहे पर कोई भरोसा ही नही होता , स्मार्टफोन के इस जमाने में हर कोई फोटो...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆पकौड़ा डॉट कॉम ☆– श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ☆पकौड़ा डॉट कॉम ☆ (प्रस्तुत है श्री विवेक  रंजन  श्रीवास्तव जी  का  सटीक एवं सार्थक व्यंग्य। श्री विवेक जी ने जीभ से लेकर पेट तक और राजनीतिक पकौड़ों से लेकर ऑन लाइन तक कुछ भी नहीं छोड़ा। विवेक जी को ही नहीं मुझे भी भरोसा है कि कोई न कोई तो पकौड़ा डॉट कॉम पर काम कर ही रहा होगा जिसकी फ्रेंचाईजी विदेशों से लेकर हमारे घर के आस पास खुलेगी।)  पकौड़े विशुद्ध देसी  फास्ट फूड है. राजनीति ने पकौड़ो को  रोजगार से जोड़कर चर्चा में ला दिया है. मुझे भरोसा है जल्दी ही कोई स्टार्ट अप पकौड़ा डाट काम नाम से शुरू हो जायेगा. जो घर बैठे आनलाइन आर्डर पर पकौड़े उपलब्ध कराने की विशेषता लिये हुये होगा. वैसे दुनियां भर में खाने खिलाने का कारोबार सबसे सफल है. बच्चे का जन्म हो, तो दावत्, लोग इकट्ठे होते हैं, छक कर जीमतें हैं। बच्चे की वर्षगांठ हो, तो लोग इकट्ठे होते हैं- आशीष देते हैं-  खाते हैं, खुशी मनाते हैं....
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य ☆ मॉम है कि मानती नहीं ☆ श्री शांतिलाल जैन 

श्री शांतिलाल जैन  ☆ मॉम है कि मानती नहीं ☆ (प्रस्तुत है श्री शांतिलाल जैन जी का आधुनिक समाज को आईना दिखाता हुआ एक सटीक, सार्थक एवं सामयिक व्यंग्य।) माय मॉम इज द बेस्ट मॉम. उन्होंने मुझे कभी रोने नहीं दिया. आया-माँ बताती हैं कि जब मैं अबोध शिशु था, तभी से, जब जब रोने लगता मॉम यूट्यूब पर ‘लकड़ी की काठी’  लगाकर फ़ोन थमा देतीं. ऊंगली पकड़कर चलना सिखाने की उम्र में मॉम ने मुझे मोबाइल चलाना सिखा दिया था. मॉम का दूसरावाला स्मार्टफ़ोन मुझे हमेशा थप्पड़ खाने से बचाता. होता ये मैं मॉम से कुछ न कुछ पूछने की भूल कर बैठता. एक बार मैं जोर का थप्पड़ खाते खाते बचा जब मैंने पूछा  - “मॉम ये सन ईस्ट से ही क्यों राइज करता है?” “आस्क योर डैड” “मॉम होली पर कलर क्यों लगाते हैं ?” “आय डोंट नो.” “मॉम, सम्स करके ले जाने हैं कल.” “अभी मिस आएगी तेरी, ट्यूशन वाली, कराएगी.” “मॉम प्लीज. आप कराओ ना.” “जान मत खा मेरी.” मन किया था मॉम का कि एक...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य ☆ सवाल एक – जवाब अनेक – 5 ☆ श्री जय प्रकाश पाण्डेय

श्री जय प्रकाश पाण्डेय         “सवाल एक – जवाब अनेक (5)” (श्री जयप्रकाश पाण्डेय जी के एक प्रश्न का  विभिन्न  लेखकों के द्वारा  दिये गए विभिन्न उत्तरआपके ज्ञान चक्षु  तो अवश्य ही खोल  देंगे।  तो प्रस्तुत है यह प्रश्नोत्तरों की श्रंखला।   वर्तमान समय में ठकाठक दौड़ता समाज घोड़े की रफ्तार से किस दिशा में जा रहा, सामूहिक द्वेष और  स्पर्द्धा को उभारकर राजनीति, समाज में बड़ी उथल पुथल मचा रही है। ऐसी अनेक बातों को लेकर हम सबके मन में चिंताएं चला करतीं हैं। ये चिंताएं हमारे भीतर जमा होती रहतीं हैं। संचित होते होते ये चिंताएं क्लेश उपजाती हैं, हर कोई इन चिंताओं के बोझ से त्रास पाता है ऐसे समय लेखक त्रास से मुक्ति की युक्ति बता सकता है। एक सवाल के मार्फत देश भर के यशस्वी लेखकों की राय पढें इस श्रृंखला में……… तो फिर देर किस बात की जानिए वह एकमात्र प्रश्न  और उसके अनेक उत्तर।  प्रस्तुत है  पांचवा उत्तर  जबलपुर के  प्रसिद्ध व्यंग्यकार श्री  राकेश सोहम जी की ओर से ...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – ☆ पार्टियों में कोहराम ☆ – डॉ कुन्दन सिंह परिहार

डॉ कुन्दन सिंह परिहार ☆ पार्टियों में कोहराम ☆ (लोकतन्त्र के महापर्व पर डॉ  कुन्दन सिंह परिहार जी का एक  सामयिक एवं सटीक व्यंग्य।)     पार्टियों में इस वक्त भगदड़ का आलम है।सब तरफ बदहवासी है।बात यह हुई कि एक पार्टी ने जन-जन की प्यारी, दर्शकों की आँखों की उजियारी, परम लोकप्रिय ठुमका-क्वीन और जन-जन के प्यारे, दर्शकों के दुलारे झटका -किंग को फटाफट पार्टी में शामिल करके लगे-हाथ चुनाव का टिकट भी पकड़ा दिया है।चुनाव का टिकट एकदम ठुमका-क्वीन और झटका-किंग की पसंद का दिया गया है ताकि उन्हें जीतने में कोई दिक्कत न हो।तबसे उनके क्षेत्र के उनके भक्त टकटकी लगाए बैठे हैं कि कब भोटिंग हो और वे अपने दुलारे कलाकारों की सेवा में अपने भोट समर्पित करें। विरोधी पार्टियों वाले बदहवास दौड़ रहे हैं। लगता है जैसे कोई बम फूट गया है। बुदबुदा रहे हैं-----'दिस इज़ अनफ़ेयर। हिटिंग बिलो द बेल्ट।हाउ कैन दे डू इट?' विरोधी पार्टियों के वे उम्मीदवार परेशान हैं जो ठुमका-क्वीन और झटका-किंग के चुनाव-क्षेत्र से खड़े होने वाले...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य ☆सांप कौन मारेगा? ☆ श्री जय प्रकाश पाण्डेय

श्री जय प्रकाश पाण्डेय           ☆ सांप कौन मारेगा ?☆ (श्री जयप्रकाश पाण्डेय जी  ने बड़ी  दुविधा में डाल दिया।  एक तो "बिल्ली के गले में घंटी कौन बाँधेगा?" इस मुहावरे से परेशान थे  और  अब पाण्डेय जी  ने ये मुहावरा  कि "साँप  कौन मारेगा?" बता कर डरा  दिया।  यहाँ तो कई लोगों की जान पर आ पड़ी है। लो, अब आप ही तय करो कि साँप कौन मारेगा?" विक्रम और बेताल पहले जैसे अब नहीं रहे। जमाना बदला तो जमाने के साथ वे दोनों बदल गए। झूठ झटके का सहारा लेकर एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाते रहते। बात बात में चौकीदार और चोर पर बहस करने लगते। चौकीदार की गलती से एक बैंक में सांप घुस गया। चौकीदार गेट पर बैठकर ऊंघता रहा और एक छै - सात फुट का जहरीला काला नाग धीरे से बैंक के अंदर घुस गया। हडकंम्प मच गया। उसी समय बैंक के बाहर से विक्रम और बेताल गुजर रहे थे। भगदड़ मची हुई थी तभी विक्रम ने...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – सवाल एक – जवाब अनेक – 4 – श्री जय प्रकाश पाण्डेय

श्री जय प्रकाश पाण्डेय           “सवाल एक –  जवाब अनेक (4)” (श्री जयप्रकाश पाण्डेय जी के एक प्रश्न का  विभिन्न  लेखकों के द्वारा  दिये गए विभिन्न उत्तरआपके ज्ञान चक्षु  तो अवश्य ही खोल  देंगे।  तो प्रस्तुत है यह प्रश्नोत्तरों की श्रंखला।   वर्तमान समय में ठकाठक दौड़ता समाज घोड़े की रफ्तार से किस दिशा में जा रहा, सामूहिक द्वेष और  स्पर्द्धा को उभारकर राजनीति, समाज में बड़ी उथल पुथल मचा रही है। ऐसी अनेक बातों को लेकर हम सबके मन में चिंताएं चला करतीं हैं। ये चिंताएं हमारे भीतर जमा होती रहतीं हैं। संचित होते होते ये चिंताएं क्लेश उपजाती हैं, हर कोई इन चिंताओं के बोझ से त्रास पाता है ऐसे समय लेखक त्रास से मुक्ति की युक्ति बता सकता है। एक सवाल के मार्फत देश भर के यशस्वी लेखकों की राय पढें इस श्रृंखला में……… तो फिर देर किस बात की जानिए वह एकमात्र प्रश्न  और उसके अनेक उत्तर।  प्रस्तुत है  चौथा उत्तर  दैनिक विजय दर्पण टाइम्स , मेरठ से कार्यकारी संपादक श्री संतराम पाण्डेय...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – सवाल एक – जबाब अनेक – 2 – श्री जय प्रकाश पाण्डेय

श्री जय प्रकाश पाण्डेय           “सवाल एक –  जबाब अनेक (2 एवं  3)" (श्री जयप्रकाश पाण्डेय जी का  एक प्रश्न के विभिन्न  लेखकों के द्वारा  दिये गए विभिन्न उत्तरआपके ज्ञान चक्षु  तो अवश्य ही खोल  देंगे।  तो प्रस्तुत है यह प्रश्नोत्तरों की श्रंखला।   वर्तमान समय में ठकाठक दौड़ता समाज घोड़े की रफ्तार से किस दिशा में जा रहा, सामूहिक द्वेष और  स्पर्द्धा को उभारकर राजनीति, समाज में बड़ी उथल पुथल मचा रही है। ऐसी अनेक बातों को लेकर हम सबके मन में चिंताएं चला करतीं हैं। ये चिंताएं हमारे भीतर जमा होती रहतीं हैं। संचित होते होते ये चिंताएं क्लेश उपजाती हैं, हर कोई इन चिंताओं के बोझ से त्रास पाता है ऐसे समय लेखक त्रास से मुक्ति की युक्ति बता सकता है। एक सवाल के मार्फत देश भर के यशस्वी लेखकों की राय पढें इस श्रृंखला में......... तो फिर देर किस बात की जानिए वह एकमात्र प्रश्न  और उसके अनेक उत्तर।  प्रस्तुत है  दूसरा उत्तर लखनऊ से विख्यात व्यंग्यकार एवं प्राध्यापक श्री अलंकार रस्तोगी...
Read More
image_print