image_print

पुस्तक समीक्षा / आत्मकथ्य – ग़ुलामी की कहानी – श्री सुरेश पटवा 

आत्मकथ्य - ग़ुलामी की कहानी - श्री सुरेश पटवा  ('गुलामी की कहानी'  श्री सुरेश पटवा की प्रसिद्ध पुस्तकों में से एक है। आपका जन्म देनवा नदी के किनारे उनके नाना के गाँव ढाना, मटक़ुली में हुआ था। उनका बचपन सतपुड़ा की गोद में बसे सोहागपुर में बीता। प्रकृति से विशेष लगाव के कारण जल, जंगल और ज़मीन से उनका नज़दीकी रिश्ता रहा है। पंचमढ़ी की खोज के प्रयास स्वरूप जो किताबी और वास्तविक अनुभव हुआ उसे आपके साथ बाँटना एक सुखद अनुभूति है।  श्री सुरेश पटवा, ज़िंदगी की कठिन पाठशाला में दीक्षित हैं। मेहनत मज़दूरी करते हुए पढ़ाई करके सागर विश्वविद्यालय से बी.काम. 1973 परीक्षा में स्वर्ण पदक विजेता रहे हैं और कुश्ती में विश्व विद्यालय स्तरीय चैम्पीयन रहे हैं। भारतीय स्टेट बैंक से सेवा निवृत सहायक महाप्रबंधक हैं, पठन-पाठन और पर्यटन के शौक़ीन हैं। वर्तमान में वे भोपाल में निवास करते हैं। आप अभी अपनी नई पुस्तक 'पलक गाथा' पर काम कर रहे हैं। प्रस्तुत है उनकी पुस्तक गुलामी की कहानी पर उनका आत्मकथ्य।) यह...
Read More

पुस्तक समीक्षा : काव्य संग्रह – अन्तर्ध्वनि – – सुश्री मालती मिश्रा

अन्तर्ध्वनि (काव्य-संग्रह) लेखिका : सुश्री मालती मिश्रा प्रकाशन :     उन्वान  प्रकाशन मूल्य : रुपये 150/- मात्र समीक्षक : अवधेश कुमार 'अवध' (पुस्तक समीक्षा/आत्मकथ्य की इस कड़ी में हम सुश्री मालती मिश्रा जी के काव्य-संग्रह  अन्तर्ध्वनि की समीक्षा प्रस्तुत कर रहे हैं। समीक्षा श्री अवधेश कुमार ‘अवध’ जी ने लिखी है। हम कल इस काव्य संग्रह की एक चुनिन्दा  कविता प्रकाशित करेंगे। ) मनुष्यों में पाँचों इन्द्रियाँ कमोबेश सक्रिय होती हैं जो अपने अनुभवों के समन्वित मिश्रण को मन के धरातल पर रोपती हैं जहाँ से समवेत ध्वनि का आभास होता है, यही आभास अन्तर्ध्वनि है। जब अन्तर्ध्वनि को शब्द रूपी शरीर मिल जाता है तो काव्य बन जाता है। सार्थक एवं प्रभावी काव्य वही होता है जो कवि के हृदय से निकलकर पाठक के हृदय में बिना क्षय के जगह पा सके और कवि - हृदय का हूबहू आभास करा सके। नवोदित कवयित्री सुश्री मालती मिश्रा जी ने शिक्षण के दौरान अन्त: चक्षु से 'नारी' को नज़दीक से देखा। नर का अस्तित्व है नारी, किन्तु वह नर के कारण अस्तित्व विहीन...
Read More

पुस्तक समीक्षा / आत्मकथ्य – सपने, सच और उड़ान – डॉ दिवाकर पोखरियाल 

  आत्मकथ्य – सपने, सच और उड़ान - डॉ दिवाकर पोखरियाल  (अभियांत्रिकी (इंजीनियरिंग) पृष्ठभूमि से संबन्धित एवं ऊर्जा (एनर्जी) में पी. एच डी कर चुके डॉ . दिवाकर पोखरियाल का साहित्य एवं गीत-संगीत में रुझान उनकी सर्वांगीण प्रतिभा का परिचायक है। आपकी विशिष्ट साहित्यिक प्रतिभा के कारण आपका नाम ‘लिम्का बुक ऑफ रेकॉर्ड्स – 2014 एवं  2017’ में दर्ज है। हम ऐसे प्रतिभाशाली व्यक्तित्व को आपसे रूबरू करने में गौरवान्वित अनुभव करते हैं।प्रस्तुत है उनके  उपन्यास 'सपने, सच और उड़ान' का आत्मकथ्य एवं उसका एक अंश उनकी ही कलम से।) पहले भाग में ( जो पहले 5 पाठ है) 5 बच्चे समाज से अलग अलग हिस्से से अपने सपनो के लिए अपनो से लड़ते है|  उस सोच का हिस्सा है जहाँ माँ बाप बच्चो का भविष्य निर्धारित करते है ना कि खुद बच्चे अपनी काबिलियत के हिसाब से| रितिका उन लड़कियो में से है जो प्यार के चक्कर में बहुत जल्दी फँस जाने के कारण अंदर से भावनात्मक हो जाते है और उस एहसास...
Read More

पुस्तक समीक्षा / आत्मकथ्य – इंतज़ार (कहानी संग्रह) – सुश्री मालती मिश्रा

इंतज़ार (कहानी संग्रह) लेखिका : सुश्री मालती मिश्रा प्रकाशन : समदर्शी प्रकाशन, हरियाणा संस्करण : प्रथम, जून - 2018 मूल्य : रुपये 175/- मात्र (लेखक मित्रों के सुझावों के अनुरूप यह एक नवीन प्रयास है। इसमें लेखक मित्रों की चुनिन्दा पुस्तकों की समीक्षा/आत्मकथ्य प्रकाशित करना प्रारम्भ कर रहे हैं। इस कड़ी में हम सर्वप्रथम सुश्री मालती मिश्रा जी के कथा संग्रह इंतज़ार की समीक्षा प्रस्तुत कर रहे हैं। समीक्षा श्री अवधेश कुमार 'अवध' जी ने लिखी है। हम कल इस कथा संग्रह की एक चुनिन्दा कहानी 'इंतजार का सिलसिला' प्रकाशित करेंगे।  अवधेश कुमार 'अवध' जब से मानव ने कुटुम्ब में रहना सीखा तब से परिजनों में छोटे - बड़े और बच्चे - वृद्ध की भावना आई और साथ ही आई प्राय: बड़ों द्वारा छोटों को कहानियाँ सुनाने का सिलसिला। प्रकारान्तर में वही कहानियाँ चमत्कारों, अप्सराओं और अदृश्य शक्तियों से होती हुईं धरातल पर उतरीं जिनमें समाज का प्रतिबिम्ब देखा जा सकता है और प्रेरित होकर समाज को उचित दिशा भी दिया जा सकता है। लेखिका सुश्री मालती मिश्रा 'अन्तर्ध्वनि'...
Read More
image_print