image_print

सूचना/Information ☆ अभिप्राय ☆ सम्पादक मंडळ ई-अभिव्यक्ति (मराठी) ☆

सूचना/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) ☆ वाचकांचे अभिप्राय ☆ अभिप्राय – 1 मा. श्रीमती उज्ज्वलाताई, संपादक (ई-अभिव्यक्ती - मराठी) नमस्कार , 'ई-अभिव्यक्ती मराठी आवृत्तीचे' मनापासून स्वागत. आजच्या   परिस्थितीत इलेक्ट्रॉनिक माध्यमाचा वापर  करून वाचक आणि लेखक या दोघांनाही आपण एक नवे दालन उपलब्ध करुन दिलंत! वाचन व लेखन यासाठी आपण हाती घेतलेला हा उपक्रम अत्यंत स्तुत्य आहे . तोही मराठी भाषेसाठी असल्यामुळे अभिमानास्पद आहे. छोट्या छोट्या लेखांच्या,गोष्टींच्या तसेच कवितेंच्या रुपातून ई- अभिव्यक्ती मार्फत हे साहित्य सहजपणे अनेकांच्या हातात पोचत आहे. जाता येता; कमी वेळात; कोठेही; सहजपणे वाचता येते. लॉकडाऊनमुळे वाचनालये बंद पडली आहेत. ई-अभिव्यक्ती वाचकांची तहान भागवण्याचे मोठं काम पार पाडत आहे. नवनवीन साहित्यकृती वाचायला मिळत आहेत. एक लेखिका म्हणून मला नवं आधुनिक व्यासपीठ मिळालं आहेच. पण एक वाचक म्हणून मिळणारा आनंद सुद्धा मोठा आहे. अतिशय नेटकेपणाने, काही ओळीतून मांडलेली अभिव्यक्ती  'थोडक्यात समजणे। थोडक्यात समजावणे। मुद्देसुद बोलणे। ही संवाद कला या संत तुकारामांच्या ओवीची आठवण करुन देते. धन्यवाद , सौ. दीपा पुजारी, इचलकरंजी अभिप्राय – 2 मी लिहीत असलेले माझे विचार ह्या माध्यमा मुळे लोकांपर्यंत पोचत आहेत, ह्याचा मला आनंद वाटतो. आमच्या सारख्या नवोदित...
Read More

सूचना/Information ☆ निवेदन ☆ सम्पादक मंडळ ई-अभिव्यक्ति (मराठी) ☆

सूचना/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) ☆ निवेदन ☆   साहित्यीक बंधू भगिनी आणि रसिक वाचकहो आपणा सर्वांच्या सहकार्यामुळे आणि उत्तम प्रतिसादामुळे 'ई-अभिव्यक्ती - मराठी' आज एक महिना पूर्ण करीत आहे. भविष्य काळातही आपण सर्वांनी असेच सहकार्य करावे आणि उत्तमोत्तम साहित्य सादर करण्याची संधी संपादक मंडळास द्यावी, ही अपेक्षा आणि नम्र विनंती.   दिनांक चौदा सप्टेंबर भाषा  भगिनी  हिंदीस हिंदी दिनाच्या हार्दिक शुभेच्छा   आभार  सम्पादक मंडळ (मराठी)  श्रीमती उज्ज्वला केळकर  Email- kelkar1234@gmail.com WhatsApp – 9403310170 श्री सुहास रघुनाथ पंडित  Email –  soorpandit@gmail.com) WhatsApp – 9421225491   ≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडळ (मराठी) – श्रीमती उज्ज्वला केळकर/श्री सुहास रघुनाथ पंडित  ≈...
Read More

सूचना/Information ☆ अभिप्राय ☆ सम्पादक मंडळ ई-अभिव्यक्ति (मराठी) ☆

सूचना/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) ☆ अभिप्राय ☆ अभिप्राय - 1 संपादक ई-अभिव्यक्ति मंडळ स.न. आपण सुरु केलेले ई-अभिव्यक्तिचे अंक मी नियमित वाचते.अंकातील साहित्य प्रकारांचे,लेखकांनी केलेले लेखन विषयानुसरून आणि लालित्यपूर्ण वाटते.सर्व साहित्य प्रकारांचा समावेश असल्याने कंटाळा येत नाही.या अंकाच्या परिपूर्ण वाटचालीसाठी शुभेच्छा! श्रीमती अनुराधा फाटक   अभिप्राय - 2 ही साईट खूप आवडली. साहित्य निर्मिती आणि साहित्याचा रसास्वाद या दोन्ही गोष्टींना उद्युक्त करणारा हा एक वेगळाच मंच, अतिशय नेटका आणि सुघटित वाटतो. यावर प्रकाशित होणाऱ्या साहित्यातले वैविध्य, त्याचे तितकेच वैविध्यपूर्ण सादरीकरण, आणि एकूणच साहित्याचा आणि या मंचाचा दर्जा खरोखरच भावणारा आहे. ह्या उपयुक्त कार्याबद्दल धन्यवाद. 🙏🏻🙏🏻   सुश्री मंजुषा सुनीत मुळे आभार  सम्पादक मंडळ (मराठी)  श्रीमती उज्ज्वला केळकर  Email- kelkar1234@gmail.com WhatsApp – 9403310170 श्री सुहास रघुनाथ पंडित  Email –  soorpandit@gmail.com) WhatsApp – 9421225491 ≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडळ (मराठी) – श्रीमती उज्ज्वला केळकर/श्री सुहास रघुनाथ पंडित  ≈...
Read More

सूचना/Information ☆ निवेदन ☆ सम्पादक मंडळ ई-अभिव्यक्ति (मराठी) ☆

सूचना/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) ☆ निवेदन ☆ साहित्यिक आणि रसिक वाचकहो, दि. 15/08/20  पासून आम्ही ई-अभिव्यक्ती मराठी आवृत्ती नवीन स्वरूपात प्रकाशित करीत आहोत. यामध्ये साहित्याच्या  विविध प्रकारांचा समावेश करून अंक वैविध्यपूर्ण बनवण्याचा आमचा प्रयत्न आहे.एक वाचक म्हणून आपल्याला अंकाचे स्वरूप कसे वाटते हे आम्ही जाणून घेऊ इच्छितो.  तरी आपल्या प्रतिक्रिया, सूचना, अपेक्षा मोजक्या शब्दात आम्हाला कळवाव्यात, ही विनंती. निवडक प्रतिक्रिया आम्ही दर रविवारी प्रकाशित करू.   सम्पादक मंडळ (मराठी)  श्रीमती उज्ज्वला केळकर  Email- kelkar1234@gmail.com WhatsApp - 9403310170 श्री सुहास रघुनाथ पंडित  Email -  soorpandit@gmail.com) WhatsApp - 9421225491 ≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडळ (मराठी) – श्रीमती उज्ज्वला केळकर/श्री सुहास रघुनाथ पंडित  ≈...
Read More

सूचना/Information ☆ निवेदन ☆ श्रीमति उज्ज्वला केळकर- सम्पादिका – ई-अभिव्यक्ति (मराठी)  ☆

सूचना/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) श्रीमति उज्ज्वला केळकर ☆ निवेदन ☆ ई- अभिव्यक्ति साईटवरील साहित्य आता वेगळ्या स्वरूपात दिले जाणार आहे. मराठी, हिंदी,  इंग्रजी साहित्य आता स्वतंत्रपणे लावलं जाईल. त्यानुसार आराखड्यातही थोडा बदल केला जाणार आहे. १. कवितेचा उत्सव २. जीवनरंग - यात लघुतम कथा येतील. ३. विविधा - यात स्फुट/ललित/वैचारिक/प्रासंगिक/व्यक्तिचित्रणपर /विडंबनपर लेखन ४. मनमंजुषेतून अविस्मरणीय/वाचनीय आठवण - अनुभव ५. क्षण सृजनाचे - एखादी कथा, कविता कशी सुचली . कवितेबद्दल असेल, तर कविताही द्यावी. कथा, लेख असेल, तर सूत्र द्यावे. ६. इंद्रधनुष्य - काही संग्राह्य वाचनीय माहिती.. वरील मराठी विभागांसाठी गद्य लेखनाचे स्वागत आहे. लेखन उत्तम, दर्जेदार असावे. लेखन ३५०-४०० शब्दांपर्यंत केलेले असावे.   श्रीमति उज्ज्वला केळकर सम्पादिका - ई- अभिव्यक्ति (मराठी) Email: kelkar1234@gmail.com   विशेष  e -abhivykti आता मराठी विभाग स्वतंत्रपणे घेऊन येत आहे. याच्या या नव्या स्वरूपाविषयी वाचकांनी आपली मतं , विचार प्रतिक्रिया कळवाव्या. स्वरूप व लेखन यावरील प्रतिक्रिया शाब्दिक स्वरूपात स्वागतार्ह. इमोजीस नकोत. स्नेहांकित , उज्वला केळकर , सुहास पंडित...
Read More

सूचनाएँ/ Information ☆ डायनामिक संवाद TV ☆ नवीन कार्यक्रमों के महत्वपूर्ण शार्टलिंक्स ☆

सूचना/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) डायनामिक संवाद TV के अभिनव प्रयोग ( महत्वपूर्ण  लिंक्स )  हम आपको डायनामिक संवाद TV के इस समाचार श्रृंखला के माध्यम से मित्र संस्थान के अभिनव प्रयोगों और उनके लिंक्स की जानकारी देते रहेंगे।   आप निम्न शीर्षकों पर क्लिक कर कार्यक्रमों का यूट्यूब के माध्यम से सीधा प्रसारण देख सकते हैं।   1. वीडियो लिंक >>>>>> कोरोना का रोना धोना बन्द करो - कवयित्री सुश्री गौरी मिश्रा, नैनीताल कोरोना का रोना धोना बन्द करो तुम अपना व्यवहार साफ़ स्वच्छन्द करो भारत कहे करो नमस्ते दुनिया से छूना गले लगाना अब प्रतिबन्ध करो। वैश्विक महामारी कोरोना पर यह खूबसूरत आत्मीय सन्देश देती कविता रची है देश विदेश में भारतवर्ष की कीर्ति पताका लहराने वाली व्यस्ततम कवयित्री गौरी मिश्रा ने, जो कि प्रकृति के स्वर्ग यानी देवभूमि नैनीताल से ताल्लुक रखती हैं। गौरी जी  उर्दू शायरी की रिवायत से वाकिफ़ हैं इनकी बेबाकी ने अदब को एक नया मकाम दिया है। बेहद कम उम्र में गौरी के पास वो अंदाज़ है जो जितना मन की गहराई में उतरता...
Read More

सूचनाएँ/Information ☆ “मन्थन” की ऑनलाइन अखिल भारतीय काव्य गोष्ठी आयोजित ☆ – प्रस्तुति श्री संतोष नेमा “संतोष”

सूचनाएँ/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) ☆ मन्थन की ऑनलाइन अखिल भारतीय काव्य गोष्ठी आयोजित  ☆ 24 मई 2020 को साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था "मन्थन" की अखिल भारतीय काव्य गोष्ठी जो कि कोरोना योद्धाओं के सम्मान में ज़ूम एप्प पर सायं 3 बजे से श्री विजय नेमा अनुज की अध्यक्षता श्री सूरज राय सूरज जी के मुख्य आथित्य में सोल्लास सम्प्पन हुई। गोष्ठी में डॉ सलमा जमाल, बंगलोर से श्रीमती मधु सक्सेना, इंदौर से स्मिता माथुर, बरेली से अदीबा रहमान, मनोज शुक्ल, श्री राजेन्द्र जैन रतन, सतीष जैन नवल, सिवनी से कविता नेमा, श्री सलिल तिवारी और श्री संतोष नेमा "संतोष"ने एक से बढ़कर एक रचनाएँ सुनाई कार्यक्रम का प्रारम्भ श्रीमती स्मिता माथुर द्वारा सरस्वती वंदना से हुआ. गोष्ठी का बखूबी संचालन श्री सतीष जैन नवल एवं आभार प्रदर्शन सन्तोष नेमा "संतोष द्वारा किया गया. ये पंक्तियां खूब सराही गई भूख पेट में दबा कर,चलता नँगे पांव राजनीति की तपन में,कहाँ मिलेगी छाँव श्री मनोज शुक्ल जी की प्रियवर मुझे न दो आमंत्रण। कोरोना का हुआ आक्रमण। तेरा हो या मेरा...
Read More

सूचनाएँ/Information ☆ विश्ववाणी हिंदी संस्थान –  २०  वां  दैनंदिन सारस्वत अनुष्ठान लघुकथा पर्व आयोजित  ☆

सूचनाएँ/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) ☆ विश्ववाणी हिंदी संस्थान -  २०  वां  दैनंदिन सारस्वत अनुष्ठान लघुकथा पर्व आयोजित  ☆ आचार्य संजीव वर्मा ‘सलिल’   जबलपुर, २३-५-२०२०। विश्ववाणी हिंदी संस्थान अभियान जबलपुर के  २० वे दैनंदिन सारस्वत अनुष्ठान लघुकथा पर्व में देश के विविध राज्यों के २५ लघुकथाकारों ने सहभागिता की। इस महत्वपूर्ण अनुष्ठान की मुखिया समर्पित समाजसेवी, से. नि. प्राध्यापक आशा रिछारिया तथा पाहुना लघुकथा आंदोलन की शिखर हस्ताक्षर कांता रॉय भोपाल के स्वागतोपरान्त इंजी. उदयभानु तिवारी ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की।  कोकिलकंठी गायिका मीनाक्षी शर्मा 'तारिका' ने आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' द्वारा रचित हिंदी महिमा के दोहों की प्रभावी प्रस्तुति की। विषय प्रवर्तन करते हुए संयोजक आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' ने मनुष्य के जन्म के पूर्व ही कथा के उद्भव का संकेत देते हुए महाभारत के अभिमन्यु प्रसंग को उठाया। उन्होंने शिशु कथा, बाल कथा, किशोर कथा, पर्व कथा, बोध कथा, लोक कथा, आदि को लघु कथा के विविध प्रकार निरूपित करते हुए मानकों के पिंजरे में रचनाधर्मिता को कैद कर कृत्रिम साहित्य सृजन...
Read More

सूचनाएँ/ Information ☆ डायनामिक संवाद TV ☆ नवीन कार्यक्रमों के महत्वपूर्ण शार्टलिंक्स ☆

सूचना/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) डायनामिक संवाद TV के अभिनव प्रयोग ( महत्वपूर्ण  लिंक्स )  हम आपको डायनामिक संवाद TV के इस समाचार श्रृंखला के माध्यम से मित्र संस्थान के अभिनव प्रयोगों और उनके लिंक्स की जानकारी देते रहेंगे।   आप निम्न शीर्षकों पर क्लिक कर कार्यक्रमों का यूट्यूब के माध्यम से सीधा प्रसारण देख सकते हैं।   1. वीडियो लिंक >>>>>> ऐ खुदा वो एक लम्हा ही काफी था – सुश्री मनीषा बोस, दिल्ली   ऐ खुदा वो एक लम्हा ही काफी था तेरे ऐतबार को जब तूने सम्हाला था मानवता की पतवार को ये अंदाज़ हैं कवयित्री, विचारक, पेशेवर पत्रकार  व्  लेखिका सुश्री मनीषा बोस, दिल्ली के । सुश्री मनीषा जी के पास गहरी नज़र है । इन्होंने ज़िन्दगी में जो भी आसपास देखा है, उस मंजर को कुछ इस तरह से अल्फ़ाज़ों में पिरो देती हैं कि बस सुकून की तलाश पूरी हो जाती है। आप हिंदी साहित्य  में परास्नातक है मगर उनके अंतर में कवि हृदय धड़कता है। आज डायनामिक संवाद टी वी के दर्शकों के...
Read More

सूचनाएँ/ Information ☆ डायनामिक संवाद TV ☆ नवीन कार्यक्रमों के महत्वपूर्ण शार्टलिंक्स ☆

सूचना/Information  (साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समाचार) डायनामिक संवाद TV के अभिनव प्रयोग ( महत्वपूर्ण  लिंक्स )  हम आपको डायनामिक संवाद TV के इस समाचार श्रृंखला के माध्यम से मित्र संस्थान के अभिनव प्रयोगों और उनके लिंक्स की जानकारी देते रहेंगे।   आप निम्न शीर्षकों पर क्लिक कर कार्यक्रमों का यूट्यूब के माध्यम से सीधा प्रसारण देख सकते हैं। 1. वीडियो लिंक >>>>>> स्वर्ग के द्वार पर कोरोना टेस्ट - श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ' विनम्र'    कहते हैं व्यंग का वार  और व्यंग की मार सदियों पर भारी पड़ती है,यदि उसे सलीके से कहा जाए। कोरोना त्रासदी पर व्यंग के माध्यम से इस विभीषिका के अंतरनिहित  दर्द पर चुटीला प्रहार करने की शानदार कोशिश की है जाने माने  व्यंग कार विवेक रंजन श्रीवास्तव जी ने।आप सुप्रसिद्ध व्यंगकार  हरिशंकर परसाई ,शरद जोशी ,श्री बाल पांडे और रासबिहारी जी पांडे की व्यंग परंपरा की कीर्ति पताका को थामे हुए सफलतापूर्वक आगे बढ़ रहे हैं। आपके व्यंग आडम्बरों पर प्रहार करते है।और व्यंग  के तेवर नई धार से सुसज्जित होते हैं...
Read More
image_print