image_print

प्रो चित्र भूषण श्रीवास्तव ‘विदग्ध’ 

( आज प्रस्तुत है गुरुवर प्रोफ. श्री चित्र भूषण श्रीवास्तव जी  की  एक भावप्रवण कविता  शारदी चाँदनी ।  हमारे प्रबुद्ध पाठक गण  प्रो चित्र भूषण श्रीवास्तव ‘विदग्ध’ जी  काव्य रचनाओं को प्रत्येक शनिवार आत्मसात कर सकेंगे।  ) 

☆ साप्ताहिक स्तम्भ ☆ काव्य धारा # 13 ☆

☆ शारदी चाँदनी ☆

शारदी चांदनी सा धुला मन,  जब पपीहा सा तुमको पुकारे

सावनी घन घटा से उमड़ते , स्वप्न से तुम यहां  चले आना

प्राण के तार खुद जनझना के , याद की वीथिका खोल देंगे

नैन मन की मिली योजना से,  चित्र सब कुछ स्वतः बोल देंगे

बात करते स्वतः बावरे से , प्रेम रंग में रंगे सांवरे से

वीणा से गीत गुनगुनाते , स्वप्न से तुम यहां  चले आना

शारदी चांदनी सा धुला मन,  जब पपीहा सा तुमको पुकारे

 

है कसम तुम्हें मेरे सपन की, राह में भटक तुम न जाना

दिन कटे काम की उलझनो में , रात गिनते गगन के सितारे

सांस के पालने में झुलाये , आस डोरी पे सपने तुम्हारे

मंद मादक मलय के पवन से , गंध भीनी बसाये वसन से

मोह से मोहते मन लुभाते , स्वप्न से तुम यहां चले आना

है कसम तुम्हें मेरे सपन की, राह में भटक तुम न जाना

शारदी चांदनी सा धुला मन,  जब पपीहा सा तुमको पुकारे

 

© प्रो चित्र भूषण श्रीवास्तव ‘विदग्ध’ 

ए १ ,विद्युत मण्डल कालोनी , रामपुर , जबलपुर

vivek1959@yahoo.co.in

 ब्लॉग संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

image_print
5 1 vote
Article Rating

Please share your Post !

0Shares
0
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments