हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ आशीष साहित्य – # 9 – सीता की गीता ☆ – श्री आशीष कुमार

श्री आशीष कुमार   (युवा साहित्यकार श्री आशीष कुमार ने जीवन में  साहित्यिक यात्रा के साथ एक लंबी रहस्यमयी यात्रा तय की है। उन्होंने भारतीय दर्शन से परे हिंदू दर्शन, विज्ञान और भौतिक क्षेत्रों से परे सफलता की खोज और उस पर गहन शोध किया है। अब  प्रत्येक शनिवार आप पढ़ सकेंगे  उनके स्थायी स्तम्भ  “आशीष साहित्य”में  उनकी पुस्तक  पूर्ण विनाशक के महत्वपूर्ण अध्याय।  इस कड़ी में आज प्रस्तुत है   “अद्भुत पराक्रम”।) Amazon Link – Purn Vinashak ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ आशीष साहित्य – # 9 ☆   ☆ सीता की गीता ☆   देवी सीता ने कहा, "मेरी प्यारी बेटी, पत्नी को केवल अपने पति की नियति का पालन करना चाहिए । एक स्त्री  के लिए उसके पिता, उसका बेटा, उसकी माँ, उसकी सखियों, बहन, भाई, एवं स्वयं से बढ़कर भी उसका पति ही है, जो इस संसार में और उसकी आने वाली आगामी जिंदगियों में मोक्ष का उसका एकमात्र साधन है । एक स्त्री के लिए सबसे बड़ी सजावट बाह्य आभूषण नहीं बल्कि उसके पति की खुशी है । अपनी बेटी को...
Read More

हिन्दी साहित्य – मनन चिंतन – ☆ संजय दृष्टि – चिंतन तो बनता है ☆ – श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज    (श्री संजय भारद्वाज जी का साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं।  हम आपको प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक  पहुँचा रहे हैं। अब सप्ताह के अन्य दिवसों पर आप उनके मनन चिंतन को  संजय दृष्टि के अंतर्गत पढ़ सकेंगे। )  ☆ संजय दृष्टि – चिंतन तो बनता है ☆   सोमवार 16 सितम्बर 2019 को हिंदी पखवाड़ा के संदर्भ में केंद्रीय जल और विद्युत अनुसंधान संस्थान, खडकवासला, पुणे में आमंत्रित था। कार्यक्रम के बाद सैकड़ों एकड़ में फैले इस संस्थान के कुछ मॉडेल देखे। केंद्र और विभिन्न राज्य सरकारों के लिए अनेक बाँधों की देखरेख और छोटे-छोटे चेकडैम बनवाने में  संस्थान महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह संस्थान चूँकि जल अनुसंधान पर काम करता है, भारत की नदियों पर बने पुल और पुल बनने के बाद जल के प्रवाह...
Read More

हिन्दी साहित्य – मनन चिंतन – ☆ संजय दृष्टि – सफलता का सूत्र ☆ – श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज    (श्री संजय भारद्वाज जी का साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं।  हम आपको प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक  पहुँचा रहे हैं। अब सप्ताह के अन्य दिवसों पर आप उनके मनन चिंतन को  संजय दृष्टि के अंतर्गत पढ़ सकेंगे। )  ☆ संजय दृष्टि – सफलता का सूत्र  ☆ किसी टाइल या एसबेस्टॉस की शीट के छोटे टुकड़े को अपनी तर्जनी से दबाएँ। फिर यही प्रक्रिया क्रमशः मध्यमा, अनामिका, कनिष्ठा और अंगूठे से करें। हर बार कम या अधिक दबाव शीट या टाइल पर पड़ेगा पर वह अखंडित रहेगी। अब उंगलियों और अंगूठे को एक साथ भींच लीजिए, मुट्ठी बन जाएगी। मुट्ठी की गुद्दी से वार कीजिए। टाइल या शीट चटक जाएगी। जीवन का गुपित और निहितार्थ इस छोटे-से प्रयोग में छिपा है। प्रत्येक का अपना सामर्थ्य और अपना...
Read More

हिन्दी साहित्य – मनन चिंतन – ☆ संजय दृष्टि – भाषा और अभिव्यक्ति ☆ – श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज    (श्री संजय भारद्वाज जी का साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं।  हम आपको प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक  पहुँचा रहे हैं। अब सप्ताह के अन्य दिवसों पर आप उनके मनन चिंतन को  संजय दृष्टि के अंतर्गत पढ़ सकेंगे। )  ☆ संजय दृष्टि – भाषा और अभिव्यक्ति  ☆   नवजात का रुदन जगत की पहली भाषा, अबोध की खिलखिलाहट जगत का पहला महाकाव्य, शिशु का अंगुली पकड़ना जगत का पहला अनहद नाद, संतान का माँ को पुकारना जगत का पहला मधुर निनाद, प्रसूत होती स्त्री केवल एक शिशु को नहीं जनती, अभिव्यक्ति की संभावनाओं के महाकोश को जन्म देती है, संभवतः यही कारण है भाषा स्त्रीलिंग होती है।   अपनी भाषा में अभिव्यक्त होना अपने अस्तित्व को चैतन्य रखना है।....आपका दिन चैतन्य रहे।   ©  संजय भारद्वाज, पुणे ☆ अध्यक्ष– हिंदी आंदोलन परिवार ☆ सदस्य– हिंदी अध्ययन मंडल, पुणे विश्वविद्यालय ☆ संपादक– हम लोग ☆ पूर्व सदस्य– महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी ☆ ट्रस्टी- जाणीव,...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ सकारात्मक सपने – #16 – कचरे के खतरे ☆ सुश्री अनुभा श्रीवास्तव

सुश्री अनुभा श्रीवास्तव  (सुप्रसिद्ध युवा साहित्यकार, विधि विशेषज्ञ, समाज सेविका के अतिरिक्त बहुआयामी व्यक्तित्व की धनी  सुश्री अनुभा श्रीवास्तव जी  के साप्ताहिक स्तम्भ के अंतर्गत हम उनकी कृति “सकारात्मक सपने” (इस कृति को  म. प्र लेखिका संघ का वर्ष २०१८ का पुरस्कार प्राप्त) को लेखमाला के रूप में प्रस्तुत कर रहे हैं। साप्ताहिक स्तम्भ – सकारात्मक सपने के अंतर्गत आज अगली कड़ी में प्रस्तुत है “कचरे के खतरे” ।  इस लेखमाला की कड़ियाँ आप प्रत्येक सोमवार को पढ़ सकेंगे।)     Amazon Link for eBook :  सकारात्मक सपने   Kobo Link for eBook        : सकारात्मक सपने   ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – सकारात्मक सपने  # 16 ☆   ☆ कचरे के खतरे ☆   घर-आँगन सब आग लग रही, सुलग रहे वन-उपवन दर-दीवारें चटख रही हैं, जलते छप्पर-छाजन तन जलता है, मन जलता है जलता जन-धन जीवन एक नहीं जलते सदियों से जकड़े गर्हित बन्धन। दूर बैठकर ताप रहा है, आग लगाने वाला मेरा देश जल रहा, कोई नहीं बुझाने वाला। ..... डॉ. शिवमंगल सिंह सुमन विकास का सूचक और अर्थव्यवस्था का आधार  बढ़ता मशीनीकरण आज आधुनिक जीवन के हर क्षेत्र को संचालित कर रहा है । आधुनिक जीवन मशीनों पर इस कदर निर्भर है कि...
Read More

हिंदी साहित्य – अभियंता दिवस विशेष – ☆ भारत रत्न अभियंता सर मोक्षगुण्डम विश्वेवश्वरैया के जन्म दिवस पर विशेष ☆ – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’

अभियंता दिवस विशेष  श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’    (अभियंता दिवस पर  वरिष्ठ साहित्यकार एवं अभियंता  श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ जी का  विशेष आलेख  भारत रत्न अभियंता सर मोक्षगुण्डम विश्वेवश्वरैया के जन्म दिवस पर विशेष.)     ☆ भारत रत्न अभियंता सर मोक्षगुण्डम विश्वेवश्वरैया के जन्म दिवस पर विशेष ☆   आज अमेरिका में सिलिकान वैली में तब तक कोई कंपनी सफल नही मानी जाती जब तक उसमें कोई भारतीय इंजीनियर कार्यरत न हो, भारत के आई आई टी जैसे संस्थानो के इंजीनियर्स ने विश्व में अपनी बुद्धि से भारतीय श्रेष्ठता का समीकरण अपने पक्ष में कर दिखाया है, प्रतिवर्ष भारत रत्न सर मोक्षगुण्डम विश्वेश्वरैया का जन्मदिवस इंजीनियर्स डे के रूप में मनाया जाता है, पंडित नेहरू ने कल कारखानो को नये भारत के तीर्थ कहा था, इन्ही तीर्थौ के पुजारी, निर्माता इंजीनियर्स को आज अभियंता दिवस पर बधाई,...विगत कुछ दशको में इंजीनियर्स की छबि में भ्रष्टाचार के घोलमाल में बढ़ोत्री हुई है, अनेक इंजीनियर्स शासनिक अधिकारी या मैनेजमेंट की उच्च शिक्षा लेकर बड़े मैनेजर बन गये हैं,...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ संजय उवाच – #12 – समष्टि….व्यष्टि! ☆ – श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज    (“साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच “ के  लेखक  श्री संजय भारद्वाज जी का साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं। श्री संजय जी के ही शब्दों में ” ‘संजय उवाच’ विभिन्न विषयों पर चिंतनात्मक (दार्शनिक शब्द बहुत ऊँचा हो जाएगा) टिप्पणियाँ  हैं। ईश्वर की अनुकम्पा से इन्हें पाठकों का  आशातीत  प्रतिसाद मिला है।” हम  प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक पहुंचाते रहेंगे। आज प्रस्तुत है  इस शृंखला की अगली    । ऐसे ही साप्ताहिक स्तंभों  के माध्यम से  हम आप तक उत्कृष्ट साहित्य पहुंचाने का प्रयास करते रहेंगे।)   ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच # 12 ☆   ☆ समष्टि .... व्यष्टि ! ☆   रेल में भीड़-भड़क्का है। हर कोई अपने में मशगूल। एक तीखा, अनवरत स्वर ध्यान बेधता है। साठ से ऊपर की एक स्त्री, संभवतः स्वर यंत्र में कोई दोष...
Read More

हिन्दी साहित्य – राजभाषा दिवस विशेष – ☆ राष्ट्रभाषा : मनन-मंथन-मंतव्य ☆ – श्री संजय भारद्वाज

राजभाषा दिवस विशेष  श्री संजय भारद्वाज    (राजभाषा दिवस पर श्री संजय भारद्वाज जी का  विशेष आलेख राष्ट्रभाषा : मनन-मंथन-मंतव्य.)  ☆ राष्ट्रभाषा : मनन-मंथन-मंतव्य ☆   भाषा का प्रश्न समग्र है। भाषा अनुभूति को अभिव्यक्त करने का माध्यम भर नहीं है। भाषा सभ्यता को संस्कारित करने वाली वीणा एवं संस्कृति को शब्द देनेवाली वाणी है। किसी भी राष्ट्र की सभ्यता और संस्कृति नष्ट करनी हो तो उसकी भाषा नष्ट कर दीजिए। इस सूत्र को भारत पर शासन करने वाले विदेशियों ने भली भाँति समझा। आरंभिक आक्रमणकारियों ने संस्कृत जैसी समृद्ध और संस्कृतिवाणी को हाशिए पर कर अपने-अपने इलाके की भाषाएँ लादने की कोशिश की। बाद में सभ्यता की खाल ओढ़कर अंग्रेज आया। उसने दूरगामी नीति के तहत भारतीय भाषाओं की धज्जियाँ उड़ाकर अपनी भाषा और अपना हित लाद दिया। लद्दू खच्चर की तरह हिंदुस्तानी उसकी भाषा को ढोता रहा। अंकुश विदेशियों के हाथ में होने के कारण वह असहाय था। यहाँ तक तो ठीक था। शासक विदेशी था, उसकी सोच और कृति में परिलक्षित स्वार्थ व धूर्तता...
Read More

हिंदी साहित्य – राजभाषा दिवस विशेष – ☆ स म्मा न ☆ – श्री सदानंद आंबेकर

राजभाषा दिवस विशेष  श्री सदानंद आंबेकर            (राजभाषा दिवस पर श्री सदानंद आंबेकर  जी का  विशेष आलेख स म्मा न.)    ☆ स म्मा न ☆   सुबह के लगभग ग्यारह-बारह बजे के समय अचानक बैंड़ बाजों की आवाज से लोग चौंक उठे। आंखें उठाकर देखा तो पाया कि बाजार के मध्य से एक जुलूस जा रहा है। उसके बीच में सुसज्जित पालकी पर एक तेजोमय मुद्रा वाली वयोवृद्ध महिला सुंदर से वस्त्र पहने बैठी है। चार लोग पालकी उठाए चले जाते है। बीच बीच में जुलूस के लोग उसकी जय-जयकार भी बोल रहे हैं। सभी लोग अत्यंत कौतुहूल से उस जुलूस एवं उसके मध्य जा रही वृद्धा को देख रहे थें किंतु समझ में कुछ नहीं आ रहा था। उस जुलूस में काफी लोग थे जिनमें सामान्य जन से लेकर अनेक बड़े नेता भी दृष्टिगोचर हो रहे थे। लोगों के उत्साह का पारावार न था। जुलूस यों ही जयकार करता हुआ आगे चला गया । अनेक दिनों बाद उसी बाजार के एक दुकानदार ने देखा कि वही बूढ़ी...
Read More

हिंदी साहित्य – राजभाषा दिवस विशेष – ☆ भाषायें अभिव्यक्ति का माध्यम, परस्पर अनुपूरक होती हैं. ☆ – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’

राजभाषा दिवस विशेष  श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’    (राजभाषा दिवस पर  श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ जी का  विशेष आलेख भाषायें अभिव्यक्ति का माध्यम, परस्पर अनुपूरक होती हैं.)     ☆ भाषायें अभिव्यक्ति का माध्यम, परस्पर अनुपूरक होती हैं ☆   संविधान सभा में देवनागरी में लिखी जाने वाली हिन्दी को राजभाषा का दर्जा दिया गया है. स्वाधीनता आन्दोलन के सहभागी रहे हमारे नेता जिनके प्रयासो से हिन्दी को राजभाषा के रूप में स्वीकार किया गया  आखिर क्यो चाहते थे कि हिन्दी  केन्‍द्र और प्रान्तों के बीच संवाद की भाषा बने? स्पष्ट है कि वे एक लोकतांत्रिक राष्ट्र का सपना देख रहे थे जिसमें जनता की भागीदारी सुनिश्चित करनी थी. उन मनीषियो ने एक ऐसे नागरिक की कल्पना थी जो बौद्धिक दृष्टि से तत्कालीन राजकीय  संपर्क भाषा अंग्रेजी का पिछलग्‍गू नहीं, बल्कि आत्मनिर्भर हो.  यही स्वराज अर्थात अपने ऊपर अपना ही शासन की अवधारणा की संकल्पना  भी थी.  इस कल्पना में आज भी वही शक्ति है.  इसमें आज भी वही राष्ट्रीयता का आकर्षण है. आजादी के बाद से आज तक...
Read More