image_print

हिन्दी साहित्य – आलेख ☆ गांधीजी के सिद्धांत और आज की युवा पीढी ☆ श्री अरुण कुमार डनायक

श्री अरुण कुमार डनायक   (श्री अरुण कुमार डनायक जी  महात्मा गांधी जी के विचारों के अध्येता हैं. आप का जन्म दमोह जिले के हटा में 15 फरवरी 1958 को हुआ. सागर  विश्वविद्यालय से रसायन शास्त्र में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त करने के उपरान्त वे भारतीय स्टेट बैंक में 1980 में भर्ती हुए. बैंक की सेवा से सहायक महाप्रबंधक के पद से सेवानिवृति पश्चात वे  सामाजिक सरोकारों से जुड़ गए और अनेक रचनात्मक गतिविधियों से संलग्न है. गांधी के विचारों के अध्येता श्री अरुण डनायक वर्तमान में गांधी दर्शन को जन जन तक पहुचाने के लिए कभी नर्मदा यात्रा पर निकल पड़ते हैं तो कभी विद्यालयों में छात्रों के बीच पहुँच जाते है.  आदरणीय श्री अरुण डनायक जी  ने  गांधीजी के 150 जन्मोत्सव पर  02.10.2020 तक प्रत्येक सप्ताह  गाँधी विचार, दर्शन एवं हिन्द स्वराज विषयों से सम्बंधित अपनी रचनाओं को हमारे पाठकों से साझा करने के हमारे आग्रह को स्वीकार कर हमें अनुग्रहित किया है. हम प्रयास करेंगे कि आप उनकी रचनाएँ ...
Read More

हिन्दी साहित्य – आलेख – मनन चिंतन – ☆ संजय दृष्टि – भाग्यं फलति सर्वत्र ☆ – श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज    (श्री संजय भारद्वाज जी का साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं।  हम आपको प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक  पहुँचा रहे हैं। अब सप्ताह के अन्य दिवसों पर आप उनके मनन चिंतन को  संजय दृष्टि के अंतर्गत पढ़ सकेंगे। )    ☆ संजय दृष्टि  – भाग्यं फलति सर्वत्र ☆   "कर्म मैं करता हूँ, श्रेय तुम्हें मिलता है। आख़िर भाग्य के स्वामी हो न", श्रम ने शिकायती लहज़े में कहा। प्रारब्ध मुस्कराया, बोला, " भाग्य के स्वामी का भी अपना भाग्य होता है जो वांछित-अवांछित सब अपने माथे ढोता है।" हाथ पकड़कर प्रारब्ध, श्रम को वहाँ ले आया जहाँ आलीशान बंगला और फटेहाल झोपड़ी विपरीत ध्रुवों की तरह आमने-सामने खड़े थे। दोनों में एक-एक जोड़ा रहता था। झोपड़ीवाला जोड़ा रोटी को मोहताज़ था, बंगलेवाले के यहाँ ऐश्वर्य का राज था। ध्रुवीय...
Read More

हिन्दी साहित्य – ☆ जन्म दिवस विशेष ☆ एक लेखक के रूप में डॉ ए. पी. जे. अब्दुल कलाम ☆ – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’

डॉ ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जन्म दिवस विशेष  विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’    (हम प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ जी के आभारी हैं, जिन्होने  डॉ ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जी के जन्मदिवस  के विशेष अवसर पर इस  ज्ञानवर्धक आलेख की रचना की है जिसमें उन्होंने उनके लेखकीय पक्ष की विस्तृत चर्चा की है।    ☆ एक लेखक के रूप में.....डॉ ए. पी. जे. अब्दुल कलाम ☆   शाश्वत सत्य है शब्द मरते नहीं. इसीलिये शब्द को हमारी संस्कृति में ब्रम्ह कहा गया है. यही कारण है कि स्वयं अपने जीवन में विपन्नता से संघर्ष करते हुये भी जो मनीषी  निरंतर रचनात्मक शब्द साधना में लगे रहे, उनके कार्यो को जब साहित्य जगत ने समझा तो  वे आज लब्ध प्रतिष्ठित हस्ताक्षर के रूप में स्थापित हैं. लेखकीय गुण, वैचारिक अभिव्यक्ति का ऐसा संसाधन है जिससे लेखक के अनुभवो का जब संप्रेषण होता है, तो वह हर पाठक के हृदय को स्पर्श करता है. उसे प्रेरित करता है, उसका दिशादर्शन करता है. इसीलिये पुस्तकें सर्व श्रेष्ठ मित्र कही...
Read More

हिन्दी साहित्य – आलेख – मनन चिंतन – ☆ संजय दृष्टि –मानस प्रश्नोत्तरी – ☆ – श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज    (श्री संजय भारद्वाज जी का साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं  और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं।  हम आपको प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक  पहुँचा रहे हैं। अब सप्ताह के अन्य दिवसों पर आप उनके मनन चिंतन को  संजय दृष्टि के अंतर्गत पढ़ सकेंगे। )    ☆ संजय दृष्टि  – मानस प्रश्नोत्तरी ☆ *प्रश्न*- श्रेष्ठ मनुष्य बनने के लिए क्या करना चाहिए? *उत्तर*- पहले मनुष्य बनने का प्रयास करना चाहिए। *प्रश्न*- मनुष्य बनने के लिए क्या करना चाहिए? *उत्तर*- परपीड़ा को समानुभूति से ग्रहण करना चाहिए। *प्रश्न*- परपीड़ा को समानुभूति से ग्रहण करने के लिए क्या करना चाहिए? *उत्तर*- परकाया प्रवेश आना चाहिए। *प्रश्न*- परकाया प्रवेश के लिए क्या करना चाहिए? *उत्तर*- अद्वैत भाव जगाना चाहिए। *प्रश्न*- अद्वैत भाव जगाने के लिए क्या करना चाहिए? *उत्तर*- जो खुद के लिए चाहते हो, वही दूसरों को देना आना चाहिए क्योंकि तुम और वह...
Read More

हिन्दी साहित्य – शरद पूर्णिमा विशेष – ☆ शरद पूर्णिमा – एक तथ्यात्मक विवेचना ☆ – श्री आशीष कुमार

श्री आशीष कुमार   (युवा साहित्यकार श्री आशीष कुमार ने जीवन में  साहित्यिक यात्रा के साथ एक लंबी रहस्यमयी यात्रा तय की है। उन्होंने भारतीय दर्शन से परे हिंदू दर्शन, विज्ञान और भौतिक क्षेत्रों से परे सफलता की खोज और उस पर गहन शोध किया है। आज प्रस्तुत है उनका आलेख  “शरद पूर्णिमा  – एक तथ्यात्मक विवेचना”।  यह आलेख उनकी पुस्तक  पूर्ण विनाशक  का एक महत्वपूर्ण  अंश है। इस आलेख में आप  नवरात्रि के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।  आप पाएंगे  कि  कई जानकारियां ऐसी भी हैं जिनसे हम अनभिज्ञ हैं।  श्री आशीष कुमार जी ने धार्मिक एवं वैज्ञानिक रूप से शोध कर इस आलेख एवं पुस्तक की रचना की है तथा हमारे पाठको से  जानकारी साझा  जिसके लिए हम उनके ह्रदय से आभारी हैं। )   Amazon Link – Purn Vinashak   ☆ “शरद पूर्णिमा   – एक तथ्यात्मक विवेचना”।☆   आज शरद पूर्णिमा है मेरी पुस्तक पूर्ण विनाशक में से शरद पूर्णिमा पर एक लेख : क्या आप जानते हैं कि एक पूर्णिमा या पूर्णिमा की रात्रि...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ सकारात्मक सपने – #19 – घरेलू बजट ☆ सुश्री अनुभा श्रीवास्तव

सुश्री अनुभा श्रीवास्तव  (सुप्रसिद्ध युवा साहित्यकार, विधि विशेषज्ञ, समाज सेविका के अतिरिक्त बहुआयामी व्यक्तित्व की धनी  सुश्री अनुभा श्रीवास्तव जी  के साप्ताहिक स्तम्भ के अंतर्गत हम उनकी कृति “सकारात्मक सपने” (इस कृति को  म. प्र लेखिका संघ का वर्ष २०१८ का पुरस्कार प्राप्त) को लेखमाला के रूप में प्रस्तुत कर रहे हैं। साप्ताहिक स्तम्भ – सकारात्मक सपने के अंतर्गत आज अगली कड़ी में प्रस्तुत है “ घरेलू बजट” ।  इस लेखमाला की कड़ियाँ आप प्रत्येक सोमवार को पढ़ सकेंगे।)     Amazon Link for eBook :  सकारात्मक सपने   Kobo Link for eBook        : सकारात्मक सपने   ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – सकारात्मक सपने  # 19 ☆   ☆  घरेलू बजट ☆   हिन्दू कलैण्डर के हिसाब से दीपावली से दीपावली तक बही खाता रखा जाता है, प्रायः आय व्यय की नई बही बनाकर, उसकी पूजा करके दूकानदार दीपावली के बाद से नया खाता सुरू करते हैं। अंग्रेजी कैलेण्डर के हिसाब से शासकीय रूप से १ अप्रैल से ३१ मार्च का समय वित्त वर्ष के रूप में माना जाता है। यही कारण है कि राज्य व केंद्र सरकार फरवरी के महीने में सदन में नये वित्तीय वर्ष के लिये बजट...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ संजय उवाच – #16 – संजय दिव्यकर्ण है ☆ – श्री संजय भारद्वाज

श्री संजय भारद्वाज    (“साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच “ के  लेखक  श्री संजय भारद्वाज जी का साहित्य उतना ही गंभीर है जितना उनका चिंतन और उतना ही उनका स्वभाव। संभवतः ये सभी शब्द आपस में संयोग रखते हैं और जीवन के अनुभव हमारे व्यक्तित्व पर अमिट छाप छोड़ जाते हैं। श्री संजय जी के ही शब्दों में ” ‘संजय उवाच’ विभिन्न विषयों पर चिंतनात्मक (दार्शनिक शब्द बहुत ऊँचा हो जाएगा) टिप्पणियाँ  हैं। ईश्वर की अनुकम्पा से इन्हें पाठकों का  आशातीत  प्रतिसाद मिला है।” हम  प्रति रविवार उनके साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक पहुंचाते रहेंगे। आज प्रस्तुत है  इस शृंखला की अगली   कड़ी । ऐसे ही साप्ताहिक स्तंभों  के माध्यम से  हम आप तक उत्कृष्ट साहित्य पहुंचाने का प्रयास करते रहेंगे।)   ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – संजय उवाच # 16☆   ☆ संजय दिव्यकर्ण है ☆ एक मणिकर्णिका घाट है जहाँ शवों का अहर्निश दाह है। निरंतर दहकती है चिता। एक माधवी की कोख है जो हर प्रसव के बाद अक्षता है। कोख का हत्यारा एक...
Read More

हिन्दी साहित्य – आलेख ☆ विश्वास बनाम बर्दाश्त ☆ – डॉ. मुक्ता

डॉ.  मुक्ता (डा. मुक्ता जी हरियाणा साहित्य अकादमी की पूर्व निदेशक एवं  माननीय राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित/पुरस्कृत हैं. आज प्रस्तुत है डॉ मुक्ता जी  का रिश्तों को लेकर एक बेहद संवेदनात्मक एवं शिक्षाप्रद आलेख "विश्वास बनाम बर्दाश्त".  रिश्तों की बुनियाद ही विश्वास पर टिकी होती है.  रिश्तों में एक बार भी शक की दीमक लग गई तो रिश्तों की दीवार ढहने में कोई समय नहीं लगता.   कहते हैं कि - शक की बीमारी का इलाज हकीम लुकमान के पास भी नहीं था।  डॉ मुक्ता जी  ने वर्तमान समय में  रिश्तों की अहमियत, उन्हें निभाने की कला एवं रिश्तों में कड़वाहट आने से टूटने तक की प्रक्रिया की बेहद बेबाक एवं बारीकी से  विवेचना की  है.  इस बेहद संवेदनशील आलेख के लिए उनकी कलम को नमन. )   ☆ आलेख -  विश्वास बनाम बर्दाश्त ☆   'रिश्ते बनते तो विश्वास से हैं, परंतु चलते बर्दाश्त से हैं' इस वाक्य में इतनी बड़ी सीख छिपी है... जैसे सीप में अनमोल मोती। विश्वास ज़िन्दगी की अनमोल दौलत है। विश्वास...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ आशीष साहित्य – # 12 – अंतिम चेतावनी ☆ – श्री आशीष कुमार

श्री आशीष कुमार   (युवा साहित्यकार श्री आशीष कुमार ने जीवन में  साहित्यिक यात्रा के साथ एक लंबी रहस्यमयी यात्रा तय की है। उन्होंने भारतीय दर्शन से परे हिंदू दर्शन, विज्ञान और भौतिक क्षेत्रों से परे सफलता की खोज और उस पर गहन शोध किया है। अब  प्रत्येक शनिवार आप पढ़ सकेंगे  उनके स्थायी स्तम्भ  “आशीष साहित्य”में  उनकी पुस्तक  पूर्ण विनाशक के महत्वपूर्ण अध्याय।  इस कड़ी में आज प्रस्तुत है   “अंतिम चेतावनी ”।) Amazon Link – Purn Vinashak   ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ आशीष साहित्य – # 12 ☆   ☆ अंतिम चेतावनी  ☆   रावण ने कहा -  "हे बेवकूफ वानर, मैं वही रावण हूँ जिनकी बाहों की शक्ति पूरा कैलाश जानता है। मेरी बहादुरी की सराहना महादेव ने भी की है जिनके आगे मैंने अपने सिर भेट स्वरूप चढ़ायेहैं । तीनों दुनिया मेरे विषय में जानती है" अंगद ने कहा -  "आप अपने रिश्तेदारों के विषय में जानते हैं। ताड़का, मारिच, सुभाहू, और अन्य कई अब वह कहाँ हैं? वे भगवान राम के द्वारा जैसे वो बच्चों को खेल खिला रहे हो इस...
Read More

हिन्दी साहित्य – विजयादशमी पर्व विशेष – ☆ भारतीय संस्कृति के पोषक: श्रीराम ☆ – डॉ ज्योत्सना सिंह राजावत

विजयादशमी पर्व विशेष डॉ ज्योत्सना सिंह राजावत   (विजयादशमी पर्व के अवसर पर आज प्रस्तुत है डॉ. ज्योत्सना सिंह रजावत जी का विशेष आलेख “भारतीय संस्कृति के पोषक: श्रीराम”.)   ☆ भारतीय संस्कृति के पोषक: श्रीराम ☆   प्रेम दया करुणा के सिन्धु प्रभु श्री राम वाल्मीकि रामायण के आधार,भारतीय संस्कृति के पोषक ,अत्यंत गम्भीर, उच्चतम विचार एवं संयमित आचरण वाले राम के चरित्र को जानना समझना सहज नहीं है,लेकिन उनका सहृदयी स्वभाव,जन जन के हृदय में है। विपत्तिकाल में भी संयम और साहस की सीख श्री राम का चरित्र स्वयं में एक प्रमाण है ऋषि-मुनियों का मान,मात-पिता, गुरुओं का सम्मान, भाइयों के प्रति समर्पण, पशु-पक्षियों की सुध, जन-जन का चिन्तन ही उन्हें  राम बनाता है। महर्षि वाल्मीकि की अनुपम निधि रामायण एवं अन्य धार्मिक ग्रंथ राम के आदर्शों को आज भी बनाए हुए हैं महर्षि वाल्मीकि ने लगभग 24000 श्लोकों में आदि रामायण लिखी है जिसमें उन्होंने श्रीराम के चरित्र को आदर्श पुरुष के रूप में अंकित किया है प्रथम ग्रन्थ रामायण दूसरा अध्यात्म रामायण और तीसरा...
Read More
image_print