image_print

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ विवेक की पुस्तक चर्चा # 117 – “अस्तित्व की यात्रा (लघुकथा संग्रह)” – श्रीमती कान्ता राय ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’  (हम प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’जी के आभारी हैं जिन्होने  साप्ताहिक स्तम्भ – “विवेक की पुस्तक चर्चा” शीर्षक से यह स्तम्भ लिखने का आग्रह स्वीकारा। श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र जी, मुख्यअभियंता सिविल (म प्र पूर्व क्षेत्र विद्युत् वितरण कंपनी, जबलपुर ) पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। तकनीकी पृष्ठभूमि के साथ ही उन्हें साहित्यिक अभिरुचि विरासत में मिली है।  उनका पारिवारिक जीवन एवं साहित्य में अद्भुत सामंजस्य अनुकरणीय है। इस स्तम्भ के अंतर्गत हम उनके द्वारा की गई पुस्तक समीक्षाएं/पुस्तक चर्चा आप तक पहुंचाने का प्रयास  करते हैं। आज प्रस्तुत है श्रीमती कान्ता राय जी के लघुकथा संग्रह “अस्तित्व की यात्रा” की समीक्षा। ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक की पुस्तक चर्चा# 117 ☆ ☆ “अस्तित्व की यात्रा (लघुकथा संग्रह)” – श्रीमती कान्ता राय ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆ पुस्तक - अस्तित्व की यात्रा (लघुकथा संग्रह)    लेखिका - कान्ता राय पृष्ठ १६८, मूल्य ३६०, संस्करण २०२१ प्रकाशक... अपना प्रकाशन, भोपाल चर्चाकार... विवेक रंजन श्रीवास्तव, भोपाल श्रीमती कान्ता राय हाल ही राही रेंकिंग के इस वर्ष घोषित रचनाकारों में इस...
Read More

हिन्दी साहित्य- पुस्तक समीक्षा ☆ खामोशियों की गूँज (काव्य संग्रह) – सुश्री अदिति सिंह भदौरिया ☆ समीक्षक – श्री दीपक गिरकर ☆

श्री दीपक गिरकर ☆ पुस्तक चर्चा ☆ खामोशियों की गूँज (काव्य संग्रह) – सुश्री अदिति सिंह भदौरिया ☆ समीक्षक - श्री दीपक गिरकर ☆ पुस्तक  : खामोशियों की गूँज  (काव्य संग्रह)  लेखिका  : अदिति सिंह भदौरिया  प्रकाशक : पंकज बुक्स, 109-ए, पटपड़गंज गांव, दिल्ली -110091 आईएसबीएन : 978-81-8135-150-0 मूल्य   : 195 रूपए ☆ रूहानी प्रेम की कविताएं – श्री दीपक गिरकर ☆ “खामोशियों की गूँज” सुपरिचित लेखिका अदिति सिंह भदौरिया का प्रथम कविता संग्रह हैं। पत्र-पत्रिकाओं में इनके लेख, कहानियाँ, लघुकथाएँ, कविताएं और समसामयिक विषयों पर आलेख प्रकाशित होते रहे हैं। इस संग्रह में प्रेम, इश्क़,  मोहब्बत, रूमानियत को अभिव्यक्त करती कविताएं हैं। साहित्यिक विधाओं में कविता ही ऐसी विधा है जो रूहानी इल्म के सबसे ज्यादा करीब है। इस संकलन में 119 छोटी-छोटी कविताएं संकलित हैं। इस कविता संग्रह की भूमिका बहुत ही सारगर्भित रूप से वरिष्ठ साहित्यकार एवं राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के संपादक डॉ. लालित्य ललित ने लिखी है। डॉ. लालित्य ललित ने अपनी भूमिका में लिखा है - जीवन के हर पक्ष को बड़ी मासूमियत से अदिति ने ऑब्ज़र्व किया है। इसी कारण से...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ पुस्तक चर्चा ☆ “बचते बचते प्रेमालाप (व्यंग्य संग्रह)” – सुश्री अनीता श्रीवास्तव ☆ श्री राहुल देव ☆

श्री राहुल देव    ☆ पुस्तक चर्चा ☆ “बचते बचते प्रेमालाप (व्यंग्य संग्रह)” – सुश्री अनीता श्रीवास्तव ☆ श्री राहुल देव ☆ पुस्तक – बचते बचते प्रेमालाप (व्यंग्य संग्रह) लेखिका – सुश्री अनीता श्रीवास्तव पृष्ठ 142 मूल्य – 450/- संस्करण – 2022 प्रकाशक – अनामिका प्रकाशन, प्रयागराज ☆  सार्थक व्यंग्य की उमड़ती नदी  -    राहुल देव ☆ कहा जाता है कि विज्ञान की पृष्ठभूमि वाले लेखक कला वर्ग के साहित्यिकों के बनिस्पत अच्छे साहित्यकार होते हैं | व्यंग्यभूमि मध्य प्रदेश की उभरती हुई व्यंग्य लेखिका अनीता श्रीवास्तव का पहला व्यंग्य संग्रह ‘बचते बचते प्रेमालाप’ पढ़ते हुए यह बात पूरी तरह से सच होती दिखाई देती है | सबसे पहले तो मुझे किताब के कलात्मक कवर व रोमांटिक शीर्षक को देखकर एकबारगी कविता संग्रह का भ्रम हुआ लेकिन नहीं यह तो भरे पूरे व्यंग्यों से सजा हुआ शानदार व्यंग्य संग्रह निकला | इस संग्रह में उनके 42 व्यंग्य शामिल है जिनसे लेखिका के व्यंग्य प्रेम और उनके रचना प्रक्रिया का पर्याप्त परिचय पाठक को प्राप्त हो जाता है | सुश्री अनीता...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ विवेक की पुस्तक चर्चा # 116 – “रास्ते बंद नहीं होते” – सुश्री अनिता रश्मि ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’  (हम प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’जी के आभारी हैं जिन्होने  साप्ताहिक स्तम्भ – “विवेक की पुस्तक चर्चा” शीर्षक से यह स्तम्भ लिखने का आग्रह स्वीकारा। श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र जी, मुख्यअभियंता सिविल (म प्र पूर्व क्षेत्र विद्युत् वितरण कंपनी, जबलपुर ) पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। तकनीकी पृष्ठभूमि के साथ ही उन्हें साहित्यिक अभिरुचि विरासत में मिली है।  उनका पारिवारिक जीवन एवं साहित्य में अद्भुत सामंजस्य अनुकरणीय है। इस स्तम्भ के अंतर्गत हम उनके द्वारा की गई पुस्तक समीक्षाएं/पुस्तक चर्चा आप तक पहुंचाने का प्रयास  करते हैं। आज प्रस्तुत है सुश्री अनिता रश्मि द्वारा लिखित लघुकथा संग्रह “रास्ते बंद नहीं होते” की समीक्षा। ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक की पुस्तक चर्चा# 116 ☆ ☆ “रास्ते बंद नहीं होते” – सुश्री अनिता रश्मि ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆ पुस्तक चर्चा   पुस्तक - रास्ते बंद नहीं होते (लघुकथा संग्रह) लेखिका - सुश्री अनिता रश्मि पृष्ठ - १९६ , मूल्य - ३७५ , संस्करण - २०२१ प्रकाशक - इंडिया नेटबुक्स नोयडा सुश्री अनिता रश्मि लघुकथा का साहित्यिक भविष्य व्यापक है, क्योंकि परिवेश...
Read More

हिन्दी साहित्य- पुस्तक समीक्षा ☆ भीड़ और भेड़िए (व्यंग्य संग्रह) – श्री धर्मपाल महेन्द्र जैन ☆ समीक्षक – श्री दीपक गिरकर ☆

श्री दीपक गिरकर ☆ पुस्तक चर्चा ☆भीड़ और भेड़िए (व्यंग्य संग्रह) - श्री धर्मपाल महेन्द्र जैन ☆ श्री दीपक गिरकर ☆ समीक्षित कृति : भीड़ और भेड़िए (व्यंग्य संग्रह) लेखक   : धर्मपाल महेन्द्र जैन      प्रकाशक :  भारतीय ज्ञानपीठ, 18, इंस्टीट्यूशनल एरिया, लोदी रोड, नई दिल्ली - 110003  मूल्य   : 260 रूपए ☆ विसंगतियों पर तीव्र प्रहार का रोचक संग्रह  - श्री दीपक गिरकर ☆ “भीड़ और भेड़िए” चर्चित वरिष्ठ कवि-साहित्यकार श्री धर्मपाल महेन्द्र जैन का चौथा व्यंग्य संग्रह हैं। धर्मपाल जैन के लेखन का कैनवास विस्तृत है। वे कविता और गद्य दोनों में सामर्थ्य के साथ अभिव्यक्त करने वाले रचनाकार हैं। धर्मपाल महेन्द्र जैन की प्रमुख कृतियों में “सर क्यों दाँत फाड़ रहा है”, “दिमाग वालो सावधान”, “इमोजी की मौज में” (व्यंग्य संग्रह), “इस समय तक”, “कुछ सम कुछ विषम” (काव्य संग्रह) शामिल हैं। इनकी रचनाएँ निरंतर देश की लगभग सभी पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं। धर्मपाल महेन्द्र जैन की गिनती आज के चोटी के व्यंग्यकारों में है। इनका व्यंग्य रचना लिखने का अंदाज...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ विवेक की पुस्तक चर्चा # 115 – “पुत्तल का पुष्प वटुक” – सुश्री मीना अरोड़ा ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’  (हम प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’जी के आभारी हैं जिन्होने  साप्ताहिक स्तम्भ – “विवेक की पुस्तक चर्चा” शीर्षक से यह स्तम्भ लिखने का आग्रह स्वीकारा। श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र जी, मुख्यअभियंता सिविल (म प्र पूर्व क्षेत्र विद्युत् वितरण कंपनी, जबलपुर ) पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। तकनीकी पृष्ठभूमि के साथ ही उन्हें साहित्यिक अभिरुचि विरासत में मिली है।  उनका पारिवारिक जीवन एवं साहित्य में अद्भुत सामंजस्य अनुकरणीय है। इस स्तम्भ के अंतर्गत हम उनके द्वारा की गई पुस्तक समीक्षाएं/पुस्तक चर्चा आप तक पहुंचाने का प्रयास  करते हैं। आज प्रस्तुत है सुश्री मीना अरोड़ा द्वारा लिखित हास्य व्यंग्य उपन्यास  “पुत्तल का पुष्प वटुक” की समीक्षा। 💐 आज 28 जुलाई को विवेक रंजन के जन्म दिवस पर ई-अभिव्यक्ति परिवार की ओर से उन्हें बहुत बहुत बधाई 💐 शुभकामनाएं 💐 ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक की पुस्तक चर्चा# 115 ☆ ☆ “पुत्तल का पुष्प वटुक” – सुश्री मीना अरोड़ा ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆ पुत्तल का पुष्प वटुक (हास्य व्यंग्य उपन्यास) सुश्री मीना अरोड़ा शब्दाहुति प्रकाशन, नई दिल्ली पृष्ठ १४४...
Read More

हिन्दी साहित्य – पुस्तक चर्चा ☆ एक देश जिसे कहते हैं – बचपन – दीप्ति नवल ☆ श्री कमलेश भारतीय ☆

☆ पुस्तक चर्चा ☆ एक देश जिसे कहते हैं - बचपन - दीप्ति नवल ☆ श्री कमलेश भारतीय ☆ (एक संवेदनशील अभिनेत्री, कवियित्री एवं लेखिका की संवेदनशील पुस्तक पर चर्चा निश्चित रूप से श्री कमलेश भारतीय जी जैसे संवेदनशील-साहित्यकार की संवेदनशील दृष्टी एवं लेखनी ही न्याय दे सकती है, यह लिखने में मुझे कोई संदेह नहीं है। श्री कमलेश भारतीय जी की इस चर्चा को पढ़कर इस पुस्तक की ई-बुक किंडल पर डाउनलोड कर कुछ अंश पढ़ने से स्वयं को न रोक सका। इसका एक कारण और भी है, और वह यह कि दीप्ति नवल जी हमारे समय की उन अभिनेत्रियों में हैं, जिनके प्रति हमारी पीढ़ी के हृदय में अभिनेत्री एवं साहित्यकार के रूप में सदैव आदर की भावना रही है। - हेमन्त बावनकर, संपादक - ई- अभिव्यक्ति  ) श्री कमलेश भारतीय  (जन्म – 17 जनवरी, 1952 ( होशियारपुर, पंजाब)  शिक्षा-  एम ए हिंदी , बी एड , प्रभाकर (स्वर्ण पदक)। प्रकाशन – अब तक ग्यारह पुस्तकें प्रकाशित । कथा संग्रह – 6 और लघुकथा संग्रह- 4...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ विवेक की पुस्तक चर्चा # 114 – “थाने थाने व्यंग्य” – संपादक द्वय डा हरीश कुमार सिंग और डा नीरज सुधा्ंशु ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’☆

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’  (हम प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’जी के आभारी हैं जिन्होने  साप्ताहिक स्तम्भ – “विवेक की पुस्तक चर्चा” शीर्षक से यह स्तम्भ लिखने का आग्रह स्वीकारा। श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र जी, मुख्यअभियंता सिविल (म प्र पूर्व क्षेत्र विद्युत् वितरण कंपनी, जबलपुर ) पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। तकनीकी पृष्ठभूमि के साथ ही उन्हें साहित्यिक अभिरुचि विरासत में मिली है।  उनका पारिवारिक जीवन एवं साहित्य में अद्भुत सामंजस्य अनुकरणीय है। इस स्तम्भ के अंतर्गत हम उनके द्वारा की गई पुस्तक समीक्षाएं/पुस्तक चर्चा आप तक पहुंचाने का प्रयास  करते हैं। आज प्रस्तुत है संपादक द्वय डा हरीश कुमार सिंग और डा नीरज सुधा्ंशु द्वारा सम्पादित पुस्तक  “थाने थाने व्यंग्य” की समीक्षा। ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक की पुस्तक चर्चा# 114 ☆ ☆ “थाने थाने व्यंग्य ” – संपादक द्वय डा हरीश कुमार सिंग और डा नीरज सुधा्ंशु ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆   थाने थाने व्यंग्य  (३४ व्यंग्यकारों के पोलिस पर व्यंग्य लेखों का संग्रह) संपादक द्वय डा हरीश कुमार सिंग और डा नीरज सुधा्ंशु वनिका पब्लिकेशनन्स, बिजनौर पृष्ठ...
Read More

हिन्दी साहित्य – पुस्तक चर्चा ☆ “माई लाइफ़” – लेखिका – इज़ाडोरा डंकन – अनुवाद : युगांक धीर ☆ श्री सुरेश पटवा ☆

श्री सुरेश पटवा (श्री सुरेश पटवा जी  भारतीय स्टेट बैंक से  सहायक महाप्रबंधक पद से सेवानिवृत्त अधिकारी हैं और स्वतंत्र लेखन में व्यस्त हैं। आपकी प्रिय विधा साहित्य, दर्शन, इतिहास, पर्यटन आदि हैं। आपकी पुस्तकों  स्त्री-पुरुष “, गुलामी की कहानी, पंचमढ़ी की कहानी, नर्मदा : सौंदर्य, समृद्धि और वैराग्य की  (नर्मदा घाटी का इतिहास) एवं  तलवार की धार को सारे विश्व में पाठकों से अपार स्नेह व  प्रतिसाद मिला है। श्री सुरेश पटवा जी  ‘आतिश’ उपनाम से गज़लें भी लिखते हैं । आज से प्रस्तुत है इज़ाडोरा डंकन की आत्मकथा  "माय लाइफ" के श्री युगांक धीर द्वारा हिंदी भावानुवाद पर श्री सुरेश पटवा जी की पुस्तक चर्चा।) ☆ पुस्तक चर्चा ☆ “माई लाइफ़” – लेखिका – इज़ाडोरा डंकन - अनुवाद : युगांक धीर ☆ श्री सुरेश पटवा ☆ पुस्तक : माई लाइफ़ लेखिका : इज़ाडोरा डंकन प्रकाशक : संवाद प्रकाशन अनुवाद : युगांक धीर क़ीमत : 350.00 प्रकाशन वर्ष : 2002 यह समीक्षा इज़ाडोरा की आत्मकथा ‘माय लाइफ’ के हिन्दी अनुवाद ‘इज़ाडोरा की प्रेमकथा’ पढ़कर लिखी गयी है। उसके जन्मदिन 29 अप्रैल के दिन अंतरराष्ट्रीय नृत्य दिवस...
Read More

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ विवेक की पुस्तक चर्चा # 113 –“पंचमढ़ी एक खोज” – लेखक – श्री सुरेश पटवा  ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’  (हम प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’जी के आभारी हैं जिन्होने  साप्ताहिक स्तम्भ – “विवेक की पुस्तक चर्चा” शीर्षक से यह स्तम्भ लिखने का आग्रह स्वीकारा। श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र जी, मुख्यअभियंता सिविल (म प्र पूर्व क्षेत्र विद्युत् वितरण कंपनी, जबलपुर ) पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। तकनीकी पृष्ठभूमि के साथ ही उन्हें साहित्यिक अभिरुचि विरासत में मिली है।  उनका पारिवारिक जीवन एवं साहित्य में अद्भुत सामंजस्य अनुकरणीय है। इस स्तम्भ के अंतर्गत हम उनके द्वारा की गई पुस्तक समीक्षाएं/पुस्तक चर्चा आप तक पहुंचाने का प्रयास  करते हैं। आज प्रस्तुत है लेखक… श्री सुरेश पटवा जी की पुस्तक  “पंचमढ़ी एक खोज” की समीक्षा। ☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक की पुस्तक चर्चा# 113 ☆ ☆ “पंचमढ़ी एक खोज” – लेखक – श्री सुरेश पटवा  ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆   पंचमढ़ी एक खोज लेखक.. सुरेश पटवा वालनट पब्लिकेशन, भुवनेश्वर पृष्ठ ८४, मूल्य १४९ रु अमेज़न लिंक (कृपया यहाँ क्लिक करें)  👉 पंचमढ़ी एक खोज पर्यटन और साहित्य में गहरा नाता होता है. जब लेखक को पर्यटन के माध्यम से सुन्दर दृश्य, मनोरम...
Read More
image_print